Thursday, Feb 21 2019 | Time 19:04 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • भारत, दक्षिण कोरिया के साथ मिलकर इलेक्ट्राॅनिक हब बनेगा: मोदी
  • शाह करेंगे शक्ति केंद्र कार्यकर्ताओं के साथ बैठक
  • नाबालिग भतीजी से बलात्कार : अंतिम सांस तक कैद की सजा
  • कर्मचारी भविष्य निधि जमा पर 8़ 65 प्रतिशत ब्याज देने की सिफारिश
  • हिमाचल प्रदेश, कश्मीर में हिमपात के आसार
  • आईआईटी रूड़की में स्टेनलेस स्टील और एडवांस्ड कार्बन स्पेशल स्टील पर पाठ्यक्रम
  • जावड़ेकर ने किया देहरा में केंद्रीय विश्वविद्यालय का शिलान्यास
  • 34 हजार कर्मचारी हड़ताल पर,30 लाख यात्री परेशान
  • किसान सम्मेलन में प्रतिनिधियों को मिलेगा उनके क्षेत्र का भोजन
  • सिद्धू को फिल्मसिटी में प्रवेश नहीं देने के लिए पत्र लिखा गया
  • झांसी: स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव के लिए अंतरर्राज्यीय समन्वय बैठक में हुआ मंथन
  • गंगा को स्वच्छ करने का काम 30 फीसदी पूरा: गडकरी
  • इजरायली सेना ने फलस्तीनी में एक स्कूल पर छोड़े आंसू गैस
  • गडकरी ने किया नमामि गंगे, राजमार्ग परियोजनाओं का लोकार्पण
  • आतंकवाद का लोकसभा चुनाव से कोई लेना-देना नहीं: खन्ना
राज्य Share

मध्यप्रदेश में बंद का मिला-जुला असर

भोपाल, 10 सितंबर (वार्ता) मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल समेत समूचे प्रदेश में आज विपक्षी दलों के बंद का मिला-जुला असर रहा।
राजधानी में कांग्रेस कार्यकर्ता सुबह से ही स्थान-स्थान पर घूमते हुए बाजार और दुकानें बंद कराते देखे गए। भोपाल में आज लगभग सभी स्कूल और कॉलेज खुले, लेकिन उपस्थिति कम रही। नए भोपाल में बंद का मिला-जुला असर रहा, वहीं पुराने भोपाल में बाजार बंद रहे।
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के पुत्र कार्तिकेय चौहान की रविशंकर नगर स्थित फूल की दुकान बंद कराने पहुंचे कांग्रेस कार्यकर्ताओं से पुलिस की नोकझोंक हुई। दुकान खुली रही और वहां पुलिस का बंदोबस्त रहा।
प्रदेश की व्यावसायिक राजधानी इंदौर में बंद का असर देखने को मिला। यहां बड़ी संख्या में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने काले कपड़े पहनकर प्रदर्शन किया। कांग्रेस के पैदल मार्च में कार्यकर्ताओं ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के मुखौटे लगाकर प्रदर्शन किया। कांग्रेस कार्यकर्ता व्यापारियों को फूल देकर उनके प्रतिष्ठान बंद करने की अपील कर रहे थे।
इंदौर से सटे देवास में बंद का व्यापक असर रहा। ज्यादातर दुकानदारों ने किसी भी अप्रिय स्थिति से बचने के लिए अपनी दुकानें बंद रखीं।
ग्वालियर में भी बंद का मिला-जुला असर देखा गया। यहां छह सितंबर को सवर्णों के बंद के पहले से लागू धारा 144 अब भी जारी है, जिसके चलते चप्पे-चप्पे पर पुलिस का पहरा था। ग्वालियर में ज्यादातर स्कूलों में आज छुट्टी कर दी गई थी।
मध्यप्रदेश में कांग्रेस की चुनाव अभियान समिति के अध्यक्ष ज्योतिरादित्य सिंधिया के संसदीय क्षेत्र शिवपुरी में भी ज्यादातर दुकानें, व्यावसायिक प्रतिष्ठान अैर पेट्रोल पंप बंद रखे गए। कांग्रेस कार्यकर्ता घूम-घूम कर बाजार बंद करा रहे थे।
सागर में धारा 144 लागू है, जिसके चलते पुलिस ने सड़कों पर प्रदर्शन कर रहे कई कांग्रेस कार्यकर्ताओं को हिरासत में ले लिया। सागर में स्कूल खुले हैं, लेकिन बस संचालकों द्वारा दोपहर में छुट्टी के समय बसों के स्कूल नहीं पहुंचने की चेतावनी के कारण अभिभावकों को परेशानी का सामना करना पड़ा।
कांग्रेस की प्रदेश इकाई के अध्यक्ष कमलनाथ के संसदीय क्षेत्र छिंदवाड़ा में बंद का व्यापक असर देखने को मिला। यहां के सभी बाजार, पेट्रोल पंप और स्कूल बंद रहे। जिले के सभी नगरीय निकायों में दुकानें बंद थीं। केवल पांढुर्णा में गोटमार मेला के कारण व्यावसायिक प्रतिष्ठान खुले रहे। छिंदवाड़ा नगर के सिनेमा घरों में भी बारह बजे का शो बंद रखा गया।
जबलपुर में भी बंद प्रभावी रहा। सभी जगह दुकानें बंद थीं। बंद के दौरान दो जगह ट्रेन रोकने का प्रयास किया गया। दोनों मामलों में पुलिस ने प्रकरण दर्ज किया है। कटनी जिले में भी बंद का व्यापक असर देखा गया।
उज्जैन में एक पेट्रोल पंप बंद कराने के कारण छुटपुट झड़प के अलावा शेष शहर शांतिपूर्ण बंद रहा। इस झड़प में कांग्रेस का ब्लाॅक अध्यक्ष घायल हो गया।
कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह के क्षेत्र राजगढ़ में भी बंद का व्यापक असर रहा। नरसिंहपुर, रायसेन, और सिवनी में भी बंद का असर देखा गया।
नीमच में सड़कों पर प्रदर्शन कर रहे कई कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने अपनी गिररफ्तारी दी। वहीं पन्ना में पार्टी कार्यकर्ताओं ने सड़कों पर उतर कर प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री के खिलाफ नारेबाजी की।
सीहोर, सतना, विदिशा में बंद का मिला-जुला असर हुआ। वहीं खंडवा, श्योपुर, शहडोल में बंद का कोई असर देखने को नहीं मिला।
मुरैना जिला कांग्रेस ने आज पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ के प्रवास के चलते बंद की अपील वापस ले ली थी। यहां लगभग सभी बाजार और दुकानें खुली रहीं।
बंद को देखते हुए प्रदेश में पुलिस-प्रशासन ने सुरक्षा के व्यापक इंतजाम किए गए थे। राजधानी भोपाल में भी बाजारों समेत जगह-जगह पर पुलिस गश्त कर रही थी।
टीम सुधीर
वार्ता
More News
ज्ञान विवि के रूप जाना जाए आर्यभट्ट विश्वविद्यालय : नीतीश

ज्ञान विवि के रूप जाना जाए आर्यभट्ट विश्वविद्यालय : नीतीश

21 Feb 2019 | 7:00 PM

पटना 21 फरवरी (वार्ता) बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने राज्य के गौरवशाली अतीत को फिर से प्राप्त करने की प्रतिबद्धतता व्यक्त करते हुये आज कहा कि आर्यभट्ट ज्ञान विश्वविद्यालय (विवि) ज्ञान के केंद्र के रूप में जाना जाये ताकि वह प्रदेश के इतिहास के प्रति सम्मान का प्रतीक बन सके।

 Sharesee more..
image