Wednesday, Feb 20 2019 | Time 18:38 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • मंत्री ने धार्मिक,पुरातात्विक,ऐतिहासिक एवं सांस्कृतिक स्थलों की मांगी जानकारी
  • गडकरी ने किया मुरादाबाद और मेरठ में करोड़ों की परियोजनाओं का शिलान्यास
  • टेलर ने फ्लेमिंग को पीछे छोड़ा
  • आरपीएफ को विशेष अभियान में 922 लावारिस बच्चे मिले
  • नामवर पंचतत्व में विलीन, साहित्य में शोक की लहर
  • श्रम कार्ड के लम्बित आवेदनों का 15 दिन में होगा निस्तारण - डहरिया
  • जोशी ने दिये शहीद के आश्रित के लिए डेढ़ लाख
  • देश को गर्त में धकेलने का प्रयास कर रहे हैं विपक्षी दल-शर्मा
  • पाकिस्तान के खिलाफ भड़काऊ बयान देकर करतारपुर कॉरीडोर को नुकसान पहुंचा रहे : खेहरा
  • 73 साल की सुनीता के लिए उम्र सिर्फ एक नंबर
  • राष्ट्रीय ग्रिड से बिजली उपलब्ध कराना हुआ आसान : राजकुमार
  • चौथी भारत-आसियान प्रदर्शनी एवं सम्मेलन कल से
  • छत्तीसगढ़ सरकार पंचायतों से रेत खदाने लेंगी वापस – भूपेश
  • भारत से जाने वाले हाजियों का काेटा बढ़ा
  • अमेरिका आईएनएफ संधि से हटने को लेकर गंभीर नहीं : पुतिन
राज्य Share

राफेल विमानों की खरीद सौदा शताब्दी का सबसे बड़ा घोटाला:आनंद शर्मा

राफेल विमानों की खरीद सौदा शताब्दी का सबसे बड़ा घोटाला:आनंद शर्मा

वाराणसी, 05 सितंबर(वार्ता) कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं राज्यसभा सांसद आनंद शर्मा ने केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पर हमला बोलते हुए राफेल विमानों की खरीद सौदे को शताब्दी का सबसे बड़ा घोटाला करार देते हुए पूरे मामले की जांच संयुक्त संसदीय समिति (जेपीसी) से कराने की मांग दोहरायी है।

श्री शर्मा ने बुधवार को प्रधानमंत्री के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) नेतृत्व वाली केंद्र सरकार पर देश की संवैधानिक संस्थाओं एवं कानून के दुरुपयोग करने का गंभीर आरोप लगाया है।

पूर्व केंद्रीय मंत्री श्री शर्मा ने यहां संवाददाताओं से कहा कि कांग्रेस नेतृत्व वाली केंद्र सरकार के दौरान फ्रांस से 526 करोड़ रुपये प्रति राफेल विमान खरीदने का सौदे हुआ था जिसे मोदी सरकार तीन गुणा अधिक कीमत 1670 करोड़ रुपये प्रति विमान खरीद रही है। कांग्रेस कार्य समिति के सदस्य श्री शर्मा ने कहा कि राफेल खरीद मामले में प्रधानमंत्री मोदी ने कानून को ताक पर रख कर फैसला लिया तथा भारत के रक्षा मंत्री तक को इसकी जानकारी नहीं दी गई।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस द्वारा पूरे मामले की जांच संयुक्त संसदीय कमेटी (जेपीसी) कमेटी से कराने की मांग लगातार की जा रह है लेकिन जनता की गाढ़ी कमाई में से अरबों रुपये के इस घोटाले की जांच के लिए सरकार तैयार नहीं हो रही है।

राज्यसभा में विपक्ष के नेता श्री शर्मा ने कहा कि नोटबंदी मामले में भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के हालिया घोषणा से साबित होता है कि श्री मोदी के मनमाने फैसले देश को भारी नुकसान हुआ। इससे अर्थ व्यवस्था पर विपरीत असर पड़ा। उन्होंने कहा कि नोटबंदी से गरीब एवं मध्यम वर्ग का सबसे अधिक नुकसान हुआ और करोड़ों लोगों की रोजी-रोटी चली गई। श्री शर्मा ने कहा कि वर्ष 2019 के लोक सभा चुनाव में जनता इसका जवाब देगी और भाजपा को सत्ता से बाहर का रास्ता दिखायेगी।

उन्होंने कहा कि मोदी सरकार को अनुसूचित जाति एवं जनजाति कानून में संशोधन के लिए सर्वसम्मति बनानी चाहिए।

बीरेंद्र मुसन्ना तेज

वार्ता

image