Wednesday, Aug 5 2020 | Time 16:28 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • डाबर ने की ‘डाबर हिमालयन एप्पल साइडर विनेगर’ लॉन्च करने की घोषणा
  • राममंदिर बन सकता है एकता और भाईचारे का प्रतीक-गहलोत
  • खट्टर ने शुरू की ‘मुख्यमंत्री दूध उपहार’ और ‘महिला एवं किशोरी सम्मान योजना’
  • अयोध्या में सर्वोच्च मानवीय मर्यादाओं की पुनर्प्रतिष्ठा: नायडू
  • मंदिर के निर्माण से देश की एकता और आपसी सद्भाव में अभिवृद्धि होगी : बिरला
  • कश्मीर में राजनेताओं की मुलाकात से सरकार डरती है: उमर
  • कोचिंग में जाने वाले खिलाड़ियों के लिए कोचिंग एजुकेशन नयी दिशा: विक्रम
  • युवा शिक्षा के साथ राजनीति में आगे बढ़ें, सामाजिक दायित्व निभाएं : अजय चौटाला
  • त्रिपुरा में भ्रष्टाचार के खिलाफ आईपीएफटी का प्रदर्शन
  • त्रिवेंद्र भी अयोध्या में रामलला के दर्शन करने जाएंगे
  • लेबनान विस्फोट: 100 से अधिक की मौत, दो सप्ताह के आपातकाल की घोषणा
  • आयरलैंड ने हमें पूरी तरह पछाड़ दिया: मोर्गन
  • हरियाणा पुलिस की नागरिकों को अनजानी कॉल से स्तर्क रहने की एडवायज़री
राज्य » बिहार / झारखण्ड


जीएसटी के फर्जी निबंधन वालों के परिसर का होगा निरीक्षण : सुशील

जीएसटी के फर्जी निबंधन वालों के परिसर का होगा निरीक्षण : सुशील

पटना 19 नवंबर (वार्ता) बिहार के उप मुख्यमंत्री सह वित्तमंत्री सुशील कुमार मोदी ने आज चेतावनी देते हुए कहा कि वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) का फर्जी निबंधन करने वालों के परिसर का निरीक्षण किया जाएगा।

श्री मोदी ने यहां वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिए प्रदेश के 50 वाणिज्यकर अंचलों के 700 से अधिक करदाता कारोबारियों, कर सलाहकारों एवं अंकेक्षकों से जीएसटी से जुड़ी समस्याओं और सुझाव पर चर्चा करने के बाद बिना किसी कारोबार के जीएसटी का फर्जी निबंधन कराने वालों को चेतावनी देते हुए कहा कि सरकार एक अभियान चला कर वैसे लोगों के परिसर का निरीक्षण करेगी, जिन्होंने नया निबंधन तो करा लिया है लेकिन वास्तव में कोई कारोबार नहीं करते हैं।

उप मुख्यमंत्री ने बताया कि अभी तक 98 ऐसे करदाता पाए गए हैं, जिनका कोई अस्तित्व नहीं है। ऐसे लोग कागज पर ही 1921 करोड़ रुपए से अधिक का माल मंगा कर 419 करोड़ रुपए की करवंचना की है। सात लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई हैं, जिनमें फर्जी कारोबारियों के साथ सीए भी शामिल हैं। इसके साथ ही छह माह तक लगातार विवरणी दाखिल नहीं करने वाले 7368 कारोबारियों के निबंधन को रद्द किया गया है।

श्री मोदी ने बताया कि बिहार में वित्त वर्ष 2018-19 की तुलना में चालू वित्त वर्ष के आठ महीने में जीएसटी संग्रह में 6.73 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई है। इस वित्तीय वर्ष में अप्रैल से अक्टूबर 48 करोड़ रुपए की उपभोक्ता सामग्री बिहार में बिकने के लिए मंगाए गए जो पिछले साल की इसी अवधि से तीन प्रतिशत अधिक है। इनमें सर्वाधिक 8242 करोड़ रुपए का लौह एवं इस्पात, 3475 करोड़ रुपए के मोबाइल फोन, 3409 करोड़ रुपए के दुपहिया एवं तिपहिया वाहन तथा 3325 करोड़ रुपए के सीमेंट शामिल हैं।

उप मुख्यमंत्री ने बताया कि 20 लाख रुपए की जगह अब सालाना 40 लाख रुपए तक टर्नओवर वाले कारोबारियों के लिए निबंधन की अनिवार्यता नहीं होगी जबकि 20 लाख रुपए तक टर्नओवर वाले सेवा प्रदाताओं को निबंधन कराना होगा। कम्पोजिशन स्कीम में शामिल कारोबारियों के लिए टर्नओवर की सीमा एक करोड़ रुपए से बढ़ाकर डेढ़ करोड़ रुपए कर दी गई है, जिन्हें मामूली हिसाब-किताब रख कर नाममात्र का निश्चित कर देना होता है।

सूरज

जारी (वार्ता)

image