Monday, Jan 27 2020 | Time 21:45 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • सत्र के दौरान सुरक्षा की जिम्मेदारी,सुरक्षा अधिकारियों व कर्मचारियों की होती है:दीक्षित
  • कोरोना वायरस से बचाव के लिए प्रदेश स्तर पर सतर्कता रखी जाय:देवेश चतुर्वेदी
  • आरओ प्रोसेसिंग के लिए भूजल का दुरुपयोग करने वालों के खिलाफ हो सख्त कार्रवाई : नीतीश
  • केशव ने संतों को ट्रस्ट में शामिल की बात सरकार तक पहुंचाने दिया आश्वासन
  • इंग्लैंड ने दक्षिण अफ्रीका से जीती सीरीज
  • इंग्लैंड ने दक्षिण अफ्रीका से जीती सीरीज
  • सीएए के विरोध प्रदर्शन में पुलिस उत्पीड़न के खिलाफ शिकायतो पर कार्रवाई का ब्योरा तलब
  • लोजपा 119 विधानसभा सीटों पर उम्मीदवार उतारने की तैयारी में जुटी
  • सीटीआई प्रमाणपत्र को वरीयता देने को चुनौती
  • उत्तराखंड में 29 जनवरी को भारी बर्फबारी का अलर्ट
  • आंध्र प्रदेश विस ने विधान परिषद समाप्त करने का प्रस्ताव पारित किया
  • पुत्र ने की पिता की पीट-पीटकर हत्या
  • भारतीय हॉकी टीम की पूर्व कप्तान सुनीता चंद्रा का निधन
  • भारतीय हॉकी टीम की पूर्व कप्तान सुनीता चंद्रा का निधन
  • युवक की हत्या के चार दोषियों को अदालत 28 जनवरी को सुनाएगी सज़ा
राज्य » गुजरात / महाराष्ट्र


कौशल शिक्षा से मिलता है रोजगार का अवसर

मुंबई, 11 अक्टूबर (वार्ता) स्कूलगुरू एडुसर्व प्राइवेट लिमिटेड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी एवं संस्थापक शांतनु रूज ने आज कहा कि देश के 30 बड़े विश्वविद्यालयों से कौशल शिक्षा लेकर विद्यार्थी रोजगार के अधिक अवसर पा रहे हैं।
उन्होंने आज यहां संवाददाताओं से कहा कि उनकी संस्था देश के 30 बड़े विश्वविद्यालयों में कौशल शिक्षा सेवा उपलब्ध करा रही है जिससे विद्यार्थियों को रोजगार मिलने में आसानी हो रही है।
उन्होंने कहा कि देश के 30 विश्वविद्यालयों में उनकी संस्था उत्पादन, बैंकिंग और फाइनेंस, खुदरा, माइक्रो फाइनेंस और
ई-कामर्स जैसे विषयों पर लिखित और प्रैक्टिकल शिक्षा तथा क्लास में और ऑन लाइन शिक्षा उपलब्ध कराती है।
उन्होंने कहा कि इन विश्वविद्यालयों में 15 महीने का डिप्लोमा कराया जाता है और इसकी फीस 10 हजार रुपये होती है। इस दौरान कंपनी में 12 माह का प्रशिक्षण भी दिया जाता है ताकि विद्यार्थियों को काम पूरी तरह से सिखाया जा सके। यही नहीं प्रशिक्षण के दौरान विद्यार्थियों को मानधन भी दिया जाता है जिससे वे अपना और अपने घर का खर्च चला सकते हैं।
कौशल शिक्षा 12वीं पास करने के बाद लिया जा सकता है।
उन्होंने कहा कि बिहार के मिथिला विश्वविद्यालय से सबसे अधिक प्रति माह लगभग 200 बच्चे इंटर्नशिप के लिए कंपनी में भेजे जाते हैं।
श्री रूज ने कहा कि वर्तमान समय में सबसे अधिक आटोमाेबाइल क्षेत्र में रोज के अवसर उपलब्ध हैं। उन्होंने कहा कि हमारी संस्था मुंबई विश्वविद्यालय से भी इस संबंध में बात कर रही है।
त्रिपाठी.श्रवण
वार्ता
image