Saturday, Jan 18 2020 | Time 20:41 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • चंद्रबाबू ने तेदेपा संस्थापक रामा राव को दी श्रद्धांजलि
  • तटरक्षक दल ने डूबती नौका तथा पांच मछुआरों को बचाया
  • प्रज्ञा को जहरीला पत्र भेजने वाला डॉक्टर हिरासत में
  • गुजरात में शीतलहर जारी, नलिया 3 8 डिग्री के साथ सबसे ठंडा
  • सिद्दारमैया ने बाढ़, मंगलुरु फायरिंग पर शाह को घेरा
  • दिल्ली विस के पूर्व अध्यक्ष कांग्रेस नेता योगानंद शास्त्री का पार्टी से इस्तीफा
  • गरीबों के लिए समर्पित है झारखंड सरकार : हेमंत
  • शबाना सड़क दुर्घटना में घायल, अस्पताल में भर्ती
  • झारखंड में 139 कैदी होंगे रिहा
  • राजधानी भोपाल में ‘सीवियर कोल्ड डे’ सहित मध्यप्रदेश के आठ शहरों में ‘कोल्ड डे’
  • सोमालिया में अल-शबाब के 16 आतंकवादी ढेर
  • गंगटा जंगल में लूटपाट कर रहे तीन अपराधी गिरफ्तार
  • आदर्श शास्त्री ने कांग्रेस का दामन थामा
  • ज़ी ने लांच किया भोजपुरी मूवी चैनल ज़ी बाइस्कोप
  • तृणमूल के लिए कब्र साबित होगा नंदीग्राम : घोष
राज्य » बिहार / झारखण्ड


जीएसटी के फर्जी निबंधन वालों के परिसर का होगा निरीक्षण : सुशील

जीएसटी के फर्जी निबंधन वालों के परिसर का होगा निरीक्षण : सुशील

पटना 19 नवंबर (वार्ता) बिहार के उप मुख्यमंत्री सह वित्तमंत्री सुशील कुमार मोदी ने आज चेतावनी देते हुए कहा कि वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) का फर्जी निबंधन करने वालों के परिसर का निरीक्षण किया जाएगा।

श्री मोदी ने यहां वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिए प्रदेश के 50 वाणिज्यकर अंचलों के 700 से अधिक करदाता कारोबारियों, कर सलाहकारों एवं अंकेक्षकों से जीएसटी से जुड़ी समस्याओं और सुझाव पर चर्चा करने के बाद बिना किसी कारोबार के जीएसटी का फर्जी निबंधन कराने वालों को चेतावनी देते हुए कहा कि सरकार एक अभियान चला कर वैसे लोगों के परिसर का निरीक्षण करेगी, जिन्होंने नया निबंधन तो करा लिया है लेकिन वास्तव में कोई कारोबार नहीं करते हैं।

उप मुख्यमंत्री ने बताया कि अभी तक 98 ऐसे करदाता पाए गए हैं, जिनका कोई अस्तित्व नहीं है। ऐसे लोग कागज पर ही 1921 करोड़ रुपए से अधिक का माल मंगा कर 419 करोड़ रुपए की करवंचना की है। सात लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई हैं, जिनमें फर्जी कारोबारियों के साथ सीए भी शामिल हैं। इसके साथ ही छह माह तक लगातार विवरणी दाखिल नहीं करने वाले 7368 कारोबारियों के निबंधन को रद्द किया गया है।

श्री मोदी ने बताया कि बिहार में वित्त वर्ष 2018-19 की तुलना में चालू वित्त वर्ष के आठ महीने में जीएसटी संग्रह में 6.73 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई है। इस वित्तीय वर्ष में अप्रैल से अक्टूबर 48 करोड़ रुपए की उपभोक्ता सामग्री बिहार में बिकने के लिए मंगाए गए जो पिछले साल की इसी अवधि से तीन प्रतिशत अधिक है। इनमें सर्वाधिक 8242 करोड़ रुपए का लौह एवं इस्पात, 3475 करोड़ रुपए के मोबाइल फोन, 3409 करोड़ रुपए के दुपहिया एवं तिपहिया वाहन तथा 3325 करोड़ रुपए के सीमेंट शामिल हैं।

उप मुख्यमंत्री ने बताया कि 20 लाख रुपए की जगह अब सालाना 40 लाख रुपए तक टर्नओवर वाले कारोबारियों के लिए निबंधन की अनिवार्यता नहीं होगी जबकि 20 लाख रुपए तक टर्नओवर वाले सेवा प्रदाताओं को निबंधन कराना होगा। कम्पोजिशन स्कीम में शामिल कारोबारियों के लिए टर्नओवर की सीमा एक करोड़ रुपए से बढ़ाकर डेढ़ करोड़ रुपए कर दी गई है, जिन्हें मामूली हिसाब-किताब रख कर नाममात्र का निश्चित कर देना होता है।

सूरज

जारी (वार्ता)

More News
झारखंड में 139 कैदी होंगे रिहा

झारखंड में 139 कैदी होंगे रिहा

18 Jan 2020 | 7:44 PM

रांची 18 जनवरी (वार्ता) झारखंड सरकार ने राज्य की सात अलग-अलग जेलों में आजीवन कारावास की सजा काट चुके 139 कैदियों को रिहा करने की आज घोषणा की।

see more..
सृजन घोटाले के दो और मामलों में आरोप पत्र

सृजन घोटाले के दो और मामलों में आरोप पत्र

18 Jan 2020 | 7:25 PM

पटना 18 जनवरी (वार्ता) बिहार के बहचर्चित अरबों रुपये के सृजन घोटाले के दो और मामलों में केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने विशेष अदालत में आज छह लोगों के खिलाफ आरोप-पत्र दाखिल किया।

see more..
image