Saturday, Jan 23 2021 | Time 07:59 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • शाह ने नेताजी को श्रद्धांजलि अर्पित की
  • मोदी ने नेताजी की जयंती पर उन्हें नमन किया
  • अमेरिका ने दूतावास के एक पूर्व कर्मचारी पर साजिश के लगाए आरोप
  • फाइजर ने मार्च के अंत तक 40 लाख डोज देने का किया वादाः ट्रूडो
  • चीनी वैक्सीन की दूसरी खेप सप्ताह के अंत तक पहुंचने की संभावनाः एर्दोगन
  • उत्तर कोरिया के निवारण के लिए साझेदारों के साथ काम कर रहे हैंः व्हाइट हाउस
  • आने वाले दिनों में कोरोना से और मौतें हो सकती हैंः जॉनसन
  • केन्या एयरवेज ने फ्रांस और हॉलैंड के लिए उड़ाने निलंबित की
  • ब्राजील में कोरोना से 1316 और मरीजों की मौत
  • बिडेन ने मेक्सिको के राष्ट्रपति से की बातः व्हाइट हाउस
  • नारायणसामी राष्ट्रपति से मुलाकात नहीं कर पाएंगे
राज्य » अन्य राज्य


असम के बच्चों ने राजनीतिक दलों से चुनाव घोषाणपत्र में उनके मुद्दे रखने की मांग की

गुवाहाटी, 20 नवंबर (वार्ता) असम में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनावों की तैयारी चल रही है और राज्य के बच्चों ने सभी राजनीतिक दलों से अपने घोषणापत्र में उनके मुद्दों और सिफारिशों को शामिल करने की मांग की है।
असम में निवेश के लिए स्पष्ट आह्वान बच्चों के लिए बेहतर है। विश्व बाल दिवस पर बच्चों ने आज यहां मीडिया के समक्ष एक घोषणापत्र प्रस्तुत किया गया।
घोषणापत्र को मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल को शनिवार को सौंपा जाएगा। अगले कुछ सप्ताह में विधानसभा अध्यक्ष, विपक्ष के नेता और सभी बड़ी राजनीतिक दलों को इसकी प्रति दी जाएगी और इसे अपने घोषणापत्र में शामिल करने की मांग की जाएगी।
दस्तावेज को ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों का उपयोग कर किए गए सर्वेक्षण के बाद संकलित किया गया है, जिसमें राज्य के 17 जिलों में 4,000 से अधिक बच्चे शामिल हैं, गैर सरकारी संगठन (एनजीओ) प्रतयेक के साथ ‘वादा ना टोडो अभियान’ के तहत एक अभियान चलाया जिसे यूनिसेफ का समर्थन मिला है।
राज्य के कुल मिलाकर 40 संगठनों को इसमें शामिल किया गया है और इस कार्य में लगाया गया है जिसके परिणाम स्वरूप यह घोषणापत्र बनाया गया जिसमें राजनीतिक दलों को 10 प्वाइंट की चार्टर्ड मांग को शामिल किया गया है। सर्वेक्षण के प्रमुख प्वाइंट में 85 फीसदी बच्चों ने महसूस किया कि विधायकों के लिए उनकी राय और चिंताओं पर विचार करना बहुत महत्वपूर्ण है और 96 फीसदी बच्चों ने महसूस किया कि ग्रामीण क्षेत्रों में बच्चों को सस्ती स्वास्थ्य सेवा और पौष्टिक भोजन तक नहीं मिलता है।
बच्चों ने अपनी मांगों में सभी तरह की हिंसा से सुरक्षा, सस्ती स्वास्थ्य देखभाल, पौष्टिक भोजन की उपलब्धता और किसी भी आधार पर कोई भेदभाव नहीं करने को कहा है।
उप्रेती.श्रवण
वार्ता
More News
मेघालय के कोयला खनन क्षेत्र में दुर्घटना में छह की मौत

मेघालय के कोयला खनन क्षेत्र में दुर्घटना में छह की मौत

22 Jan 2021 | 11:20 PM

शिलांग 22 जनवरी (वार्ता) मेघालय के पूर्वी जयंतिया हिल्स जिले के दिनेशालु गांव के पास सोरारी में कोयला खनन क्षेत्र में एक दुर्घटना में छह श्रमिकों की मौत हो गई।

see more..
केरल में कोरोना वायरस सक्रिय मामले बढ़ कर 70000 के पार

केरल में कोरोना वायरस सक्रिय मामले बढ़ कर 70000 के पार

22 Jan 2021 | 9:23 PM

तिरुवनंतपुरम, 22 जनवरी (वार्ता) केरल में पिछले 24 घंटों के दौरान कोरोना वायरस (कोविड-19) संक्रमण के नये मामलों की तुलना में स्वस्थ होने वाले मामलों में कमी होने के कारण सक्रिय मामलों की संख्या शुक्रवार को बढ़ कर 70,000 के पार पहुंच गयी।

see more..
image