Tuesday, Aug 11 2020 | Time 20:40 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • महाराष्ट्र में कोरोना मामले 5 35 लाख के पार, 3 68 लाख से अधिक स्वस्थ
  • सीनियर राष्ट्रीय कुश्ती चैम्पियनशिप 2020 का आयोजन हो: कृपाशंकर
  • महाराष्ट्र में कोरोना के 11,088 नये मामले, 10,014 हुए स्वस्थ
  • सनातन संस्था की नेपाली भाषा में वेबसाइट
  • कर्नाटक में कोरोना के 6257 नये मामले, 6473 हुए स्वस्थ
  • फोटो कैप्शन पहला सेट
  • बिहार में 4071 मिले नये पॉजिटिव, 15 की मौत
  • एम्स के साथ इजरायल ने साझा कीं कोरोना से जंग के लिए नयी प्रौद्योगिकियां
  • यूएई को आईपीएल आयोजन के लिए बीसीसीआई से मिली आधिकारिक मंजूरी
  • कोरोना :जर्मनी में इंटरनेट से वीडियो कॉल में हुई वृद्धि
  • रोहतास में नहर में गिरने से जवान की मौत
  • बीजद विधायक एस आर पटनायक कोरोना पॉजिटिव
  • सतीश कुमार को अतिरिक्त कार्यभार
  • ‘मेरा पानी मेरी विरासत’ के तहत किसानों मिलेंगे प्रति एकड़ 2,000 रूपए
राज्य » मध्य प्रदेश / छत्तीसगढ़


नेशनल कॉन्फ्रेंस ऑन यूनिफार्म्ड वीमेन इन प्रिजन्स एडमिनिस्ट्रेशन 19-20 दिसम्बर को

भोपाल, 10 दिसम्बर (वार्ता) जेल विभाग और बी.पी.आर. एण्ड डी. नई दिल्ली द्वारा संयुक्त रूप से 19-20 दिसम्बर को सेंट्रल एकेडमी फॉर पुलिस ट्रेनिंग कान्हासैया में सेकेण्ड नेशनल कॉन्फ्रेंस ऑन यूनीफार्म्ड वीमेन इन प्रिजन्स एडमिनिस्ट्रेशन का आयोजन किया जायेगा।
कॉन्फ्रेंस में विभिन्न राज्यों की जेलों के वार्डन से लेकर महानिरीक्षक स्तर की वर्दीधारी महिला अधिकारी और कर्मचारी, गैर-सरकारी संगठनों के सदस्य, शैक्षणिक संस्थाओं के प्रतिनिधि एवं अन्य सरकारी विभागों के अधिकारी शामिल होंगे।
वर्दीधारी महिलाओं के इस प्रकार के राष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन पहली बार दिल्ली से बाहर मध्यप्रदेश में किया जा रहा है। पहली बार यह सम्मेलन 2017 में दिल्ली में हुआ था। मध्यप्रदेश में महिलाओं को शासकीय सेवाओं में 30 प्रतिशत आरक्षण दिया गया है। वर्तमान में प्रदेश के जेल विभाग में 900 से अधिक वर्दीधारी महिला अधिकारी-कर्मचारी कार्यरत हैं।
द्वितीय राष्ट्रीय नेशनल कॉन्फ्रेंस में जेल विभाग में कार्यरत वर्दीधारी महिला अधिकारियों-कर्मचारियों के लिये लिंगभेद मुक्त कार्य-स्थल/वर्दीधारी महिलाओं की कार्य-स्थल पर चुनौतियाँ, वर्दीधारी महिला अधिकारियों के लिए कार्य और पारिवारिक जीवन में संतुलन/वर्दीधारी महिला जेल अधिकारियों को जेल के मुख्य कार्यों एवं दायित्वों से जोड़ना, कार्य-स्थल से जुड़ी समस्याएँ तथा मानसिक एवं सामाजिक रूप से मजबूत बनाने के लिये कार्य-निष्पादन संबंधी चर्चा की जाएगी। कॉन्फ्रेंस में दो ऐसी वर्दीधारी महिला अधिकारी-कर्मचारियों की भी चर्चा होगी, जिन्होंने अपने कार्यकाल में सफलतापूर्वक चुनौतीपूर्ण कार्य किये हैं।
नाग
वार्ता
image