Saturday, Jan 25 2020 | Time 18:55 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • करीब साढ़े 12 सौ लोग विभिन्न पदकों से अलंकृत
  • भाजपा की सीएए, एनआरसी के माध्यम से विभाजनकारी नीति: रंधावा
  • नडाल प्री क्वार्टरफाइनल में, दूसरी सीड प्लिसकोवा भी बाहर
  • नेतन्याहू ने 71 वें गणतंत्र दिवस पर मोदी को दी बधाई
  • सीबीआई के 28 अधिकारियों एवं कर्मचारियों को पुलिस पदक
  • नागपुर में युवक की पत्थर से कुचल कर हत्या
  • हिमाचल थीम राज्य के रूप में भाग लेगा सूरजकुंड मेले में
  • यूएमसी ने केनरा बैंक की तीन शाखाओं को किया सील
  • पुणे में चुंगी के खिलाफ अनिश्चितकालीन आंदोलन की चेतावनी
  • गत्ता फैक्ट्री में लगी आग
  • मतदाताओं की जागरूकता ही सशक्त लोकतंत्र की आधारशिला : द्रौपदी
  • इनेलो में टूट थम नहीं रही है, कैथल जिलाध्यक्ष कांग्रेस में शामिल
  • अफगानिस्तान में सात तालिबानी आतंकवादी ढेर
  • भाजपा का गौरक्षा का नारा और दावा झूठाः हुड्डा
राज्य » गुजरात / महाराष्ट्र


महाराष्ट्र में फडनवीस ने ली मुख्यमंत्री पद की शपथ, बहुमत पर संशय कायम

महाराष्ट्र में फडनवीस ने ली मुख्यमंत्री पद की शपथ, बहुमत पर संशय कायम

मुुंबई, 23 नवंबर (वार्ता) महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव के बाद एक महीने तक चले सियासी गतिरोध के बाद अचानक नाटकीय घटनाक्रम में शनिवार सुबह को भारतीय जनता पार्टी के श्री देवेन्द्र फडनवीस ने मुख्यमंत्री पद और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के श्री अजीत पवार ने उप मुख्यमंत्री पद की शपथ ली जिसके साथ राज्य में दस दिन से लगा राष्ट्रपति शासन हट गया लेकिन नई सरकार के बहुमत को लेकर संशय बना हुआ है।

राज्य की राजनीति में शुक्रवार रात तेज गतिविधियों की परिणति सुबह करीब साढ़े सात बजे राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी द्वारा श्री फडनवीस को मुख्यमंत्री और राकांपा के श्री अजीत पवार को उप मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाये जाने के साथ हुई जिसने राजनीतिक पंडितों को भौंचक्का कर दिया।

राज्यपाल कोश्यारी ने श्री फडनवीस को सदन में अपना बहुमत सिद्ध करने के लिए 30 नवंबर तक का समय दिया है। लेकिन बहुमत को लेकर सत्ता पक्ष एवं विपक्ष अपने अपने दावे कर रहे हैं जिससे अनिश्चितता की स्थिति बनी हुई है। बताया जा रहा है कि श्री अजीत ने अपनी पार्टी के सभी 54 विधायकों के हस्ताक्षर वाली सूची राज्यपाल को सौंपी है। लेकिन दोपहर में पार्टी प्रमुख शरद पवार ने साफ कर दिया कि श्री अजीत का निर्णय पार्टी का फैसला नहीं है बल्कि व्यक्तिगत है। उन्होंने यह भी कहा कि राकांपा के अधिकतर विधायक उनके साथ हैं।

राकांपा विधायक दल की शाम को हुई बैठक में 40 से अधिक विधायकों के मौजूद होने और श्री शरद पवार के नेतृत्व में निष्ठा प्रकट करने का दावा किया गया जिससे फड़नवीस सरकार के पास बहुमत होने पर संशय गहरा गया।

टीम सचिन, उप्रेती

जारी वार्ता

image