Saturday, Dec 14 2019 | Time 22:16 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • आजसू प्रत्याशी स्टेफी टेरेसा का निजी सचिव पर्स और एटीएम कार्ड लेकर फरार
  • शालीमार बाग में लगी आग, छह लोगों को बचाया गया
  • कर्तव्य में लापरवाही बरतने के आरोप में दरोगा समेत 21 पुलिसकर्मी निलंबित
  • कांग्रेस और झामुमो ने की गरीबों की अनदेखी : स्मृति
  • फोटो कैप्शन तीसरा सेट
  • भाजपा अपने वादे करती है पूरी : राजनाथ
  • सरकार ने असम, मेघालय में कल होने वाली यूजीसी नेट परीक्षा स्थगित की
  • भागलपुर में विक्रमशिला के समानांतर बनेगा पीपा पुल : चौधरी
  • फोटो कैप्शन दूसरा सेट
  • असम में स्थिति में सुधार, इंटरनेट सेवा पर रोक जारी
  • आदिवासियों की एक इंच भी जमीन नहीं छीनने दी जाएगी : हेमंत
  • मसानजोर डैम की समस्यायों के निदान के लिए भाजपा प्रतिबद्ध : लुईस
  • विराट और रोहित तोड़ सकते हैं मेरा रिकॉर्ड: लारा
  • विराट और रोहित तोड़ सकते हैं मेरा रिकॉर्ड: लारा
मनोरंजन » बॉलीवुड


भारतीय सिनेमा के गांधी थे वही शांताराम

भारतीय सिनेमा के गांधी थे वही शांताराम

पणजी, 21 नवंबर (वार्ता) महान फिल्मकार वही शांताराम के पुत्र किरण शांताराम को इस बात का गहरा दुख है कि केंद्र सरकार ने उनके पिता की विरासत एवं स्मृति को सुरक्षित करने के लिए कोई उल्लेखनीय कार्य आज तक नही किया।

शांताराम की स्मृति में स्थापित न्यास के अध्यक्ष किरण शांताराम ने 50वें अंतरराष्ट्रीय फ़िल्म समारोह के दौरान एक भेंन्ट वार्ता में यह क्षोभ व्यक्त किया।
अपने पिता की तरह गांधी टोपी पहने एवं विनम्र तथा शालीन व्यक्तित्व के धनी श्री शांताराम ने यूनीवार्ता से कहा कि दादा साहब फाल्के के बाद अगर भारतीय सिनेमा में कोई बड़ी हस्ती थी तो उनके पिता थे लेकिन सरकार ने उनकी सुध नहीं ली।

यह पूछे जाने पर की न्यास ने सरकार से कभी कोई मांग नही की,इस पर श्री शांताराम ने कहा कि हमारा काम सरकार से मांग करना नही।
यह तो सरकार को खुद सोचना चाहिए और करना चाहिए।
मेरे पिता 1901 में पैदा हुए उन्होंने भारतीय सिनेमा को अपने जीवन के 70 साल दिए और कुल 92 फिल्में बनाई जिनमें 55 फिल्मों का निर्देशन किया और 25 फिल्मों में खुद काम किया।
उन्होंने ‘दो आंखे बारह हाथ’, ‘नवरंग’ और ‘झनक झनक बाजे पायलिया’ जैसी अनेक अमर एवं कल्पनाशील फिल्में दी लेकिन आज की नई पीढ़ी को उन्हें याद करने की फुरसत नही।

उन्होंने इस बात पर सहमति व्यक्त की कि उनके पिता ने सिनेमा के जरिये उसी तरह समाज को बदलने का काम किया जिस तरह महात्मा गांधी ने किया।
उन्हें हिंदी सिनेमा के गांधी कहा जाय तो इसमे कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी।
गांधी के मूल्यों और आदर्शों पर उनके पिता चलते रहे और समाज सुधार का काम करते रहे।
उनके लिए फ़िल्म मिशन था बाज़ार नही था।

उन्होंने कहा कि वह खुद बचपन से अपने पिता के साथ लगे रहे और निर्देशन में हाथ बटाते रहे।
नवरंग के सह निर्देशक भी वह थे।
उन्होंने कहा कि उनके पिता ने जीवन काल मे ही वी शांताराम न्यास का गठन किया था और वह हर साल उनकी जयंती 18 नवंबर को उनकी स्मृति में कार्यक्रम आयोजित करते हैं।
लेकिन उनकी स्मृति को सुरक्षित रखने के लिए न तो कोई संग्रहालय है या स्थायी मंडप है न बड़ा कोई केंद्र सरकार का पुरस्कार।
लेकिन फिर में कहूंगा हमारा काम सरकार से मांग करना नहीं है।
यह सरकार को खुद सोचना है।

फ़िल्म समारोह के उद्घाटन पर शंकर महादेवन के फ्यूज़न म्यूज़िक का जिक्र होने पर उन्होंने दो आंखे बारह हाथ के मशहूर गाने ‘ऐ मालिक तेरे बंदे हम’ को याद किया और कहा कि आज ऐसे गाने कहाँ बनते है।
उस गाने में कितना बड़ा मानवीय संदेश छिपा था।

अरविंद, शोभित
वार्ता

लाल

लाल सिंह चड्ढा के संगीत से खुश हैं आमिर

मुंबई 14 दिसंबर (वार्ता) बॉलीवुड के मिस्टर परफेक्शनिस्ट आमिर खान अपनी आने वाली फिल्म लाल सिंह चड्ढा के संगीत से बेहद खुश हैं।

दी‍पिका

दी‍पिका ने छपाक के लिये लगवाया प्रोस्थेटिक्स

मुंबई 12 दिसंबर (वार्ता) बॉलीवुड की डिंपल गर्ल दीपिका पादुकोण ने अपनी आने वाली फिल्म छपाक के लिये जब प्रोस्थेटिक्स मेकअप लगवाया तब वह खुद को देखकर दंग रह गयी।

युवा

युवा पीढ़ी के कलाकारों से तुलना गलत : करीना

मुंबई 14 दिसंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री करीना कपूर खान का कहना है कि युवा पीढ़ी के कलाकारों से उनकी तुलना करना गलत है।

स्मिता

स्मिता पाटिल ने समानांतर फिल्मों को नया आयाम दिया

.. पुण्यतिथि 13 दिसंबर  ..
मुंबई 12 दिसंबर (वार्ता) भारतीय सिनेमा के नभमंडल में स्मिता पाटिल ऐसे ध्रुवतारे की तरह है जिन्होंने अपने सशक्त अभिनय से समानांतर सिनेमा के साथ-साथ व्यावसायिक सिनेमा में भी दर्शकों के बीच अपनी खास पहचान बनायी ।

आदित्य

आदित्य ने पहली बार कर दिया था रिजेक्ट : अर्जुन

मुंबई 14 दिसंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता अर्जुन कपूर का कहना है कि फिल्मकार आदित्य चोपड़ा ने उनकी तस्वीर देखकर उन्हें रिजेक्ट कर दिया था।

किच्चा

किच्चा सुदीप के साथ बेंगलुरु में दबंग 3 का प्रमोशन करेंगे सलमान खान

मुंबई 10 दिसंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता सलमान खान अपनी आने वाली फिल्म ‘दबंग 3’ का प्रमोशन किच्चा सुदीप के साथ बेंगलुरु में करेंगे।

करीना

करीना कपूर पर हमेशा से क्रश रहा है: कियारा

मुंबई 14 दिसंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री कियारा आडवाणी का कहना है कि उनका करीना कपूर पर हमेशा से ही गर्ल क्रश रहा है।

मेहनत

मेहनत और नसीब में विश्वास रखती है कियारा आडवाणी

मुंबई 10 दिसंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता कियारा आडवाणी का कहना है कि वह ज्योतिष में नही बल्कि मेहनत और नसीब में विश्वास रखती है।

समानांतर

समानांतर सिनेमा को पहचान दिलायी श्याम बेनेगल ने

..जन्मदिवस 14 दिसंबर के अवसर पर..
मुंबई 14 दिसंबर (वार्ता) भारतीय सिनेमा जगत में श्याम बेनेगल का नाम एक ऐसे फिल्मकार के रूप में शुमार किया जाता है जिन्होंने न सिर्फ सामानांतर सिनेमा को पहचान दिलायी बल्कि स्मिता पाटिल, शबाना आजमी और नसीरउद्दीन साह समेत कई सितारों को स्थापित किया।

बालाकोट

बालाकोट एयर स्ट्राइक पर फिल्म बनायेंगे भंसाली

मुंबई, 13 दिसंबर (वार्ता) बॉलीवुड फिल्मकार संजय लीला भंसाली बालाकोट एयर स्ट्राइक पर फिल्म बनाने जा रहे हैं।

राम के किरदार के लिये रिजेक्ट कर दिये गये थे अरुण गोविल

राम के किरदार के लिये रिजेक्ट कर दिये गये थे अरुण गोविल

पटना 27 नवंबर (वार्ता) दूरदर्शन के लोकप्रिय सीरियल रामायण में अपने निभाये किरदार ‘राम’ के जरिये दर्शकों के दिलों पर अमिट छाप छोड़ने वाले अरुण गोविल का कहना है कि पहले उन्हें राम के किरदार के लिये रिजेक्ट कर दिया गया था।

दिल्ली में भी होगा फिल्म उद्योग, डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह आरंभ

दिल्ली में भी होगा फिल्म उद्योग, डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह आरंभ

नयी दिल्ली 15 जनवरी (वार्ता) दिल्ली में भी फिल्म उद्योग स्थापित करने के मकसद से पहले डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह एवं विपणन 2019 की कल रात यहां देश-विदेश के फिल्मी जगत के लोगों की मौजूदगी में शुरूआत हुयी।

स्मिता पाटिल ने समानांतर फिल्मों को नया आयाम दिया

स्मिता पाटिल ने समानांतर फिल्मों को नया आयाम दिया

.. पुण्यतिथि 13 दिसंबर  ..
मुंबई 12 दिसंबर (वार्ता) भारतीय सिनेमा के नभमंडल में स्मिता पाटिल ऐसे ध्रुवतारे की तरह है जिन्होंने अपने सशक्त अभिनय से समानांतर सिनेमा के साथ-साथ व्यावसायिक सिनेमा में भी दर्शकों के बीच अपनी खास पहचान बनायी ।

समानांतर सिनेमा को पहचान दिलायी श्याम बेनेगल ने

समानांतर सिनेमा को पहचान दिलायी श्याम बेनेगल ने

..जन्मदिवस 14 दिसंबर के अवसर पर..
मुंबई 14 दिसंबर (वार्ता) भारतीय सिनेमा जगत में श्याम बेनेगल का नाम एक ऐसे फिल्मकार के रूप में शुमार किया जाता है जिन्होंने न सिर्फ सामानांतर सिनेमा को पहचान दिलायी बल्कि स्मिता पाटिल, शबाना आजमी और नसीरउद्दीन साह समेत कई सितारों को स्थापित किया।

image