Saturday, Oct 23 2021 | Time 13:12 Hrs(IST)
image
राज्य » अन्य राज्य


मैसुरु दुष्कर्म के दोषियों को मौत की सजा सुनिश्चित करने के प्रयास करेंगे: बोम्मई

बेंगलुरु, 22 सितंबर (वार्ता) कर्नाटक के मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने बुधवार को कहा कि राज्य सरकार मैसुरु दुष्कर्म मामले में विशेष अभियोजक की नियुक्ति करेगी और यह सुनिश्चित करेगी कि बलात्कारियों को मौत की सजा दी जाए।
श्री बोम्मई ने राज्य विधानसभा में कहा,“हम एक विशेष अभियोजक नियुक्त करेंगे और इस मामले में यह भी देखेंगे कि आरोपियों को मौत की सजा दी जाय।”
भोजनावकाश से पहले श्री बोम्मई ने कहा कि भाजपा सरकार ने पूर्व की कांग्रेस सरकार के विपरीत मैसूर सामूहिक दुष्कर्म मामले में तुरंत कार्रवाई की। उन्होंने आरोप लगाया कि पूर्व की कांग्रेस सरकार ने 2013 के मणिपाल सामूहिक बलात्कार मामले में कार्रवाई में देरी की थी।
उन्होंने कहा,“दो मेडिको-लीगल रिपोर्ट दर्ज की गई थी। एक 24 अगस्त को रात 9.15 बजे (हमला मामला) और दूसरा (सामूहिक बलात्कार का मामला) अगले दिन सुबह 5.50 बजे किया गया था। इन दोनों रिपोर्टों को प्राप्त करने के बाद, पुलिस ने एक प्राथमिकी दर्ज की। हमारी पुलिस ने गलती नहीं की है और ना ही कोई विलंब किया जैसा कि विपक्ष के नेता सिद्धारमैया दावा कर रहे हैं।”
श्री बोम्मई ने यह टिप्पणी विपक्ष के नेता सिद्धारमैया के आरोपों पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए की कि पुलिस त्वरित कार्रवाई करने में विफल रही है।
श्री सिद्धारमैया ने आरोप लगाया कि पुलिस ने उसी शाम न तो प्राथमिकी दर्ज की और न ही मामले में सीआरपीसी की धारा 164 के तहत मजिस्ट्रेट के समक्ष पीड़िता का बयान दर्ज किया।
इन आरोपों को खारिज करते हुए श्री बोम्मई ने कहा कि बलात्कार पीड़िता आज मजिस्ट्रेट के सामने पेश हुई और उसने सीआरपीसी की धारा 164 के तहत बयान दिया।
उन्होंने कहा,“मजिस्ट्रेट के समक्ष पीड़िता का बयान यह साबित करने के लिए पर्याप्त है कि पुलिस और सरकार ने मामले को गंभीरता से लिया है और तुरंत कार्रवाई की है।”
मुख्यमंत्री ने कहा,“पिछले एक महीने से, पीड़िता के मुंबई लौटने के बाद भी, हमारी पुलिस उसके संपर्क में थी। वह तैयार नहीं थी। उसके पिता तैयार नहीं थे। लेकिन, हमारी पुलिस ने उन्हें बलात्कारियों के खिलाफ मामला दज कराने और मामले को आगे बढ़ाने के लिए मना लिया।”
श्री सिद्धारमैया के आरोपों को खारिज करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि पुलिस ने पहली बार में बलात्कारियों के खिलाफ आईपीसी की धारा 376डी और 392 के तहत प्राथमिकी दर्ज की थी।
संजय जितेन्द्र
वार्ता
More News
डीआरडीओ ने किया हाई-स्पीड एक्सपेंडेबल एरियल टारगेट ‘अभ्यास’ का परीक्षण

डीआरडीओ ने किया हाई-स्पीड एक्सपेंडेबल एरियल टारगेट ‘अभ्यास’ का परीक्षण

22 Oct 2021 | 9:10 PM

चांदीपुर, 22 अक्टूबर (वार्ता) विभिन्न मिसाइल प्रणालियों के लिए लक्ष्य के रूप में इस्तेमाल किए जाने वाले ड्रोन हाई-स्पीड एक्सपेंडेबल एरियल टारगेट (हीट) ‘अभ्यास’ का ओडिशा में बंगाल की खाड़ी के तट पर एकीकृत परीक्षण रेंज (आईटीआर) चांदीपुर से शुक्रवार को सफलतापूर्वक उड़ान परीक्षण किया गया।

see more..
श्रीराम ने लंका में जो किया,भारत ने 1971 में वही बंगलादेश में अंजाम दिया : राजनाथ

श्रीराम ने लंका में जो किया,भारत ने 1971 में वही बंगलादेश में अंजाम दिया : राजनाथ

22 Oct 2021 | 7:38 PM

बेंगलुरु 22 अक्टूबर (वार्ता) रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि यह हम सभी के लिए गर्व की बात है कि भगवान श्रीराम और श्रीकृष्ण ने एक समय में लंका एवं मथुरा में जो किया था, वही 1971 के बंगलादेश मुक्ति संग्राम में हमारी सेना ने किया।

see more..
image