Thursday, Dec 13 2018 | Time 13:41 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • जोरमथांगा शनिवार को ले सकते हैं मुख्यमंत्री पद की शपथ
  • लगातार दूसरे भी नहीं हुआ संसद में कामकाज
  • राम मंदिर के लिए अध्यादेश की माँग
  • इम्फाल में बम धमाका
  • दिल्ली में नमी के साथ ठंड , हवा की गुणवत्ता खराब
  • एक करोड़ की अष्टधातु निर्मित राम-जानकी की मूर्तियां चोरी
  • जीवन के हर फलसफे पर गीत लिखने में माहिर थे शैलेन्द्र
  • जीवन के हर फलसफे पर गीत लिखने में माहिर थे शैलेन्द्र
  • रोहित, अश्विन के बिना बढ़त को उतरेगा भारत
  • रोहित, अश्विन के बिना बढ़त को उतरेगा भारत
  • लोकसभा ने संसद पर हमले के शहीदों को श्रद्धांजलि दी
  • हंगामे के कारण लोकसभा की कार्यवाही दिन भर के लिए स्थगित
  • अश्विन, रोहित, कुलदीप पर्थ टेस्ट से बाहर
  • अश्विन, रोहित, कुलदीप पर्थ टेस्ट से बाहर
मनोरंजन » फिल्म समीक्षा Share

शिक्षा प्रणाली पर सवाल उठाती ‘हिंदी मीडियम’

शिक्षा प्रणाली पर सवाल उठाती ‘हिंदी मीडियम’

नयी दिल्ली, 20 मई (वार्ता) सामाजिक सरोकार से जुड़ी फिल्मों को बॉलीवुड में पहचान मिलने लगी है।
ऐसी ही शिक्षा जैसी महत्वपूर्ण मुद्दे से जुड़ी है निर्देशक साकेत चौधरी की फिल्म ‘हिन्दी मीडियम’।
फिल्म में इरफान खान और दीपक डोबरियाल के साथ पाकिस्तानी अदाकारा सबा कमर मुख्य भूमिका में है।
कहानी: यह कहानी दिल्ली की है जहां के चांदनी चौक के बाजार में राज बत्रा (इरफान खान) लहंगे की दुकान चलाता है और उसके पास पैसे की कोई कमी नहीं।
वह पत्नी मीता (सबा कमर) से बहुत प्यार करता है।
दोनों की बेटी है पिया, जिसका एडमिशन मीता किसी निजी अंग्रेजी स्कूल में कराना चाहती है।
मिशन एडमिशन के तहत राज और मीता दिल्ली के बड़े स्कूलाें की खाक छानते हैं और बेटी के एडमिशन के लिये चांदनी चौक छोड़ दिल्ली के पॉश इलाके वसंत विहार में शिफ्ट हो जाते है।
पिया को किसी अच्छे अंग्रेजी माध्यम स्कूल में दाखिला नहीं मिलने पर दोनों गरीबों के लिए आरक्षित कोटे में दाखिले का प्रयास भी करते हैं और सफल हो जाते है।
लेकिन इसके बाद रवि को अपनी गलती का एहसास होता है कि उसने किसी गरीब का हक मारा है।
यहां से फिल्म का ट्रैक बदलता है और यह दिखाया जाता है कि किस तरह अमीर लोग गरीबों का हक छीन रहे हैं और शिक्षा का अधिकार कानून का दुरुपयोग हो रहा है।
निर्देशन : ‘प्यार के साइड इफेक्ट्स’ और ‘शादी के साइड इफेक्ट्स’ जैसी फिल्मों का निर्देशन करने वाले साकेत चौधरी ‘हिन्दी मीडियम’ के जरिये शिक्षा प्रणाली के साइड इफेक्ट्स को लोगों के सामने ला रहे हैं।
अच्छे विषय के साथ न्याय करने में वह कामयाब रहें।
उन से चूक फिल्म के क्लाइमेक्स में हुई जो नाटकीय लगता है।
अभिनय: इरफान खान ऐसे अभिनेता है जिनकी आंखें भी बाेलती हैं और इस फिल्म को देखने के बाद लगा की एक कारोबारी, पिता और पति का किरदार इस शानदार ढंग से शायद ही काेई और निभा पाता।
फिल्म के आखिर में उनका मोनोलॉग सीख देता है।
सबा कमर पति को अंगुलियों पर नचाने वाली पत्नी के किरदार में खूब जमी हैं।
दीपक डोबरियाल ने गरीब इंसान के किरदार में प्रभावित किया है।
काउंसलर की भूमिका में तिलोत्तमा शोम उपस्थिति दर्ज कराने में कामयाब रहीं।
अमृता सिंह, नेहा धूपिया और संजय सूरी के लिये फिल्म में ज्यादा कुछ नहीं था।
गीत संगीत: फिल्म में गाने कम हैं, आतिफ असलम की आवाज में ‘हूर’ सुकून देता है ।
गुरु रंधावा का ‘सूट-सूट’ पार्टी नंबर है जो रिलीज से पहले ही हिट हो चुका है।
देखे या ना देखें : नया आैर आम लोंगों से जुड़ा विषय होने के कारण हम इस फिल्म को देखने की सलाह देंगें।
फिल्म सिर्फ भाषा ही नहीं बल्कि शिक्षा प्रणाली की दूसरी खामियों को भी उजागर करती है।
फिल्म की कमजोर कड़ी इसका आखिरी हिस्सा है जो सच्चाई की जगह नाटकीय लगता है।
पूरी फिल्म दर्शकों को बांधे रखती है लेेकिन आखरी हिस्से में यह जुड़ाव थोड़ा कम हो जाता है।
रेटिंग : शानदार अभिनय इस फिल्म को और भी दमदार बनाता है जिससे दूसरी खामियां ढक जाती है ।
फिल्म को हमारी तरफ से पांच में से साढे तीन अंक (3.5*/5*) अमित, यामिनी वार्ता

‘जीरो’में

‘जीरो’में श्रीदेवी का सीन हमारे लिये गर्व की बात : शाहरूख

मुंबई 13 दिसंबर (वार्ता) बॉलीवुड के ‘किंग खान’ शाहरूख खान का कहना है कि फिल्म ‘जीरो’ में अभिनेत्री श्रीदेवी का सीन रखा जाना उनके लिये गर्व की बात है।

53

53 की हुईं किमी काटकर

मुंबई 11 दिसंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री एवं जुम्मा चुम्मा गर्ल किमी काटकर मंगलवार को 53 वर्ष की हो गयीं।

देश

देश भक्ति से ओतप्रोत गीत लिखने में माहिर थे प्रदीप

.. पुण्यतिथि 11 दिसंबर के अवसर पर ..
मुंबई 10 दिसंबर (वार्ता) यूं तो भारतीय सिनेमा जगत में वीरों को श्रद्धांजलि देने के लिये अब तक न जाने कितने गीतों की रचना हुयी है लेकिन ..ऐ मेरे वतन के लोगो जरा आंखो मे भर लो पानी जो शहीद हुये है उनकी जरा याद करो कुर्बानी .. जैसे देश प्रेम की अद्भुत भावना से ओत प्रोत रामचंद्र द्विवेदी उर्फ कवि प्रदीप के इस गीत की बात ही कुछ और है।

संवाद

संवाद अदायगी के बेताज बादशाह हैं शत्रुध्न सिन्हा

..जन्मदिवस नौ दिसंबर  ..
मुंबई 08 दिसंबर (वार्ता) बतौर खलनायक अपने करियर का आगाज कर अपने आक्रमक अंदाज .विद्रोही तेवर और संवाद अदायगी के दम पर शत्रुध्न सिन्हा ने दर्शको को इस कदर दीवाना बनाया कि नायक की तुलना में उन्हें अधिक वाहवाही मिलती ।

जीवन

जीवन के हर फलसफे पर गीत लिखने में माहिर थे शैलेन्द्र

पुण्यतिथि 14 दिसंबर के अवसर पर
मुंबई 13 दिसंबर (वार्ता) दो दशक से अधिक समय तक करीब 170 फिल्मों में जिंदगी के हर फलसफे और जीवन के हर रंग पर गीत लिखने वाले शैलेन्द्र के गीतों में हर व्यक्ति स्वयं को ऐसे समाहित सा महसूस करता है जैसे वह गीत उसी के लिए लिखा गया हो।

जीवन

जीवन के हर फलसफे पर गीत लिखने में माहिर थे शैलेन्द्र

पुण्यतिथि 14 दिसंबर के अवसर पर
मुंबई 13 दिसंबर (वार्ता) दो दशक से अधिक समय तक करीब 170 फिल्मों में जिंदगी के हर फलसफे और जीवन के हर रंग पर गीत लिखने वाले शैलेन्द्र के गीतों में हर व्यक्ति स्वयं को ऐसे समाहित सा महसूस करता है जैसे वह गीत उसी के लिए लिखा गया हो।

डिजिटल

डिजिटल की दुनिया में कदम रखेंगे अर्जुन रामपाल

नई दिल्‍ली 13 दिसंबर (वार्ता) बॉलीवुड के स्टाइलिश अभिनेता अर्जुन रामपाल डिजिटल की दुनिया में कदम रखने
जा रहे हैं।

बस

बस कंडक्टर से महानायक बने रजनीकांत

..जन्मदिवस 12 दिसंबर के अवसर पर..
मुंबई 11 दिसंबर (वार्ता) बतौर बस कंडक्टर अपने करियर की शुरुआत कर दक्षिण भारतीय फिल्मों के महानायक बनने वाले रजनीकांत को यह मुकाम पाने के लिये कड़ा संघर्ष करना पड़ा था।

दिलकश

दिलकश अदाओं से दर्शकों को दीवाना बनाया दीया मिर्जा ने

..जन्मदिन नौ दिसंबर ...
मुबंई 08 दिसंबर(वार्ता)बॉलीवुड में दीया मिर्जा को एक ऐसी अभिनेत्री के तौर पर शुमार किया जाता है जिन्होंने अपनी दिलकश अदाओं से दर्शकों को दीवाना बनाया है।

अभिनेता

अभिनेता नही निर्देशक बनना चाहते हैं आर्यन : शाहरूख

मुंबई 13 दिसंबर (वार्ता) बॉलीवुड के ‘किंग खान’शाहरूख खान का कहना है कि उनके बेटे आर्यन अभिनेता नहीं निर्देशक बनना चाहते हैं।

पॉप गायिकी को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलायी माइकल जैक्सन ने

पॉप गायिकी को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलायी माइकल जैक्सन ने

..जन्मदिवस 29 अगस्त के अवसर पर ..
मुंबई 28 अगस्त(वार्ता)किंग ऑफ पॉप माइकल जैक्सन को ऐसी शख्सियत के तौर पर याद किया जाता है जिन्होंने पॉप संगीत की दुनिया को पूरी तरह बदलकर अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अपनी पहचान बनायी है।

माय वर्जिन डायरी डिजिटल प्लेटफार्म पर मचा रही धूम

माय वर्जिन डायरी डिजिटल प्लेटफार्म पर मचा रही धूम

नयी दिल्ली 25 मार्च (वार्ता) दिल्ली विश्वविद्यालय के हिन्दू कॉलेज के छात्रों की जिंदगी पर आधारित फिल्म माय वर्जिन डायरी डिजिटल प्लेटफार्म जिओ सिनेमा, एयरटेल मूवीज, बिगफ्लिक्स, चिल्क्स, हंगामा मूवी, नेट्टीवुड आदि के जरिये वैश्विक स्तर पर धूम मचा रही है।

रियलिटी शो अवसर सिद्ध करने का मजबूत प्लेटफार्म : तान्या

रियलिटी शो अवसर सिद्ध करने का मजबूत प्लेटफार्म : तान्या

लखनऊ 26 अक्टूबर (वार्ता) नन्ही पार्श्व गायिका तान्या तिवारी का मानना है कि छोटे पर्दे पर रियलिटी शो की भरमार ने चुनौतियों के बावजूद अवसरों को यर्थाथ में बदलने का मजबूत प्लेटफार्म युवा गायकों को मुहैया कराया है।

देश भक्ति से ओतप्रोत गीत लिखने में माहिर थे प्रदीप

देश भक्ति से ओतप्रोत गीत लिखने में माहिर थे प्रदीप

.. पुण्यतिथि 11 दिसंबर के अवसर पर ..
मुंबई 10 दिसंबर (वार्ता) यूं तो भारतीय सिनेमा जगत में वीरों को श्रद्धांजलि देने के लिये अब तक न जाने कितने गीतों की रचना हुयी है लेकिन ..ऐ मेरे वतन के लोगो जरा आंखो मे भर लो पानी जो शहीद हुये है उनकी जरा याद करो कुर्बानी .. जैसे देश प्रेम की अद्भुत भावना से ओत प्रोत रामचंद्र द्विवेदी उर्फ कवि प्रदीप के इस गीत की बात ही कुछ और है।

image