Monday, Nov 19 2018 | Time 19:10 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • सोनिया, पिंकी और सिमरन क्वार्टरफाइनल में, स्वीटी बाहर
  • सोनिया, पिंकी और सिमरन क्वार्टरफाइनल में, स्वीटी बाहर
  • तूफान प्रभावित कर्नाटक को 546 करोड़ की केंद्रीय सहायता
  • होंडा ने बेचे 2 5 करोड़ स्कूटर
  • पुलवामा आतंकवादी हमले के शहीद जवान को दी गयी श्रद्धांजलि
  • अंजुम को दो दिन में दो स्वर्ण, मेहुली ने जीते 4 स्वर्ण
  • फूलका ने सेना का अपमान किया, देशद्रोह का केस दर्ज कर गिरफ्तार करने की मांग
  • नवाज ने जेआईटी जांच को किया खारिज
  • बिहार दिवस से पहले पूरा राज्य हो ओडीएफ घोषित : सुशील
  • झांसी के बबीना में शुरू हुआ भारत- रूस संयुक्त सैन्य अभ्यास
  • एसजीपीसी प्रधान ने मृतकों के प्रति शोक व्यक्त किया
  • मनमोहन सिंह को मिला इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार
  • भोजपुर सहकारी चीनी मिल में गन्ने की पिराई शुरु
  • मध्यप्रदेश में जारी रहेगा विकास : शिवराज
  • मध्यप्रदेश में जारी रहेगा विकास : शिवराज
राज्य Share

सॉयल हेल्थ कार्ड किसानों के साथ धोखा और धन की बर्बादी : किसान

हिसार, 06 सितंबर (वार्ता) हरियाणा सरकार की ओर से जारी सॉयल हेल्थ कार्ड (मिट्टी की गुणवत्ता की जांच) को किसानों ने धोखा और धन की बर्बादी करार दिया है।
सरकारी प्रचार में दावा किया जा रहा है कि कृषि सहकारिता एवं किसान कल्याण विभाग की तरफ से जारी इस कार्ड से किसानों को उनकी भूमि की उर्वरकता (उपजाऊ शक्ति) का पता चलेगा, जिसका प्रयोग करके वह भूमि की पौष्टिकता बढ़ाकर खेती से अपनी आय बढ़ा पाएंगे।
किसानों ने आरोप लगाया है कि बहुत ही कीमती और चिकने मोटे कागज पर रंगीन कार्डों पर दी जा रही जानकारी निराधार है, क्योंकि कार्डों पर भूमि का नमूना एकत्र करने की तिथि दर्ज नहीं है। सीसवाल गांव के प्रगतिशील किसान प्रो. हरीश कुमार ने आज यहां जारी वक्तव्य में आरोप लगाया कि कई खेतों से भूमि के नमूने लिए ही नहीं गए।
उन्होंने कहा कि उनके खेत से भी मिट्टी का कोई भी नमूना नहीं लिया गया और जब उन्होंने अपने गांव के दूसरे किसानों से इस बारे में चर्चा की तो सभी हैरानी से एक दूसरे से पूछने लगे कि कब, कौन और किस खेत से ये नमूने लेने आया है?
उन्होंने आगे बताया कि चूंकि भूमि में नाइट्रोजन, कार्बन, फास्फोरस, पोटाशियम, सल्फर, जिंक, बोरोन, आयरन, मेंगनीज और कापर, जिनका जिक्र सायल हेल्थ कार्ड में जिक्र किया गया है, का विश्लेषण लैब में टेस्टिंग बगैर हो ही नहीं सकता और भूमि के नमूने लिए ही नहीं गए, इसलिए निसंकोच कहा जा सकता है कि कार्डों में प्रदान किए गए आंकड़े नकली हैं और इस जांच कार्ड से कोई लाभ नहीं होगा अपितु हानि की आशंका है।
उन्होंने दावा किया है कि वह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय हिसार से अपने खेत की भूमि टेस्ट करवाते रहते हैं। और इन नतीजों तथा साॅयल हेल्थ कार्ड में प्रदान किए जा रहे नतीजों में कोई मेल नहीं है।
उन्होंने कहा कि ऐसा लगता यह है कि पटवारियों से खेतों की जानकारी प्राप्त कर घर बैठे ही ये कार्ड तैयार किए गए हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि पूरे गांव में हर एक खेत के एकड़वार कार्ड बोरों में भर कर पंचायत घरों में भेजे जा रहे हैं और इन नतीजों के लिए कार्डों के एवज में हर एक किसान से 20 रुपए भी लिए जा रहे हैं। इस प्रकार सायल हेल्थ कार्ड की पूरी प्रक्रिया को किसानों के साथ किए जा रहे धोखे की संज्ञा दी जा सकती है। यह किसानों धन की बर्बादी भी है और इससे किसानों को कोई लाभ नहीं होने वाला।
उन्होंने मांग की है कि कृषि सहकारिता और किसान कल्याण विभाग को साॅयल हेल्थ कार्ड के नाम पर की जा रही धन की बर्बादी तथा किसानों के खिलवाड़ की पूरी संजीदगी से जांच करवाए और दोषियों को सजा दे।
सं विक्रम महेश
वार्ता
More News

मुख्य सचिव कार्यालय वल्लभ भवन में आरंभ

19 Nov 2018 | 7:03 PM

 Sharesee more..
झांसी के बबीना में शुरू हुआ भारत- रूस संयुक्त सैन्य अभ्यास

झांसी के बबीना में शुरू हुआ भारत- रूस संयुक्त सैन्य अभ्यास

19 Nov 2018 | 7:01 PM

झांसी 19 नवंबर (वार्ता) उत्तर प्रदेश में झांसी के बबीना सैन्य स्टेशन में सोमवार को भारत और रूस के बीच 10वां संयुक्त सैन्य अभ्यास “ इंद्र-2018” शुरू हो गया।

 Sharesee more..

मुठभेड़ में एक नक्सली ढेर

19 Nov 2018 | 7:00 PM

 Sharesee more..
image