Saturday, Nov 17 2018 | Time 16:55 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • झांसी: ट्रक की टक्कर से बाईक सवार बच्ची की मौत
  • भाजपा की तीसरी सूची में भी मुस्लिम को मौका नहीं
  • चुनाव आयोग के निर्देश पर छत्तीसगढ़ के जनसम्पर्क सचिव हटे
  • भाजपा ने गोवा में खड़ा कर दिया संवैधानिक संकट : कांग्रेस
  • नेतृत्व में ‘यू टर्न’ आवश्यक है : इमरान
  • लगातार तीसरे दिन घटे पेट्रोल-डीजल के दाम
  • सोनिया ने मोरक्को की दोआ को धो डाला
  • सीट बंटवारे के लिए रालोसपा ने भाजपा को दी 30 नवंबर की डेडलाइन
  • अयोध्या में चौदह कोसी परिक्रमा सम्पन्न
  • खरसिया का गढ़ बचाने कांग्रेस को बहाने पड़ रहे आंसू
  • बादल जत्थेदारों को अपने सरकारी निवास पर तलब करने का मकसद बतायें
  • 45 तालुका आंशिक सूखाग्रस्त घोषित
  • वित्त मंत्रालय में अपने काम से संतुष्ट : अधिया
  • सरकार की उपलब्धियों को जन-जन तक पहुंचाने के लिये भाजपा ने निकाली कमल संदेश बाइक रैली
  • गुजरात में समुद्र के खारे पानी को पीने योग्य बनाने वाले संयंत्र के लिए समझौता
बिजनेस Share

निजी कम्पनियां कृषि अनुसंधान एवं विकास में निवेश करें :रमेश चंद

नयी दिल्ली 11 सितम्बर (वार्ता) नीति आयोग के सदस्य रमेश चंद ने निजी क्षेत्र से कृषि अनुसंधान एवं विकास पर अधिक राशि निवेश करने की अपील करते हुये मगलवार को कहा कि इससे किसानों , उद्योगों और आमलोगों को फायदा होगा।
श्री चंद ने फिक्की और खाद्य क्षेत्र की कम्पनी कारगिल की ओर से खाद्य वस्तुओं पर आयोजित एक सम्मेलन को सम्बोधित करते हुए कहा कि देश में कृषि अनुसंधान एवं विकास पर केवल 0.3 प्रतिशत राशि ही खर्च की जाती है जबकि चीन में यह राशि 0.4 प्रतिशत है। भारत के अलावा दूसरे देशों में निजी कम्पनियां कृषि अनुसंधान एवं विकास पर अधिक राशि खर्च करती है। यहां तक की चीन में भी निजी कम्पनियां अधिक खर्च करती हैं । निजी क्षेत्र देश में कृषि के क्षेत्र में काफी कम निवेश कर रहे हैं ।
उन्होंने कहा कि देश में कुपोषण की समस्या के समाधान के लिए जागरुकता अभियान चलाया जाना चाहिए जिससे लोगों को पता चले कि उन्हें क्या खाना और क्या नहीं खाना है । उन्होंने खानपान की वस्तुओं में कृत्रिम फोर्टीफिकेशन की जगह जैविक फोर्टीफिकेशन पर जोर देते हुए कहा कि भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद ने खाद्यान्नों की कई ऐसी किस्में विकसित की है जिनमें अधिक मात्रा में विटामिन , प्रोटीन , आयरन और सूक्ष्म पोषक तत्व हैं ।
श्री चंद ने उर्वरकों के संतुलित इस्तेमाल पर जोर देते हुए कहा कि पंजाब और हरियाणा में गेहूं की कुछ किस्मों में 11 प्रतिशत तक प्रोटीन पाया जाता है जबकि हिमाचल प्रदेश में रासायनिक उर्वरकों का बहुत कम उपयोग किया जाता है वहां की गेहूं में सात से आठ प्रतिशत ही प्रोटीन पाया जाता है।
अरुण/शेखर
जारी/ वार्ता
More News

चेन्नई सर्राफा के भाव

17 Nov 2018 | 4:04 PM

 Sharesee more..

बाजार भाव दो अंतिम जबलपुर

17 Nov 2018 | 4:00 PM

 Sharesee more..

जबलपुर बाजार भाव

17 Nov 2018 | 3:59 PM

 Sharesee more..
image