Saturday, Jan 16 2021 | Time 14:14 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • फ्रांस में नौ धार्मिक स्थल बंद
  • जमुई में ऑटोरिक्शा के नदी में गिरने से चालक की मौत, नौ घायल
  • वैक्सीन लगने के बाद भी सावधानी बरतने की जरुरत-गहलोत
  • त्रिपुरा में पुनरीक्षित मतदाता सूची का प्रकाशन
  • रोहित के खिलाफ अपनी सर्वश्रेष्ठ गेंद डालने की कोशिश कीः लियोन
  • रोहित के खिलाफ अपनी सर्वश्रेष्ठ गेंद डालने की कोशिश कीः लियोन
  • क्रिकेटर भाइयों हार्दिक और कुणाल पंड्या के पिता का निधन
  • क्रिकेटर भाइयों हार्दिक और कुणाल पंड्या के पिता का निधन
  • भूटानी प्रधानमंत्री ने मोदी को दी बधाई
  • वैक्सीन से लेकर टीकाकरण अभियान को दिशा देने में प्रधानमंत्री की भूमिका सराहनीय : राजनाथ
  • कोरोना टीकाकरण की शुरुआत देश के इतिहास का अहम दिन : नड्डा
  • 'मेड इन इंडिया' वैक्सीन आत्मनिर्भर भारत के संकल्प की परिचायक : शाह
  • भारत-ऑस्ट्रेलिया के बीच दूसरे दिन का स्कोर बोर्ड
  • गहलोत ने किया कोरोना वैक्सीन लगाने का राज्यस्तरीय अभियान का शुभारंभ
राज्य » अन्य राज्य


चेन्नई: तमिल प्रकाशक का कोरोना से निधन

चेन्नई, 17 नवंबर (वार्ता) तमिल-अंग्रेजी शब्दकोश का प्रकाशन करने वाले अनुभवी तमिल प्रकाशक एस रामकृष्णन का मंगलवार देर रात कोरोना वायरस संक्रमण से निधन हो गया।
वह 75 साल के थे। द्रविड़ मुन्नेत्र कषगम (डीएमके) के अध्यक्ष एम के स्टालिन ने श्री रामकृष्णन के निधन पर शोक व्यक्त करते हुये शोक संतप्त परिवार के प्रति अपनी संवेदना व्यक्त की है।
कोरोना वायरस से संक्रमित होने पर श्री रामकृष्णन का ओमांदूर सरकारी एस्टेट में सरकारी मल्टी सुपर स्पेशिएलिटी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उनकी हालत कुछ दिन पहले ही खराब हो गयी थी और मंगलवार रात को उनका निधन हो गया। उनकी हालत बिगड़ते देख उनके एक प्रोजेक्ट के तीसरे संस्करण जिसके साथ वह लगभग 30 वर्षों से जुड़े रहे ‘क्रे-ए : डिक्शनरी ऑफ कंटेंपररी तमिल (तमिल-तमिल-अंग्रेजी)’ को अस्पताल में ही जारी किया गया।
उल्लेखनीय है कि 30 वर्ष की उम्र में एक प्रकाशक के रूप में उभरने से पहले सामाजिक कार्य में स्नातकोत्तर की पढ़ाई और रामकृष्णन का विज्ञापन में एक संक्षिप्त कार्यकाल था। उन्होंने तमिल में गंभीर साहित्य को सामने लाने के उद्देश्य से 1974 में एक तमिल प्रकाशन फर्म ‘क्रे-ए’ की स्थापना की थी। उन्होंने अपने प्रकाशनों में पर्यावरण, स्वास्थ्य देखभाल, कृषि, आधुनिक पश्चिमी दर्शन और प्रौद्योगिकी जैसे शीर्षकों पर काफी जाेर दिया। ‘क्रे-ए’ ने मोनी, अशोक मित्रन, सा कंदासामी, सुंदरा रामास्वामी, ना मुथुस्वामी और एसवी राजादुराई जैसे प्रमुख तमिल लेखकों और विचारकों के अलावा हिंदी, बंगाली और कन्नड़ में साहित्यिक कृतियों के तमिल अनुवादों को भी प्रकाशित किया है।
सं.श्रवण
वार्ता
More News
पुड्डुचेरी में मंत्री कंडासामी के अनिश्चितकालीन धरने का सातवां दिन

पुड्डुचेरी में मंत्री कंडासामी के अनिश्चितकालीन धरने का सातवां दिन

16 Jan 2021 | 10:08 AM

पुड्डुचेरी, 16 जनवरी (वार्ता) पुड्डुचेरी के कल्याण मंत्री एम कंडासामी का अपनी मांग को लेकर विधानसभा परिसर में चला रहा अनिश्चितकालीन धरना शनिवार को सातवें दिन भी जारी रहा।

see more..
राजनाथ ने की एयर शो की तैयारियों की समीक्षा

राजनाथ ने की एयर शो की तैयारियों की समीक्षा

15 Jan 2021 | 9:24 PM

बेंगलुरु,15 जनवरी (वार्ता) रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने द्विवार्षिक एयर शो एयरो इंडिया 2021 और विमानन प्रदर्शनी की तैयारियों की शुक्रवार को यहां समीक्षा की जो तीन से सात फरवरी तक शहर में आयोजित होगी।

see more..
image