Saturday, Jan 25 2020 | Time 20:10 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • उत्तराखंड कांग्रेस पुनर्गठित, 242 नेताओं को मिली संगठन में जगह
  • उत्तराखंड भाजपा अध्यक्ष भगत की विधानसभा में बनाया जाएगा स्टेडियम
  • केंद्र सरकार ने कोरोना वायरस पर स्थिति की समीक्षा की
  • 21 लोगों को पद्मश्री पुरस्कार
  • चीनी प्रशासन ने वुहान में कोरोना वायरस फैलने से रोकने के लिए 1230 डॉक्टरों को भेजा
  • भजनपुरा में ढही इमारत,एक छात्र की मौत,7 बचाये गये
  • भाजपा कार्यकर्ताओं ने इंदिरा हृदयेश का फूंका पुतला
  • सिख विचारधारा के प्रचार के लिए अमेरिका में खालसा विश्वविद्यालय स्थापित
  • अफगानिस्तान में 21 तालिबान आतंकवादी ढेर, 10 घायल
  • कोलाज स्पोर्ट्स ने जीता साहिबजादा अजीत सिंह का खिताब
  • कोलाज स्पोर्ट्स ने जीता साहिबजादा अजीत सिंह का खिताब
  • रेल कोच फैक्‍टरी में केन्द्रीयकृत सीसीटीवी नियंत्रण कक्ष स्थापित
  • राष्ट्र निर्माण में योगदान देना हर नागरिक का कर्तव्य : बिरला
  • बोपन्ना मिश्रित युगल के दूसरे दौर में
  • बोपन्ना मिश्रित युगल के दूसरे दौर में
राज्य » उत्तर प्रदेश


खेती पर बढ़ती लागत के चलते किसानों की दशा बिगड़ रही है: टिकैत

खेती पर बढ़ती लागत के चलते किसानों की दशा  बिगड़ रही है: टिकैत

बस्ती, 11 दिसम्बर (वार्ता) भारतीय किसान यूनियन (भाकियू) प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा कि खेती पर बढ़ती लागत और फसल का लाभकारी दाम नहीं मिलने से देश के किसानों की दशा निरंतर बिगड़ रही है ।

श्री टिकैत आज यहां मुण्डेरवा चीनी मिल परिसर में आयोजित शहीद किसान मेले में बतौर मुख्य अतिथि बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि केन्द्र सरकार और प्रदेश सरकार के तमाम दावों के बाद भी किसानों को उसके उत्पादन का लाभकारी मूल्य नहीं मिल पा रहा है। जिसके कारण किसान की आर्थिक हालत बिगड़ती जा रही है। उन्होंने कहा कि खेती किसान के लिए फायदेमंद नहीं रह गई है।

उन्होंने कहा कि गन्ना उत्पादन में बढ़ती लागत को देखते हुए कम से कम 450 रूपया प्रति कुन्तल मूल्य किया जाना चाहिए। इतना ही नहीं किसानों का बकाया गन्ना मूल्य ब्याज सहित भुगतान कराया जाये । उन्होंने कहा कि धान खरीद केन्द्र कागजो पर ही चल रहे है। उन्होंने किसानो को धान का मूल्य समय से भुगतान कराने की मांग की। किसानों की समस्याओं की विस्तार से चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि देश हित में किसानों की दशा सुधारी जाये। इस मौके पर भाकियू उपाध्यक्ष बलराम सिंह सहित अन्य नेताओं ने भी सम्बोधित किया।

गौरतलब है कि 11 दिसम्बर 2002 को मुण्डेरवा चीनी मिल परिसर में गन्ना मूल्य भुगतान और बन्द चीनी मिल चलाने की मांग को लेकर किसानों के धरना के दौरान हुए हिंसक घटना में तिलक राज चौधरी,बद्री प्रसाद चौधरी,धर्मराज उर्फ जुगानी चौधरी की मृत्यु हो गयी थी। तभी से शहीद किसानों की स्मृति मे प्रत्येक वर्ष 11 दिसम्बर को मुण्डेरवा चीनी मिल परिसर में किसान मेले का आयोजन किया जाता है।

सं त्यागी

वार्ता

More News
महिलाओं के धरने से घबरा गयी है योगी सरकार : अखिलेश

महिलाओं के धरने से घबरा गयी है योगी सरकार : अखिलेश

25 Jan 2020 | 7:57 PM

लखनऊ 25 जनवरी (वार्ता) समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि लखनऊ के घंटाघर में महिलाओं के प्रदर्शन से घबराई भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सरकार उन पर धरना खत्म करने का दबाव बनाने में लगी है।

see more..
किसानो को धोखा दे रही है योगी सरकार : लल्लू

किसानो को धोखा दे रही है योगी सरकार : लल्लू

25 Jan 2020 | 7:57 PM

मथुरा, 25 जनवरी (वार्ता) योगी सरकार पर किसानो काे धोखा देने के आरोप लगाते हुये उत्तर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने शनिवार को कहा कि सरकारी उत्पीड़न के शिकार अन्नदाताओं की पीड़ा सुनने के बजाय उन पर मुकदमें दर्ज किये जा रहे हैं।

see more..
image