Wednesday, Oct 28 2020 | Time 11:41 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • विश्व में कोरोना संक्रमितों की संख्या 4 39 करोड़ के पार
  • प्रमोद कृष्णन के खिलाफ निर्वाचन आयोग में शिकायत करेगी भाजपा
  • अजमेर दरगाह कमेटी के नाजिम के लिए साक्षात्कार गुरुवार को
  • देवरिया में भाजपा विधायक ने मुख्यमंत्री के खिलाफ की आपत्तिजनक टिप्पणी
  • मुंगेर के डीएम और एसपी को तत्काल हटाया जाये, उ न्या के न्यायाधीश से हो मामले की जांच : तेजस्वी
  • कोरोना संक्रमण के मामलों में वृद्धि, 40 हजार के पार
  • लोकतंत्र में मतदान केवल अधिकार नहीं, जिम्मेदारी भी : नीतीश
  • बिहार में विधानसभा की 71 सीटों पर अबतक पड़े 6 74 प्रतिशत वोट
  • कश्मीर में दो आतंकवादी मारे गये
  • औरंगाबाद में दो आईईडी बरामद
  • कोरोना की जांच का आंकड़ा साढ़े दस करोड़ के पार
  • फ्रांस में कोरोना से 523 और लोगों की मौत, 33,417 नये मामले
  • राहुल ने की महागठबंधन के पक्ष में वोट डालने की अपील
  • मतदाता कोविड-19 संबंधी सावधानियों के साथ मतदान करें: नड्डा
  • मराठवाड़ा क्षेत्र में कोरोना के 430 नए मामले, 15 लोगों की मौत
राज्य » पंजाब / हरियाणा / हिमाचल


सभी सांसद बिजली (संशोधन) विधेयक का विरोध करें: एआईपीईएफ

जालंधर, 14 सितंबर (वार्ता) ऑल इंडिया पावर इंजीनियर्स फेडरेशन (एआईपीईएफ) ने सभी सांसदों से आग्रह किया है कि वे कठोर प्रावधान वाले जनविरोधी बिजली (संशोधन) विधेयक 2020 का विरोध करें।
फेडरेशन के प्रवक्ता विनोद कुमार गुप्ता ने सोमवार को यहां कहा कि एआईपीईएफ ने सभी सांसदों को पत्र लिखकर कहा है कि संसद के मानसून सत्र के दौरान बिजली (संशोधन) विधेयक 2020 संसद में पेश किए जाने की उम्मीद है। उन्होंने कहा कि कई राज्य पहले ही विधेयक में उन मुद्दों की संख्या पर गंभीर आपत्तियां उठा चुके हैं, जिनका मसौदा विधेयक में समाधान नहीं किया गया है। ऐसी परिस्थितियों में उन्हें विधेयक पर गंभीर आपत्तियां होनी चाहिए। इसके अलावा इस विधेयक को ऊर्जा संबंधी स्थायी समिति के पास भेजा जाना चाहिए जैसा कि विधेयक 2014 के समय किया गया था।
श्री गुप्ता ने कहा कि बिजली एक समवर्ती विषय है जबकि संशोधन विधेयक केंद्र की कोशिश है कि उनकी सहमति के बिना राज्यों पर अपनी इच्छा थोपी जाए। विधेयक में टैरिफ में सब्सिडी खत्म करने और बिजली की लागत के आधार पर नया टैरिफ लागू करने का प्रस्ताव है। इससे घरेलू और कृषि उपभोक्ताओं का टैरिफ अवहनीय हो जाएगा। बिजली का डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर (डीबीटी), सब्सिडी से किसानों पर बुरा असर पड़ेगा। केंद्र चाहता है कि केंद्र द्वारा निर्धारित की जाने वाली टैरिफ नीति के अधीन राज्य विद्युत नियामक आयोगों (एसईआरसी) को अधीन बनाकर बिजली टैरिफ संबंधी हुक्म दिया जाए।
ठाकुर श्रवण
वार्ता
More News
हरियाणा में गठबंधन सरकार का एक वर्ष पूरा होने पर खट्टर ने दीं अनेक सौगात

हरियाणा में गठबंधन सरकार का एक वर्ष पूरा होने पर खट्टर ने दीं अनेक सौगात

27 Oct 2020 | 10:22 PM

हिसार, 27 अक्तूबर(वार्ता) हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने राज्य की भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) नीत गठबंधन सरकार के दूसरे कार्यकाल का उपलब्धियों भरा एक वर्ष पूरा होने पर प्रदेश को आज अनेक सौगात दीं।

see more..
कांग्रेस की विश्वनीयता खत्म हो चुकी है: खट्टर

कांग्रेस की विश्वनीयता खत्म हो चुकी है: खट्टर

27 Oct 2020 | 9:17 PM

हिसार 27 अक्टूबर, (वार्ता) हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कांग्रेस पर हमला करते हुए कहा कि इस पार्टी की विश्वनीयता खत्म हो चुकी है और सत्ता से हटने की छटपटाहट उसमें दिख रही है।

see more..
image