Wednesday, May 27 2020 | Time 17:27 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • उत्तराखंड में कोरोना के 38 नये मामले सामने आए
  • 2500 अमेरिकी बोइंग कर्मचारी भेजे गये अवैतनिक अवकाश पर
  • शीना अग्रवाल ने स्मार्ट सिटी कार्यों की प्रगति की समीक्षा की
  • उप निदेशक आईसीडीएस के वित्तीय अधिकार सीज
  • एटा में तीन और कोरोना पॉजिटिव, संक्रमितों की संख्या बढ़कर हुई 18
  • नगर सुधार ट्रस्ट में हो रहे भर्ती घोटाले की हो निष्पक्ष जांच:सुरेश महाजन
  • पूर्णबन्दी में घरेलू हिंसा के मामलों में बढ़ोतरी हुई: अशोक
  • बिहार मे मिले 38 कोरोना पॉजिटिव, संक्रमितों का आंकड़ा तीन हजार के पार
  • अमेजन की अपने विक्रेताओं को मुफ्त कोविड-19 स्वास्थ्य बीमा सुविधा
  • चंपावत के बालातड़ी गांव में होम क्वारंटीन के दौरान युवती की मौत
  • भारत-ऑस्ट्रेलिया एडिलेड में खेलेंगे दिन-रात्रि टेस्ट
  • भारत-ऑस्ट्रेलिया एडिलेड में खेलेंगे दिन-रात्रि टेस्ट
  • गिरिडीह से बैंक चोरी के मामले में तीन अपराधी गिरफ्तार
मनोरंजन » कला एवं रंगमंच


गुलाम हैदर ने पहचाना था लता की प्रतिभा को

गुलाम हैदर ने पहचाना था लता की प्रतिभा को

..पुण्यतिथि 09 नवंबर  ..
मुंबई 08 नवंबर (वार्ता) लता मंगेशकर के सिने कैरियर के शुरूआती दौर में कई निर्माता-निर्देशक और संगीतकारों ने पतली आवाज के कारण उन्हें गाने का अवसर नहीं दिया लेकिन उस समय एक संगीतकार ऐसे भी थे जिन्हें लता मंगेशकर की प्रतिभा पर पूरा भरोसा था और उन्होंने उसी समय भविष्यवाणी कर दी थी ..यह लड़की आगे चलकर इतना अधिक नाम करेगी कि बड़े से बड़े निर्माता-निर्देशक और संगीतकार उसे अपनी फिल्म में गाने का मौका देंगे।
यह संगीतकार और कोई नहीं.. गुलाम हैदर थे ।

वर्ष 1908 में जन्मे गुलाम हैदर ने स्कूल की पढ़ाई पूरी करने के बाद दंत चिकित्सा की पढ़ाई शुरू की थी।
इस दौरान अचानक उनका रूझान संगीत की ओर हुआ और उन्होंने बाबू गणेश लाल से संगीत की शिक्षा लेनी शुरू कर दी।
दंत चिकित्सा की पढ़ाई पूरी करने के बाद वह दंत चिकित्सक के रूप में काम करने लगे।
पांच वर्ष तक दंत चिकित्सक के रूप में काम करने के बाद गुलाम हैदर का मन इस काम से उचट गया।
उन्हें ऐसा महसूस हुआ कि संगीत के क्षेत्र में उनका भविष्य अधिक सुरक्षित होगा।
इसके बाद वह कलकत्ता की एलेक्जेंडर थियेटर कंपनी में हारमोनियम वादक के रूप में काम करने लगे।

वर्ष 1932 में गुलाम हैदर की मुलाकात निर्माता-निर्देशक ए आर कारदार से हुयी जो उनकी संगीत प्रतिभा से काफी प्रभावित हुये।
कारदार उन दिनों अपनी नयी फिल्म ‘स्वर्ग की सीढी’ के लिये संगीतकार की तलाश कर रहे थे।
उन्होंने हैदर से अपनी फिल्म में संगीत देने की पेशकश की लेकिन अच्छा संगीत देने के बावजूद फिल्म बॉक्स आफिस पर असफल रही।
इस बीच हैदर को डी एम पंचोली की वर्ष 1939 में प्रदर्शित पंजाबी फिल्म ‘गुल.ए.बकावली’ में संगीत देने का मौका मिला।
फिल्म में नूरजहां की आवाज में गुलाम हैदर का संगीतबद्ध गीत ..पिंजरे दे विच कैद जवानी.. उन दिनों सबकी जुबान पर था।

वर्ष 1941 में हैदर के सिने कैरियर का अहम वर्ष साबित हुआ।
फिल्म ‘खजांची’ में उनके संगीतबद्ध गीतों ने भारतीय फिल्म संगीत की दुनिया में एक नये युग की शुरआत कर दी।
वर्ष 1930 से 1940 के बीच संगीत निर्देशक शास्त्रीय राग-रागिनियों पर आधारित संगीत दिया करते थे लेकिन हैदर इस विचारधारा के पक्ष में नहीं थे।
हैदर ने शास्त्रीय संगीत में पंजाबी धुनों कामिश्रण करके एक अलग तरह का संगीत देने का प्रयास दिया और उनका यह प्रयास काफी सफल भी रहा।

वर्ष 1946 में प्रदर्शित फिल्म ‘शमां’ में अपने संगीतबद्ध गीत..गोरी चली पिया के देश.. हम गरीबों को भी पूरा कभी आराम कर दे. और ..एक तेरा सहारा ..में उन्होंने ..तबले..का हैदर ने बेहतर इस्तेमाल किया जो श्रोताओ को काफी पसंद आया।
इस बीच. उन्होंने बांबे टॉकीज के बैनर तले बनी फिल्म ‘मजबूर’ के लिये भी संगीत दिया।
हैदर ने लता मंगेशकर को अपनी फिल्म ‘मजबूर’ में गाने का मौका दिया और उनकी आवाज में संगीतबद्ध गीत ..दिल मेरा तोडा.कहीं का न छोड़ा तेरे प्यार ने ..श्रोताओं के बीच काफी लोकप्रिय हुआ।
इसके बाद ही अन्य संगीतकार भी उनकी प्रतिभा को पहचानकर उनकी तरफ आकर्षित हुये और अपनी फिल्मों में लता मंगेशकर को गाने का मौका दिया तथा उन्हें फिल्म इंडस्ट्री में अपनी पहचान बनाने में कामयाबी मिली।

लता के अलावा सुधा मल्होत्रा और सुरेन्द्र कौर जैसी छुपी हुयी प्रतिभाओं को निखारने में गुलाम हैदर के संगीतबद्ध गीतों का अहम योगदान रहा है।
देश आजाद होने के बाद 1948 में देश के वीरों को श्रद्धाजंलि देने के लिये उन्होंने फिल्म शहीद के लिये ..वतन की राह में वतन के नौजवान शहीद हो.. गीत को संगीतबद्ध किया।
देशभक्ति की भावना से परिपूर्ण यह गीत आज भी लोकप्रिय देशभक्ति गीत के रूप में सुना जाता है और श्रोताओं की आंख को नम कर देता है।

पचास के दशक में मुंबई बंदरगाह पर हुये बम विस्फोटों से मुंबई दहल उठी जिसे देखकर गुलाम हैदर की टीम में शामिल वादकों और संगीतज्ञों ने मुंबई छोड़ कर लाहौर जाने का फैसला कर लिया।
गुलाम हैदर ने उन्हें रोकने की हर संभव कोशिश की।
यहां तक कि उन्होंने उन्हें दो महीने का अग्रिम वेतन देने की भी पेशकश की लेकिन वे काफी भयभीत थे और लाहौर जाने का मन बना चुके थे।
इसके कुछ दिन के बाद गुलाम हैदर भी लाहौर चले गये।
वहां उन्होंने शाहिदा (1949), बेकरार (1955), अकेली (1951) और भीगी पलकें (1952) जैसी फिल्मों के गीतों को संगीतबद्ध किया लेकिन इनमें से कोई भी फिल्म सफल नहीं हुयी।

इसके बाद गुलाम हैदर ने निर्देशक नाजिर अजमीरी और अभिनेता एस गुल के साथ मिलकर ‘फिल्मसाज’ बैनर की स्थापना की।
फिल्म ‘गुलनार’ इस बैनर तले बनी गुलाम हैदर की पहली और आखिरी फिल्म साबित हुयी और इसके प्रदर्शन के महज तीन दिन बाद ही वह 09 नवंबर 1953 को इस दुनिया को अलविदा कह गये।

 

अक्षय

अक्षय ने ‘बेल बॉटम’ पर शुरू किया काम

मुंबई, 27 मई (वार्ता) बॉलीवुड के खिलाड़ी कुमार अक्षय कुमार ने लॉकडाउन के बीच अपनी आने वाली फिल्म ‘बेल बॉटम’ पर काम शुरू कर दिया है।

आलम

आलम आरा के लिये महबूब खान का किया गया था चयन

..पुण्यतिथि 28 मई ..
मुंबई, 27 मई (वार्ता) हिन्दी सिनेमा जगत के युगपुरूष महबूब खान को एक ऐसी शख्सियत के तौर पर याद किया जाता है जिन्होंने दर्शकों को लगभग तीन दशक तक क्लासिक फिल्मों का तोहफा दिया लेकिन कम लोगो को पता होगा कि भारत की पहली बोलती फिल्म आलम आरा के लिये महबूब खान का अभिनेता के रूप में चयन किया गया था।

अजय

अजय ने सोनू सूद की तारीफ की

मुंबई 27 मई (वार्ता) बॉलीवुड के सिंघम स्टार अजय देवगन ने श्रमिकों की सहायता करने के लिये सोनू सूद की तारीफ की है।

विद्या

विद्या बालन बनीं निर्माता

मुंबई 27 मई (वार्ता) बॉलीवुड में अपने संजीदा अभिनय के लिये मशहूर विद्या बालन अब निर्माता बन गयी है।

सोनू

सोनू सूद ने प्रवासी मजदूरों की मदद के लिए हेल्पलाइन नंबर जारी किया

मुंबई, 27 मई (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता सोनू सूद ने प्रवासी मजदूरों की मदद के लिए हेल्पलाइन नंबर जारी किया है।

मुंबई

मुंबई में रोजाना 4500 फूड पैकेट बांट रहे अमिताभ

मुंबई, 27 मई (वार्ता) बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन लॉकडाउन के दौरान जरूरतमंद लोगों के बीच हर दिन 4500 फूड पैकेट बांट रहे हैं।

सलमान

सलमान की एनिमेटेड ‘दबंग’ होगी रिलीज

मुंबई 27 मई (वार्ता) बॉलीवुड के दबंग स्टार सलमान खान की सुपरहिट फिल्म दबंग एनिमेटड सीरीज में रिलीज होगी।

रामगोपाल

रामगोपाल वर्मा की फिल्म 'कोरोना वायरस' का ट्रेलर रिलीज

मुंबई 27 मई (वार्ता) बॉलीवुड फिल्मकार रामगोपाल वर्मा की फिल्म 'कोरोना वायरस' का ट्रेलर रिलीज कर दिया गया है।

रणवीर

रणवीर ने पूरा नहीं किया दीपिका से किया वादा

मुंबई 26 मई (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता रणवीर सिंह का कहना है कि उन्होंने दीपिका पादुकोण से शादी के समय एक वादा किया था जिसे उन्होंने अबतक पूरा नहीं किया है।

लॉकडाउन

लॉकडाउन में अक्षय ने शूटिंग शुरू की

मुंबई, 26 मई (वार्ता) बॉलीवुड के खिलाड़ी कुमार अक्षय कुमार ने लॉकडाउन में शूटिंग शुरू की है।

image