Monday, Dec 9 2019 | Time 05:19 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • फिनलैंड में सन्ना बनी सबसे कम उम्र में प्रधानमंत्री निर्वाचित होने वाली महिला
  • महाभियोग लेख इस सप्ताह पेश किया जा सकता है: जेरी
  • कोस्टा रिका में मध्य स्तर के भूकंप के झटके
  • ईरान में सीमा रक्षकों ने 500 किलोग्राम अफीम जब्त किया
  • नेतन्याहू ने गाजा पट्टी में संभावित सैन्य अभियान की तैयारी का दिया आदेश
  • उत्तर कोरिया को परमाणु निरस्त्रीकरण के समझौत पर अमल करना चाहिए:ट्रम्प
राज्य » गुजरात / महाराष्ट्र


कोश्यारी से फडनवीस और राउते ने की अलग-अलग मुलाकात

मुंबई, 28 अक्टूबर (वार्ता) भारतीय जनता पार्टी और शिव सेना के बीच महाराष्ट्र में सरकार बनाने की कवायद के बीच सोमवार को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडनवीस और शिव सेना के वरिष्ठ नेता दिवाकर राउते ने राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से अलग अलग मुलाकात की।
शिव सेना के वरिष्ठ नेता राउते आज सुबह 10़ 30 बजे और मुख्यमंत्री फडनवीस ने 11 बजे श्री कोश्यारी से मुलाकात की। हालांकि दोनों ही पाटी के नेताओं ने कहा कि यह बैठक “शिष्टाचार मुलाकात” थी। बाद में श्री राउते ने
कहा कि यह मुलाकात सिर्फ दीपावली के लिए थी। उन्होंने कहा कि वर्ष 1993 से हर वर्ष वह दीपावली के अवसर पर राज्यपाल से मुलाकात करने आते हैं। मैं राज्यपाल और उनके परिवार से मिला और उन्हें दीपावली की शुभकामना दी।
उन्होंने कहा कि मुझे मिलने का समय श्री फडनवीस से थोड़ा पहले दिया गया था लेकिन इस मुलाकात में
कोई राजनीतिक चर्चा नहीं हुयी। कुछ समय बाद श्री फडनवीस ने भी श्री कोश्यारी से मुलाकात की और दीपावली
की शुभकामना दी। श्री फडनवीस ने उन्हें वर्तमान परिदृश्य से अवगत कराया।
राजभवन के अधिकारियों के अनुसार दोनों नेताओं की यह “ शिष्टाचार मुलाकात” थी।
भाजपा को तीन निर्दलीय विधायकों ने समर्थन देने की कल घोषणा की। इसमें से दो भाजपा के ही बगावत कर चुनाव लड़ने वाले सोलापुर के बार्शी से चुनाव जीतने वाले राजेन्द्र राउत और ठाणे जिला के मीर-भयंदर क्षेत्र से चुनाव लड़ने पाली गीता जैन हैं। अमरावती से चुनाव लड़ने वाले निर्दलीय उम्मीदवार रवी राणा ने भी समर्थन देने की घोषणा की है।
शिव सेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे से मुलाकात करने के बाद विदर्भ क्षेत्र के अमरावती जिला के अचलपुर से चुनाव जीतने वाले बच्चू काडू और मेलघाट से चुनाव जीतने वाले राजकुमार पटेल ने शिव सेना को समर्थन देने का प्रस्ताव दिया है।
त्रिपाठी, उप्रेती
वार्ता
image