Monday, Jan 20 2020 | Time 22:31 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • चाड में बम विस्फोट, 11 लोगों की मौत
  • हेमंत ने बिजली की समस्या पर झारखंडवासियों को लिखा पत्र
  • सोनिया ने कांग्रेस शासित राज्यों में गठित की समितियां
  • देश में तीन करोड़ राशन कार्ड फर्जी : पासवान
  • बरेली में लेखपाल चार हाजार रिश्वत लेते रंगेहाथ गिरफ्तार
  • सोनिया ने गठित की घोषणा पत्र क्रियान्वयन समितियां
  • गोरखपुर पुलिस ने किए दो वांछित इनामी बदमाश गिरफ्तार
  • नागरिकता संशोधन कानून में सुधार की जरुरत: नजीब
  • बांका में भारी मात्रा में विस्फोटक बरामद
  • जौनपुर में तस्कर गिरफ्तार,मकान से साढ़े आठ लाख का गांजा बरामद
  • यूनीटेक का प्रबंधकीय नियंत्रण केंद्र लेगा
  • पत्रकारिता कठिन दौर से गुजर रही है : कोविंद
  • फोटो कैप्शन तीसरा सेट
  • वाराणसी से आईएसआई एजेन्ट गिरफ्तार
  • संदिग्ध आईएसआई एजेंट दिन की रिमांड पर,एटीएस करेगी पूछताछ
राज्य » गुजरात / महाराष्ट्र


शिव सेना को किस आधार पर राजग से बाहर निकाला गया: सामना

शिव सेना को किस आधार पर राजग से बाहर निकाला गया: सामना

मुंबई, 19 नवंबर (वार्ता) शिव सेना ने राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) से हटाये जाने के संबंध में कहा है कि राजग से शिवसेना को हटाने के लिए उचित प्रक्रियाओं का पालन किया गया या नहीं, क्या इस तरह का कदम उठाने से पहले कोई कारण बताओ नोटिस जारी किया गया।

शिव सेना ने पार्टी के मुखपत्र सामना के आज के संपादकीय में लिखा है कि केन्द्रीय मंत्री प्रह्लाद जोशी ने शिव सेना को राजग से बाहर निकालने की घोषणा करते हुए कहा कि शिव सेना का संबंध कांग्रेस के साथ है, इसलिए शिव सेना को राजग से निकाला जाता है और शिव सेना सांसदों को संसद में विपक्षी खेमे में बैठाया गया।

सामना में आगे लिखा है कि जिस राजग से शिव सेना को निकाला गया है उस राजग की स्थापना में दिवंगत बाल ठाकरे, पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी, भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी आदि का विशेष योगदान है। शिव सेना को राजग से निकालने के पहले क्या राजग में शामिल दलों की बैठक बुलायी गयी, क्या इस पर चर्चा हुयी या फिर मनमाने ढंग से घोषणा कर दी गयी। जिसने भी शिव सेना को राजग से बाहर निकालने की घोषणा की उसे शिव सेना का मर्म और राजग का कर्म-धर्म का पता नहीं है।

राजग की जब नींव रखी गयी तब आज के कई नेताओं का जन्म भी नहीं हुआ रहा होगा। शिव सेना को निकालने का किस आधार पर निर्णय लिया गया, जो कुछ भी किया गया, वह उचित नहीं है।

त्रिपाठी.श्रवण

वार्ता

image