Friday, Aug 23 2019 | Time 14:32 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • चेन्नई तिलहन के भाव
  • चेन्नई सर्राफा के खुले भाव
  • राजधानी में हल्की बारिश होने के आसार
  • मनमोहन ने राज्यसभा सदस्य के रूप में ली शपथ
  • आईएनएक्स मीडिया: ईडी मामले में चिदम्बरम को अंतरिम संरक्षण
  • मोदी को खलनायक की तरह पेश करना गलत: सिंघवी
  • पाकिस्तान के रेलमंत्री शेख रशीद पर लंदन में अंडे फेंके गए
  • आईएनएक्स मीडिया: चिदम्बरम की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में सोमवार को सुनवाई
  • बंगाल में भगदड़ से चार लोगों की मौत, 26 घायल
  • मोदी शुक्रवार को यूएई की यात्रा पर जाएंगे
  • तीन तलाक: केंद्र सरकार को सुप्रीम कोर्ट का नोटिस
  • लघु उद्योगों के प्रोत्साहन से अर्थव्यवस्था होगी मजबूत
  • अफगानिस्तान में तीन पुलिसकर्मी, पांच आंतकवादी मारे गये
  • डिजिटल प्रौद्योगिकी पर फ्रांस,भारत के बीच समझौता
  • छह-सात महीनों में करीब 55 प्रतिशत अपराध बढे-कटारिया
राज्य » अन्य राज्य


महिलाओं, बच्चों का सम्पूर्ण विकास सरकार की प्राथमिकता: उत्पल कुमार

देहरादून 14 अगस्त (वार्ता) उत्तराखंड के मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह ने बुधवार को यहां कहा है कि महिलाओं और बच्चों का सम्पूर्ण विकास राज्य सरकार की प्राथमिकताओं में से एक है।
महिला सशक्तिकरण एवं बाल विकास विभाग की आज समीक्षा बैठक की अध्यक्षता करते हुये श्री सिंह ने कहा कि आंगनवाड़ी भवनों के निर्माण, कुपोषित बच्चों के कुपोषण से मुक्ति हेतु किये जा रहे कार्य एवं आंगनवाड़ी कार्यकत्रियों के रिक्त पदों को भरने की प्रक्रिया को मिशन मोड में सम्पन्न किया जाए। उन्होंने कहा कि विभाग के अन्तर्गत संचालित केन्द्रपोषित योजनाओं में से आई.सी.डी.एस. सर्विसेज के अन्तर्गत वेतन तथा मानदेय के प्रतिमाह भुगतान की व्यवस्था शीघ्र सुनिश्चित की जाए।
मुख्य सचिव ने कहा कि आंगनवाड़ी भवन निर्माण योजना के अन्तर्गत वर्ष 2022 तक 5000 आंगनवाड़ी केन्द्र तैयार किये जाने हैं। आंगनवाड़ी केन्द्रों के निर्माण को प्राथमिकता में लेते हुए वर्षवार योजना तैयार कर योजना को पूर्ण किया जाए। उन्होंने कहा कि भवनों को भूकम्परोधी तथा आपदा प्रबन्धन के अन्तर्गत निर्मित किए जाएं। आंगनबाड़ी भवनों के निर्माण हेतु बांस के घर के विकल्प का भी अध्ययन कर लिया जाय।
उन्होंने कहा कि कुपोषित एवं अतिकुपोषित बच्चों पर लगातार नजर रखी जाए। प्रदेश के ऐसे जनपदों का चयन किया जाय, जिनमें सबसे अधिक बच्चे कुपोषण से मुक्त हुए हैं। इन जनपदों में कुपोषण मुक्ति के लिए किये गये प्रयासों का अध्यययन एवं विश्लेषण कर अन्य जिलों के लिए भी योजना बनाई जाय।
इस अवसर पर निदेशक महिला एवं बाल विकास विभाग झरना कमठान एवं उप निदेशक सुजाता भी उपस्थित रही।
सं. उप्रेती
वार्ता
More News
‘पूजो’ के मूड में नजर आने लगा बंगाल

‘पूजो’ के मूड में नजर आने लगा बंगाल

23 Aug 2019 | 12:08 PM

कोलकाता 23 अगस्त (वार्ता) शक्ति एवं साधना का पर्व तथा बंगाली संस्कृति की परिचायक दुर्गा पूजा को अब छह सप्ताह शेष रह गये हैं और पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता समेत पूरे राज्य में लोग अब ‘पूजो’ के मूड में नजर आने लगे हैं ।

see more..
तेलंगाना में आयुध फैक्ट्री के लाखों कर्मियों की हड़ताल जारी

तेलंगाना में आयुध फैक्ट्री के लाखों कर्मियों की हड़ताल जारी

23 Aug 2019 | 11:02 AM

हैदराबाद 23 अगस्त (वार्ता) सेना तथा अन्य अर्द्धसैनिक बलों केे लिए गोला बारूद बनाने वाले देश भर के आयुध कारखाने के निजीकरण योजना के विरोध में इन कारखानों में एक लाख से भी अधिक कर्मचारियों का हड़ताल शुक्रवार को चौथे दिन भी जारी रहा।

see more..
image