Tuesday, Aug 4 2020 | Time 22:18 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • कोरोना महामारी : श्राद्ध भोज में नाच का आयोजन, तीन गिरफ्तार
  • श्री रामजन्मभूमि मंदिर देश में रामराज्य की बुनियाद रखेगा : आडवाणी
  • छत्तीसगढ़ में मिले 289 नए संक्रमित मरीज,आठ की मौत
  • पुरी बीच पर सुदर्शन ने उकेरी राममंदिर की कलाकृति
  • कोरोना मामले 19 लाख के पार, रिकवरी दर 67 फीसदी के पार
  • बिना राम के भारत को पहचाना नहीं जा सकता - शिवराज
  • मुरादाबाद में 98 और नये कोरोना पॉजिटिव मिले,संख्या हुई 2196
  • खगड़िया में गंगा नदी में नौका पलटी, 30 लापता
  • बाराबंकी में 54 नये कोरोना पॉजिटिव मिले,संख्या 1407 पहुंची
  • आगरा पुलिस ने तीन साईबर अपराधियों समेत दस बदमाशों को किया गिरफ्तार
  • नायडू , मोदी समेत अनेक हस्तियों ने अल्काजी के निधन पर शोक जताया
  • निशंक ने राष्ट्रपति को नयी शिक्षा नीति का दस्तावेज पेश किया
  • देश में कोरोना मामले 19 लाख के पार, पौने 13 लाख से अधिक हुए स्वस्थ
  • जौनपुर नहीं थम रहा कोरोना संक्रमण,120 नये मामले,संख्या हुई 2405
  • मुंबई में फिर से 709 नये मामले, पुणे बना नया हॉटस्पॉट
राज्य » गुजरात / महाराष्ट्र


अजीत के साथ जाने वाले विधायकों पर होगी कार्रवाई: पवार

अजीत के साथ जाने वाले विधायकों पर होगी कार्रवाई: पवार

मुंबई, 23 नवंबर (वार्ता) राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के प्रमुख शरद पवार ने महाराष्ट्र में ताजा राजनीतिक घटनाक्रम से खुद को अलग करते हुए कहा है कि भारतीय जनता पार्टी के साथ सरकार बनाने का उनका नहीं बल्कि पार्टी नेता अजीत पवार का फैसला है और उनके साथ जाने वाले विधायकों के खिलाफ कार्रवाई होगी।

श्री पवार ने शिव सेना प्रमुख उद्धव ठाकरे के साथ शनिवार को यहां संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में कहा कि

कांग्रेस, शिवसेना तथा राकांपा ने एक साथ बैठकर महाराष्ट्र में सरकार बनाने का निर्णय लिया था लेकिन जो घटनाक्रम हुआ है उसमें पूरी तरह से अजीत पवार का हाथ है। उन्होंने चेतावनी दी कि पार्टी के जो विधायक अजीत पवार के साथ जाएंगे उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

उन्हाेंने कहा,“ मेरे साथ पहले भी ऐसा होता रहा है,मुझे चिंता नहीं है। मेरे पास नम्बर हैं ,स्थायी सरकार हम ही बनायेंगे।” श्री पवार ने कहा कि तीनों दलों के विधायाकों के साथ ही कुछ निर्दलीय के सहयोग से शिव सेना के नेतृत्व में गठबंधन सरकार बन रही थी और उसमें 169 से 170 तक विधायकों की संख्या हो रही थी। तीनों दलों ने शिव सेना के नेतृत्व में सरकार बनाने का निर्णय लिया था। श्री फड़नवीस के पास बहुमत नहीं है और वह सदन में बहुमत साबित नहीं कर पाएंगे।

उन्होंने कहा “यह निर्णय अजीत का है। मुझे विश्वास है कि राकांपा को कोई भी विधायक अजीत के साथ नहीं जाएगा। यदि कोई विधायक उनके साथ जाने की सोच रहे हैं ,उन्हें दल विरोधी कानून की जानकारी होनी चाहिए। जो राकांपा से बाहर जाने का निर्णय लेंगे उनकों महाराष्ट्र के लोग सबक सिखाएंगे।”

श्री पवार ने कहा कि जो लोग भाजपा के साथ जाएंगे उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि इस घटनाक्रम के बाद कुछ लोगों ने उनसे संपर्क किया लेकिन तब तक उन्हें इस बात का अंदाज ही नहीं था।

अभिनव आशा

वार्ता

image