Sunday, Dec 8 2019 | Time 20:39 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • अग्निशमन के बाहुर जवान राजेश शुक्ला ने 11 लोगों की जान बचाई
  • दूसरे प्रदेशों में भयावह परिस्थितियों में भी काम करने को विवश हैं बिहार के मजदूर : अरुण
  • दुमका में अलग-अलग सड़क हादसे में दो की मौत
  • एसटीएफ ने मुरादाबाद से पकड़े साल्वर गिरोह के 10 सदस्य
  • चेन्नई लेग में मुम्बई फाल्कंस ने जीती 2 रेस
  • मानव ने मारखम में खिताब जीतकर रचा इतिहास
  • मानव ने मारखम में खिताब जीतकर रचा इतिहास
  • शिक्षाविद ज्ञान आधारित समाज के लिए अनुसंधान करें:कोविंद
  • भारतीय जूडोकाओं ने 5 स्वर्ण और तैराकों ने 6 स्वर्ण जीते
  • महिलाओं में सुरक्षा की भावना पैदा करे पुलिस: मोदी
  • मध्यप्रदेश में शाम होते ही बढ़ने लगी ठंड
  • अनाज मंडी आग हादसे में इमारत मालिक और प्रबंधक गिरफ्तार
  • जनता को पांच साल तक बेवकूफ बनाती रही रघुवर सरकार : हेमंत
  • अयोध्या में दो तस्कर गिरफ्तार,36 लाख की स्मैक बरामद
  • गोलीबारी कर दहशत फैलाने के आरोप में तीन गिरफ्तार
मनोरंजन » फिल्म समीक्षा


शिक्षा प्रणाली पर सवाल उठाती ‘हिंदी मीडियम’

शिक्षा प्रणाली पर सवाल उठाती ‘हिंदी मीडियम’

नयी दिल्ली, 20 मई (वार्ता) सामाजिक सरोकार से जुड़ी फिल्मों को बॉलीवुड में पहचान मिलने लगी है।
ऐसी ही शिक्षा जैसी महत्वपूर्ण मुद्दे से जुड़ी है निर्देशक साकेत चौधरी की फिल्म ‘हिन्दी मीडियम’।
फिल्म में इरफान खान और दीपक डोबरियाल के साथ पाकिस्तानी अदाकारा सबा कमर मुख्य भूमिका में है।
कहानी: यह कहानी दिल्ली की है जहां के चांदनी चौक के बाजार में राज बत्रा (इरफान खान) लहंगे की दुकान चलाता है और उसके पास पैसे की कोई कमी नहीं।
वह पत्नी मीता (सबा कमर) से बहुत प्यार करता है।
दोनों की बेटी है पिया, जिसका एडमिशन मीता किसी निजी अंग्रेजी स्कूल में कराना चाहती है।
मिशन एडमिशन के तहत राज और मीता दिल्ली के बड़े स्कूलाें की खाक छानते हैं और बेटी के एडमिशन के लिये चांदनी चौक छोड़ दिल्ली के पॉश इलाके वसंत विहार में शिफ्ट हो जाते है।
पिया को किसी अच्छे अंग्रेजी माध्यम स्कूल में दाखिला नहीं मिलने पर दोनों गरीबों के लिए आरक्षित कोटे में दाखिले का प्रयास भी करते हैं और सफल हो जाते है।
लेकिन इसके बाद रवि को अपनी गलती का एहसास होता है कि उसने किसी गरीब का हक मारा है।
यहां से फिल्म का ट्रैक बदलता है और यह दिखाया जाता है कि किस तरह अमीर लोग गरीबों का हक छीन रहे हैं और शिक्षा का अधिकार कानून का दुरुपयोग हो रहा है।
निर्देशन : ‘प्यार के साइड इफेक्ट्स’ और ‘शादी के साइड इफेक्ट्स’ जैसी फिल्मों का निर्देशन करने वाले साकेत चौधरी ‘हिन्दी मीडियम’ के जरिये शिक्षा प्रणाली के साइड इफेक्ट्स को लोगों के सामने ला रहे हैं।
अच्छे विषय के साथ न्याय करने में वह कामयाब रहें।
उन से चूक फिल्म के क्लाइमेक्स में हुई जो नाटकीय लगता है।
अभिनय: इरफान खान ऐसे अभिनेता है जिनकी आंखें भी बाेलती हैं और इस फिल्म को देखने के बाद लगा की एक कारोबारी, पिता और पति का किरदार इस शानदार ढंग से शायद ही काेई और निभा पाता।
फिल्म के आखिर में उनका मोनोलॉग सीख देता है।
सबा कमर पति को अंगुलियों पर नचाने वाली पत्नी के किरदार में खूब जमी हैं।
दीपक डोबरियाल ने गरीब इंसान के किरदार में प्रभावित किया है।
काउंसलर की भूमिका में तिलोत्तमा शोम उपस्थिति दर्ज कराने में कामयाब रहीं।
अमृता सिंह, नेहा धूपिया और संजय सूरी के लिये फिल्म में ज्यादा कुछ नहीं था।
गीत संगीत: फिल्म में गाने कम हैं, आतिफ असलम की आवाज में ‘हूर’ सुकून देता है ।
गुरु रंधावा का ‘सूट-सूट’ पार्टी नंबर है जो रिलीज से पहले ही हिट हो चुका है।
देखे या ना देखें : नया आैर आम लोंगों से जुड़ा विषय होने के कारण हम इस फिल्म को देखने की सलाह देंगें।
फिल्म सिर्फ भाषा ही नहीं बल्कि शिक्षा प्रणाली की दूसरी खामियों को भी उजागर करती है।
फिल्म की कमजोर कड़ी इसका आखिरी हिस्सा है जो सच्चाई की जगह नाटकीय लगता है।
पूरी फिल्म दर्शकों को बांधे रखती है लेेकिन आखरी हिस्से में यह जुड़ाव थोड़ा कम हो जाता है।
रेटिंग : शानदार अभिनय इस फिल्म को और भी दमदार बनाता है जिससे दूसरी खामियां ढक जाती है ।
फिल्म को हमारी तरफ से पांच में से साढे तीन अंक (3.5*/5*) अमित, यामिनी वार्ता

राजकुमार

राजकुमार राव की फिल्म तुर्रम खान का नाम अब होगा छलांग

मुंबई 08 दिसंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता राजकुमार राव की फिल्म तुर्रम खान अब छलांग नाम से रिलीज की जायेगी।

पढ़ाई

पढ़ाई नही करने पर माता-पिता से मार खाते थे संजय दत्त

मुंबई 08 दिसंबर (वार्ता) बॉलीवुड के माचो मैन संजय दत्त का कहना है कि वह बचपन में पढ़ाई नहीं करने पर अपने माता-पिता से मार खाया करते थे।

दिलकश

दिलकश अदाओं से दर्शकों को दीवाना बनाया दीया मिर्जा ने

..जन्मदिन 09 दिसंबर ...
मुबंई 08 दिसंबर(वार्ता) बॉलीवुड में दीया मिर्जा को एक ऐसी अभिनेत्री के तौर पर शुमार किया जाता है जिन्होंने अपनी दिलकश अदाओं से दर्शकों को दीवाना बनाया है।

संवाद

संवाद अदायगी के बेताज बादशाह है शत्रुध्न सिन्हा

..जन्मदिवस 09 दिसंबर ..
मुंबई 08 दिसंबर (वार्ता) बतौर खलनायक अपने करियर का आगाज कर अपने आक्रमक अंदाज, विद्रोही तेवर और संवाद अदायगी के दम पर शत्रुध्न सिंहा ने दर्शको को इस कदर दीवाना बनाया कि नायक की तुलना में उन्हें अधिक वाहवाही मिली।

हर

हर शुक्रवार कलाकार का भविष्य तय करता है : यामी

मुंबई 08 दिसंबर(वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री यामी गौतम का कहना है कि हर शुक्रवार फिल्म इंडस्ट्री में आपका भविष्य तय करता है जो बहुत ही दुखभरी बात है लेकिन यह सच है।

धर्मेंद्र

धर्मेंद्र ने जन्मदिन नही मनाने की बतायी वजह

मुंबई 08 दिसंबर (वार्ता) बॉलीवुड के ही मैन धर्मेन्द्र ने अपना जन्मदिन नही मनाने की वजह बतायी है।

कलाकार

कलाकार के रूप में अविश्वसनीय वर्ष रहा 2019:भूमि पेडनेकर

मुंबई 08 दिसंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री भूमि पेडनेकर का कहना है कि वर्ष 2019 उनके लिये अविश्वसनीय वर्ष रहा है।

सई

सई मांजरेकर से कैट फाइट नहीं :सोनाक्षी सिन्हा

मुंबई 08 दिसंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री सोनाक्षी सिन्हा का कहना है कि उनके और सई मांजरेकर के बीच कैट फाइट का कोई स्कोप नही है।

अक्षय

अक्षय जितनी सैलरी चाहती हैं करीना

मुंबई 08 दिसंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री करीना कपूर का कहना है कि वह अक्षय कुमार जितनी सैलरी चाहती है।

दबंग-3

दबंग-3 का क्लाइमेक्स 25 दिनों में हुआ शूट

मुंबई, 07 दिसंबर (वार्ता) बॉलीवुड के दबंग स्टार सलमान खान की आने वाली फिल्म दबंग-3 का क्लाइमेक्स 25 दिनों में शूट हुआ है।

राम के किरदार के लिये रिजेक्ट कर दिये गये थे अरुण गोविल

राम के किरदार के लिये रिजेक्ट कर दिये गये थे अरुण गोविल

पटना 27 नवंबर (वार्ता) दूरदर्शन के लोकप्रिय सीरियल रामायण में अपने निभाये किरदार ‘राम’ के जरिये दर्शकों के दिलों पर अमिट छाप छोड़ने वाले अरुण गोविल का कहना है कि पहले उन्हें राम के किरदार के लिये रिजेक्ट कर दिया गया था।

दिल्ली में भी होगा फिल्म उद्योग, डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह आरंभ

दिल्ली में भी होगा फिल्म उद्योग, डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह आरंभ

नयी दिल्ली 15 जनवरी (वार्ता) दिल्ली में भी फिल्म उद्योग स्थापित करने के मकसद से पहले डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह एवं विपणन 2019 की कल रात यहां देश-विदेश के फिल्मी जगत के लोगों की मौजूदगी में शुरूआत हुयी।

बहुमुखी प्रतिभा के तौर पर पहचान बनायी देवानंद ने

बहुमुखी प्रतिभा के तौर पर पहचान बनायी देवानंद ने

..पुण्यतिथि 03 दिसंबर  ..
मुंबई 02 दिसंबर (वार्ता) बहुमुखी प्रतिभा के धनी देवानंद का नाम ऐसी शख्सियत के तौर पर याद किया जाता है जिन्होंने न सिर्फ अभिनय के क्षेत्र में बल्कि फिल्म निर्माण और निर्देशन के क्षेत्र में भी अपनी विशिष्ट पहचान बनायी।

image