Wednesday, Sep 19 2018 | Time 11:00 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • भाजपा शासन में तानाशाही बन गया पेशा : राहुल
  • इमरान सऊदी नेतृत्व के साथ द्विपक्षीय संबंधों पर करेंगे चर्चा
  • अगस्ता वेस्टलैंड: आरोपी मिशेल का भारत को किया जाएगा प्रत्यर्पण
  • ग्रामीण की पीट-पीटकर हत्या
  • बेगूसराय में 650 कार्टन शराब बरामद, चार गिरफ्तार
  • कटरीना की बहन इसाबेल करेगी बॉलीवुड में डेब्यू
  • कटरीना की बहन इसाबेल करेगी बॉलीवुड में डेब्यू
  • परिणीति हैं अर्जुन के लिये परफेक्ट दुल्हन !
  • परिणीति हैं अर्जुन के लिये परफेक्ट दुल्हन !
  • हाउसफुल 4 में डबल धमाल मचायेंगे अक्षय !
  • हाउसफुल 4 में डबल धमाल मचायेंगे अक्षय !
  • जौनपुर :आग में झुलसकर महिला की मौत
  • साजन को रजत, विजय को कांस्य
  • हांगकांग को हराने में भारत के पसीने छूटे
  • उ कोरिया परमाणु मिसाइल केंद्रों को स्थायी रूप से नष्ट्र करने को राजी
राज्य Share

पुलिस आयुकत ने बताया कि अपनी योजना के मुताबिक शुरू में गौस संग्रहालय में गया और टिफिन बाॅक्स के स्थान का मुआयना किया। किसी प्रकार के भ्रम की स्थिति से बचने के लिए उसने टिफिन के विपरीत एक सूखे पेड़ को चिन्हित किया। इसके तीन दिनों के बाद दोनों ने रात के समय आकर पूरे संग्रहालय परिसर और इसके आस-पास के इलाकों की रेकी की तथा वहां लगे सीसीटीवी कैमरों का भी निरीक्षण किया।
श्री कुमार ने बताया कि उसी दिन चोरों ने वेंटीलेटर पर भी ‘तीर’ का निशाना लगा दिया जिसके सहारे वे संग्रहालय में घुसे थे। चोरी वाले दिन वे संग्रहालय के ऊपर चढ़ने और वेंटिलेटर हटाने के लिए रस्सी के साथ विभिन्न आकार के तीन स्क्रू ड्राइवर, 10 हैक साॅ ब्लेड और अन्य सामान लाये थे।
उन्होंने बताया कि चोरों ने रस्सी पर पकड़ बनाने के लिए लगभग तीस (30) गाठें बनायी थीं। उन्होंने पहचान से बचने के लिए मास्क और उंगली के प्रिंट से बचने के लिए हाथ के दस्ताने भी खरीदे। दोनों अपराध के स्थान पर मोबाइल फोन भी नहीं ले गये थे।
उन्होंने कहा कि दोनों ने सीसीटीवी कैमरे रहित मार्गों के माध्यम से संग्रहालय में प्रवेश करने की योजना बनाई, लेकिन संग्रहालय में प्रवेश करने में नाकाम रहे। अंत में वे मोबेन के बजाज पलसर मोटरसाइकिल पर माता-की-खिड़की के माध्यम से संग्रहालय में प्रवेश किया जो सीसीटीवी फुटेज में कैद हो गया।
दोनों संग्रहालय से सटे आवासीय मकान के जरिये संग्रहालय की छत पर पहुंचे। इस मार्ग की पहचान दोनों ने रेकी के दौरान की थी। गौस और मोबीन अपने साथ लाये उपकरणों की मदद से वेंटिलेटर को खोला। इसके बाद गौस ने रस्सी का एक सिरा पकड़ा जबकि दूसरे सिरे के सहारे मोबीन संग्रहालय के अंदर प्रवेश कर गया। इसके बाद मोबीन ने स्वर्ण के टिफिन बाॅक्स, कप, तश्तरी और चम्मच को शोकेस से सफाई के साथ निकाला और अपने बैग में डाल लिया। इसके बाद दोनों प्रवेश के रास्ते से ही संग्रहालय के बाहर निकल गये।
श्री कुमार ने बताया कि सीसीटीवी को धोखा देने के इरादे से चोरी की वारदात को अंजाम देने के बाद ये दोनों मुथंगी से जहीराबाद की तरफ निकल गए और फिर सर्विस रोड के जरिए वापस मुथंगी की तरफ आ गए। इसके बाद दोनों बेशकीमती टिफिन ब़ॉक्स और दूसरे कीमती सामान को लेकर बस से मुंबई चले गए। यहां दोनों चोर कई दिनों तक पांच सितारा होटल में रूके। अब निजाम ने भले ही करोड़ों के इस टिफिन में खाना नहीं खाया होगा, लेकिन मुंबई में रुकने के दौरान इन चोरों ने इसे टिफिन में खाना खाया।
मुबीन ने चोरी के सामानों को बेचने के लिए अपने अंतरराष्ट्रीय रिश्तों से भी संपर्क करने की कोशिश की लेकिन उसके सारे प्रयास विफल रहे। तमाम प्रयासों के विफल होने के बाद दोनों 10 सितंबर को हैदराबाद लौट आए।
पुलिस आयुक्त ने बताया कि दोनों चोरों को जब्त सामानों के साथ मिरचौक थाना के हवाले कर दिया गया है। पुलिस आगे की कार्रवाई कर रही है।
संजय आशा
वार्ता
More News

ग्रामीण की पीट-पीटकर हत्या

19 Sep 2018 | 10:25 AM

 Sharesee more..

खुद को एवरेज एक्टर मानते हैं रणबीर कपूर

19 Sep 2018 | 10:07 AM

 Sharesee more..
image