Friday, Nov 16 2018 | Time 10:47 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • दक्षिण कश्मीर में सुरक्षा बलों का खोजी अभियान शुरू
  • कानपुर पुलिस मुठभेड़ में शातिर बदमाश गिरफ्तार
  • सुरक्षा परिषद ने शांति सैनिकों की मौत पर शोक जताया
  • सबरीमला में तीर्थ यात्रियों के लिए इलैक्ट्रिक बसें
  • आतंकवादियोंं ने युवक का अपहरण करने के बाद हत्या की
  • जर्मनी में दोे बसों की टक्कर, 26 घायल
  • आज का इतिहास(प्रकाशनार्थ 17 नवंबर)
  • पूर्व सांसद प्रफुल्ल कुमार माहेश्वरी का निधन
  • थेरेसा मे नेब्रेक्थेरेसा मे ने ब्रेक्सिट योजना के साथ आगे बढ़ने का वादा कियासिट योजना के साथ आगे बढ़ने का वादा किया
  • खशोगी मामला: कनाडा प्रतिबंध पर कर रहा विचार: फ्रीलैंड
  • सीरिया में इस्लामिक स्टेट के खिलाफ हवाई हमले में 105 की मौत
  • आतंकवाद और साइबर सुरक्षा के मुद्दे पर मिलकर काम करेंगे: अमेरिका
  • कांग्रेस ने राजस्थान चुनाव के लिए पहली सूची जारी की
  • वेंकैया ने जमनालाल बजाज फाउंडेशन पुरस्कार विजेताओं को किया सम्मानित
राज्य Share

संस्कृत एवं संस्कृति का वाहक है शास्त्रार्थ : कुलपति

दरभंगा 05 सितम्बर (वार्ता) देश के प्रतिष्ठित विश्वविद्यालयों में शुमार कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो0 सर्व नारायण झा ने शास्त्रार्थ को संस्कृत एवं संस्कृति का वाहक बताया और कहा कि विलुप्त हो चुकी शास्त्रार्थ परम्परा को पुनर्जीवित करना समाज एवं देश हित में जरूरी है।
श्री झा ने यहां शिक्षक दिवस समारोह के मौके पर आयोजित कार्यक्रम में कहा कि विलुप्त हो चुकी शास्त्रार्थ परम्परा को पुनर्जीवित करना समाज और देश हित में जरूरी है। इसे जारी रखने से संस्कृत एवं संस्कृति दोनों पुष्पित और पल्लवित होगी, कारण कि शास्त्रार्थ दोनों का सशक्त वाहक है। संस्कृत में छात्रों की कमी है लेकिन इन छात्रों को ही लेकर यदि नियमित रूप से एक-एक शिक्षक ईमानदारी से मेहनत करेंगे तो वही छात्र देश स्तर पर नाम करेगा। इससे विश्वविद्यालय की भी प्रतिष्ठा बढ़ेगी और शिक्षकों का भी मान ऊंचा होगा।
वहीं, संस्कृत विश्वविद्यालय के प्रति कुलपति प्रो. चन्द्रेश्वर प्रसाद सिंह ने कहा कि स्वत्रंत भारत में राष्ट्रीय शिक्षा पद्धति के जन्मदाता डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन थे। वस्तुत: उन्होंने ही आधुनिक शिक्षा की नींव रखी थी। डॉ. कृष्णन छात्र एवं शिक्षकों के बड़े हिमायती थे। उनकी भावनाओं एवं इच्छाओं के अनुरूप ही शिक्षकों को छात्रों के प्रति उत्तरदायी होना चाहिए।
सं. सतीश सूरज
वार्ता
More News
सबरीमला में तीर्थ यात्रियों के लिए इलैक्ट्रिक बसें

सबरीमला में तीर्थ यात्रियों के लिए इलैक्ट्रिक बसें

16 Nov 2018 | 10:23 AM

तिरुवनंतपुरम 16 नवंबर (वार्ता)केरल में भगवान अयप्पा के दर्शन करने जाने वालेेे सबरीमला तीर्थयात्री अब इलैैक्ट्रिक बसों में यात्रा कर सकेंगे।

 Sharesee more..
image