Tuesday, Aug 4 2020 | Time 16:48 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • सिरमौर में आईआईएम के स्थाई परिसर का शिलान्यास
  • बस्ती में कोरोना 37 नए कोरोना पॉजिटिव मिले, संख्या 998 पहुंची
  • ऑस्ट्रेलिया-विंडीज टी-20 सीरीज अनिश्चितकाल के लिए स्थगित, आईपीएल को फायदा
  • व्हाइट वस्टिंगहाउस एसपीपीएल के साथ भारतीय उपभोक्ता बाजार में
  • रुड़की में वेस्ट टू एनर्जी प्लांट की बिड प्रक्रिया पूर्ण करने के निर्देश
  • कोरोना के चलते ‘कजली महोत्सव’ की सदियों पुरानी परंपरा इसबार टूट गई
  • न्यूजीलैंड दौरे से मयंक ने काफी कुछ सीखा होगा: नेहरा
  • जेएनयू को सरकार ने दिए 455 करोड़ रुपये
  • इनसो स्थापना दिवस पर अजय चौटाला ने किया रक्तदान
  • चार दिन की गिरावट से उबरा शेयर बाजार, सेंसेक्स 748 अंक चढ़ा
  • पोम्पियो-बरादर ने की अंत:अफगान वार्ता पर चर्चा
  • चीन में गोदाम ढहने से सात लोग मलबे में फंसे
  • मित्रों पर एक महीने में देखे गए 9 अरब वीडियो
  • ऑनलाइन बी2बी ज्वैलरी प्रदर्शनी की घोषणा
राज्य » उत्तर प्रदेश


खेती पर बढ़ती लागत के चलते किसानों की दशा बिगड़ रही है: टिकैत

खेती पर बढ़ती लागत के चलते किसानों की दशा  बिगड़ रही है: टिकैत

बस्ती, 11 दिसम्बर (वार्ता) भारतीय किसान यूनियन (भाकियू) प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा कि खेती पर बढ़ती लागत और फसल का लाभकारी दाम नहीं मिलने से देश के किसानों की दशा निरंतर बिगड़ रही है ।

श्री टिकैत आज यहां मुण्डेरवा चीनी मिल परिसर में आयोजित शहीद किसान मेले में बतौर मुख्य अतिथि बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि केन्द्र सरकार और प्रदेश सरकार के तमाम दावों के बाद भी किसानों को उसके उत्पादन का लाभकारी मूल्य नहीं मिल पा रहा है। जिसके कारण किसान की आर्थिक हालत बिगड़ती जा रही है। उन्होंने कहा कि खेती किसान के लिए फायदेमंद नहीं रह गई है।

उन्होंने कहा कि गन्ना उत्पादन में बढ़ती लागत को देखते हुए कम से कम 450 रूपया प्रति कुन्तल मूल्य किया जाना चाहिए। इतना ही नहीं किसानों का बकाया गन्ना मूल्य ब्याज सहित भुगतान कराया जाये । उन्होंने कहा कि धान खरीद केन्द्र कागजो पर ही चल रहे है। उन्होंने किसानो को धान का मूल्य समय से भुगतान कराने की मांग की। किसानों की समस्याओं की विस्तार से चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि देश हित में किसानों की दशा सुधारी जाये। इस मौके पर भाकियू उपाध्यक्ष बलराम सिंह सहित अन्य नेताओं ने भी सम्बोधित किया।

गौरतलब है कि 11 दिसम्बर 2002 को मुण्डेरवा चीनी मिल परिसर में गन्ना मूल्य भुगतान और बन्द चीनी मिल चलाने की मांग को लेकर किसानों के धरना के दौरान हुए हिंसक घटना में तिलक राज चौधरी,बद्री प्रसाद चौधरी,धर्मराज उर्फ जुगानी चौधरी की मृत्यु हो गयी थी। तभी से शहीद किसानों की स्मृति मे प्रत्येक वर्ष 11 दिसम्बर को मुण्डेरवा चीनी मिल परिसर में किसान मेले का आयोजन किया जाता है।

सं त्यागी

वार्ता

image