Sunday, Sep 20 2020 | Time 16:52 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • भारतीय मूल के जज अमेरिकी सुप्रीम कोर्ट के नये न्यायाधीश की दौर में आगे
  • आईपीएल जीतने का विराट सपना लेकर उतरेंगे कोहली
  • भाटला सामाजिक प्रकरण के शिकायतकर्ता पर हमला, दो गिरफ्तार
  • बिहार: बीएड संयुक्त प्रवेश परीक्षा-2020 को लेकर सभी तैयारियां पूरी, 22 सितंबर को होगी परीक्षा
  • बंगलादेश में 10 6 करोड़ लोग कर रहे हैं इंटरनेट का इस्तेमाल
  • ईरान पर फिर से पाबंदी लगने के अमेरिकी दावे से इंकार
  • चैंपियन नडाल बाहर, जोकोविच सेमीफाइनल में
  • चैंपियन नडाल बाहर, जोकोविच सेमीफाइनल में
  • विदेश मंत्री जयशंकर की माता का निधन
  • घंटों जाम लगाए रखा हिसार में
  • राज्यसभा में हुए हंगामे के मद्देनजर लोकसभा की कार्यवाही बाधित
  • कृषि क्षेत्र में आमूलचूल परिवर्तन आयेगा : मोदी
  • ट्रेनों से अहमदाबाद आए यात्रियों में से 25 कोरोना पॉजिटिव
  • एमएसपी प्रणाली जारी रहेगी: मोदी
  • पाककिस्तान के नापाक मंसूबे बेनकाब
राज्य » गुजरात / महाराष्ट्र


धर्मेन्द्र को शुरूआती दौर में करना पड़ा संघर्ष

(जन्मदिवस 08 दिसंबर के अवसर पर)
मुंबई, 07 दिसंबर (वार्ता) बॉलीवुड में अपने दमदार अभिनय से दर्शकों का अपना दीवाना बनाने वाले ‘हीमैन’ धर्मेन्द्र को अपने सिने करियर के शुरूआती दौर में संघर्ष करना पड़ा। धमेन्द्र को वह दिन भी देखना पड़ा था जब निर्माता-निर्देशक उनसे यह कहते आप बतौर अभिनेता फिल्म इंडस्ट्री के लिये उपयुक्त नही है और आपको अपने गांव वापस लौट जाना चाहिये।
पंजाब के फगवारा में 08 दिसंबर 1935 को जन्मे धर्मेन्द्र का रूझान बचपन के दिनों से ही फिल्मों की ओर था और वह अभिनेता बनना चाहते थे। फिल्मों की ओर उनकी दीवानगी का अंदाज इस बात से लगाया जा सकता है कि फिल्म देखने के लिये वह मीलों पैदल चलकर शहर जाते थे। फिल्म अभिनेत्री सुरैया के वह इस कदर दीवाने थे कि उन्होंने वर्ष 1949 में प्रदर्शित फिल्म “दिल्लगी” चालीस बार देखी।
वर्ष 1958 में फिल्म इंडस्ट्री की मशहूर पत्रिका फिल्म फेयर का एक विज्ञापन निकाला जिसमें नये चेहरों को बतौर अभिनेता काम देने की पेशकश की गयी थी। धर्मेन्द्र इस विज्ञापन को पढ़कर काफी खुश हुये अमेरीकन टयूबबैल में अपनी नौकरी को छोड़कर अपने सपनों को साकार करने के लिये मायानगरी मुंबई आ गये। मुंबई आने के बाद धर्मेन्द्र को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा।
फिल्म इंडस्ट्री में बतौर अभिनेता काम पाने के लिये वह एक स्टूडियो से दूसरे स्टूडियो भटकते रहे। वह जहां भी जाते उन्हें खरी खोटी सुननी पड़ती। धर्मेन्द्र चूंकि विवाहित थे अत कुछ निर्माता उनसे यह कहते कि यहां तुम्हें काम नही मिलेगा। कुछ लोग उनसे यहां तक कहते तुम्हें अपने गांव लौट जाना चाहिये और वहां जाकर फुटबॉल खेलना चाहिये लेकिन धर्मेन्द्र उनकी बात को अनसुना कर अपना संघर्ष जारी रखा ।इसी दौरान धर्मेन्द्र की मुलाकात निर्माता-निर्देशक अर्जुन हिंगोरानी से हुयी जिन्होंने धर्मेन्द्र की प्रतिभा को पहचान अपनी फिल्म “दिल भी तेरा हम भी तेरे” में बतौर अभिनेता काम करने का मौका दिया लेकिन फिल्म की असफलता ने धर्मेन्द्र को गहरा धक्का लगा और एक बार उन्होंने यहां तक सोंच लिया कि मुंबई में रहने से अच्छा है गांव लौट जाया जाये। बाद में धर्मेन्द्र ने फिल्म इंडस्ट्री में अपनी पहचान बनाने के लिये संघर्ष करना शुरू कर दिया।
प्रेम, उप्रेती
जारी वर्ता
More News
‘माई फेमिली,माई रिस्पांसिबिलिटी’ अभियान में पुलिस की भी हो भागीदारी: भुजबल

‘माई फेमिली,माई रिस्पांसिबिलिटी’ अभियान में पुलिस की भी हो भागीदारी: भुजबल

20 Sep 2020 | 9:33 AM

नासिक 20 सितम्बर(वार्ता) महाराष्ट्र के खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति और नासिक जिले के प्रभारी मंत्री छगन भुजबल ने कहा है कि ‘माई फेमिली , माई रिस्पांसबिलिटी’ अभियान के तहत सर्वे टीम में पुलिस को भी शामिल किया जाना चाहिए।

see more..
अंडमान-निकोबार में गरज के साथ आंधी-तूफ़ान की आशंका

अंडमान-निकोबार में गरज के साथ आंधी-तूफ़ान की आशंका

19 Sep 2020 | 10:40 PM

पुणे, 19 सितंबर (वार्ता) अंडमान-निकोबार द्वीप के कई इलाकों में अगले 24 घंटों के दौरान 50 से 60 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ़्तार से हवाएं चल सकती हैं और गरज के साथ छीटें भी पड़ सकते हैं।

see more..
नहीं रहीं वाम नेता रोजा, 92 वर्ष की उम्र में निधन

नहीं रहीं वाम नेता रोजा, 92 वर्ष की उम्र में निधन

19 Sep 2020 | 6:50 PM

मुंबई, 19 सितंबर (वार्ता) वाम नेता एवं पूर्व सांसद रोजा देशपांडे का शनिवार को यहां निधन हो गया। वह 92 वर्ष की थीं।

see more..
जायकवाड़ी बांध से पानी छोड़े जाने को लेकर लोगों को किया गया सतर्क

जायकवाड़ी बांध से पानी छोड़े जाने को लेकर लोगों को किया गया सतर्क

19 Sep 2020 | 5:55 PM

जालना, 19 सितंबर (वार्ता) महाराष्ट्र के लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री और जालना जिले के अभिभावक मंत्री राजेश टोपे ने शनिवार को गोदावरी नदी के पास रहने वाले लोगों से पैठण से जायकवाड़ी बांध से बड़ी मात्रा में अतिरिक्त पानी छोड़े जाने को लेकर सतर्क रहने की अपील है।

see more..
image