Monday, Sep 24 2018 | Time 07:22 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • मैक्रों की लोकप्रियता में आैर गिरावट : सर्वे
  • स्विट्जरलैंड के दूसरे प्रांत में भी बुर्का पर लगा प्रतिबंध
  • अपहृत नौका चालक दल के सदस्यों की हुई पहचान
  • मालदीव के राष्ट्रपति चुनाव में विपक्षी उम्मीदवार सोलिह जीते
  • मालदीव राष्ट्रपति चुनाव में विपक्षी उम्मीदवार की जीत
  • गब्बर और हिटमैन ने पाकिस्तान को धो डाला, भारत फाइनल में
  • अफगानिस्तान बाहर, बंगलादेश-पाकिस्तान में होगा सेमीफाइनल
  • कांगो में विद्रोहियों के हमले में 14 नागरिक मारे गये
  • हिमाचल में सड़क हादसों में छह की मौत,38 घायल
  • भाजपा के शीर्ष नेताओं में पर्रिकर से इस्तीफा मांगने का साहस नहीं : कांग्रेस
राज्य Share

सॉयल हेल्थ कार्ड किसानों के साथ धोखा और धन की बर्बादी : किसान

हिसार, 06 सितंबर (वार्ता) हरियाणा सरकार की ओर से जारी सॉयल हेल्थ कार्ड (मिट्टी की गुणवत्ता की जांच) को किसानों ने धोखा और धन की बर्बादी करार दिया है।
सरकारी प्रचार में दावा किया जा रहा है कि कृषि सहकारिता एवं किसान कल्याण विभाग की तरफ से जारी इस कार्ड से किसानों को उनकी भूमि की उर्वरकता (उपजाऊ शक्ति) का पता चलेगा, जिसका प्रयोग करके वह भूमि की पौष्टिकता बढ़ाकर खेती से अपनी आय बढ़ा पाएंगे।
किसानों ने आरोप लगाया है कि बहुत ही कीमती और चिकने मोटे कागज पर रंगीन कार्डों पर दी जा रही जानकारी निराधार है, क्योंकि कार्डों पर भूमि का नमूना एकत्र करने की तिथि दर्ज नहीं है। सीसवाल गांव के प्रगतिशील किसान प्रो. हरीश कुमार ने आज यहां जारी वक्तव्य में आरोप लगाया कि कई खेतों से भूमि के नमूने लिए ही नहीं गए।
उन्होंने कहा कि उनके खेत से भी मिट्टी का कोई भी नमूना नहीं लिया गया और जब उन्होंने अपने गांव के दूसरे किसानों से इस बारे में चर्चा की तो सभी हैरानी से एक दूसरे से पूछने लगे कि कब, कौन और किस खेत से ये नमूने लेने आया है?
उन्होंने आगे बताया कि चूंकि भूमि में नाइट्रोजन, कार्बन, फास्फोरस, पोटाशियम, सल्फर, जिंक, बोरोन, आयरन, मेंगनीज और कापर, जिनका जिक्र सायल हेल्थ कार्ड में जिक्र किया गया है, का विश्लेषण लैब में टेस्टिंग बगैर हो ही नहीं सकता और भूमि के नमूने लिए ही नहीं गए, इसलिए निसंकोच कहा जा सकता है कि कार्डों में प्रदान किए गए आंकड़े नकली हैं और इस जांच कार्ड से कोई लाभ नहीं होगा अपितु हानि की आशंका है।
उन्होंने दावा किया है कि वह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय हिसार से अपने खेत की भूमि टेस्ट करवाते रहते हैं। और इन नतीजों तथा साॅयल हेल्थ कार्ड में प्रदान किए जा रहे नतीजों में कोई मेल नहीं है।
उन्होंने कहा कि ऐसा लगता यह है कि पटवारियों से खेतों की जानकारी प्राप्त कर घर बैठे ही ये कार्ड तैयार किए गए हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि पूरे गांव में हर एक खेत के एकड़वार कार्ड बोरों में भर कर पंचायत घरों में भेजे जा रहे हैं और इन नतीजों के लिए कार्डों के एवज में हर एक किसान से 20 रुपए भी लिए जा रहे हैं। इस प्रकार सायल हेल्थ कार्ड की पूरी प्रक्रिया को किसानों के साथ किए जा रहे धोखे की संज्ञा दी जा सकती है। यह किसानों धन की बर्बादी भी है और इससे किसानों को कोई लाभ नहीं होने वाला।
उन्होंने मांग की है कि कृषि सहकारिता और किसान कल्याण विभाग को साॅयल हेल्थ कार्ड के नाम पर की जा रही धन की बर्बादी तथा किसानों के खिलवाड़ की पूरी संजीदगी से जांच करवाए और दोषियों को सजा दे।
सं विक्रम महेश
वार्ता
More News

24 Sep 2018 | 12:04 AM

 Sharesee more..
आयुष्मान भारत एक नयी क्रांति: शिवराज

आयुष्मान भारत एक नयी क्रांति: शिवराज

23 Sep 2018 | 11:45 PM

भोपाल, 23 सितंबर (वार्ता) मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आयुष्मान भारत योजना की प्रशंसा करते हुए आज कहा कि यह योजना एक नयी क्रांति है।

 Sharesee more..

नयी पार्टी बनाने की कोई योजना नहीं: अलागिरी

23 Sep 2018 | 11:38 PM

 Sharesee more..
image