Wednesday, Apr 24 2019 | Time 09:30 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • चीन में रसायन संयंत्र में विस्फोट, तीन लोगों की मौत
  • ‘आतंकवाद के खिलाफ न्यूजीलैंड-फ्रांस मिलकर करेंगे काम’
  • कश्मीर में एक दिन स्थगित रहने के बाद ट्रेन सेवा शुरू
  • आज का इतिहास (प्रकाशनार्थ 25 अप्रैल)
  • ट्रंप ने ट्वीटर के सीईओ से मुलाकात की
  • रुस के खसान शहर में किम के आगमन पर सुरक्षा व्यवस्ता दुरुस्त
  • उत्तर कोरिया के नेता किम पुतिन से बातचीत करने निजी ट्रेन से रवाना हुए
  • श्रीलंका हमले में 45 बच्चों की जान गई :यूनीसेफ
  • सउदी ने आतंकवाद फैलाने के आरोप में 37 नागरिकों को दी फांसी
  • अबू धाबी के क्राउन प्रिंस ने दक्षिण सूडान के राष्ट्रपति से की मुलाकात
  • रक्षा बलों के प्रमुखों को बदल सकते हैं श्रीलंका के राष्ट्रपति
  • मोरक्को पुलिस ने आईएस से जुड़े संदिग्ध को हिरासत में लिया
मनोरंजन » कला एवं रंगमंच


शंकर और जयकिशन के बीच भी हुयी थी अनबन

शंकर और जयकिशन के बीच भी हुयी थी अनबन

. जयकिशन की पुण्यतिथि 12 सितंबर
मुंबई 11 सितंबर (वार्ता) भारतीय सिनेमा जगत में सर्वाधिक कामयाब संगीतकार जोड़ी शंकर -जयकिशन ने अपने सुरों के जादू से श्रोताओं को कई दर्शकों तक मंत्रमुग्ध किया और उनकी जोड़ी एक मिसाल के रूप में ली जाती थी लेकिन एक वक्त ऐसा भी आया जब दोनो के बीच अनबन हो गयी थी ।

शंकर और जयकिशन ने एक दूसरे से वादा किया था कि वह कभी किसी को नहीं बतायेंगे कि धुन किसने बनायी है लेकिन एक बार जयकिशन इस वादे को भूल गये और मशहूर सिने पत्रिका फिल्मफेयर के लेख में बता दिया कि फिल्म संगम के गीत.. ये मेरा प्रेम पत्र पढ़कर कि तुम नाराज न होना.. की धुन उन्होंने बनाई थी ।
इस बात से शंकर काफी नाराज भी हुये।
बाद में पार्श्वगायक मोहम्मद रफी के प्रयास से शंकर और जयकिशन के बीच हुये मतभेद को कुछ हद तक कम किया जा सका ।

शंकर सिंह रघुवंशी का जन्म 15 अक्तूबर 1922 को पंजाब में हुआ था।
बचपन के दिनों से ही शंकर संगीतकार बनना चाहते थे और उनकी रूचि तबला बजाने में थी।
उन्होंने अपनी प्रारंभिक शिक्षा बाबा नासिर खानसाहब से ली थी ।
इसके साथ ही उन्होंने हुस्न लाल भगत राम से भी संगीत की शिक्षा ली थी ।
अपने शुरूआती दौर मे शंकर ने सत्यनारायण और हेमावती द्धारा संचालित एक थियेटर ग्रुप में काम किया ।
इसके साथ ही वह पृथ्वी थियेटर के
सदस्य भी बन गये जहां वह तबला बजाने का काम किया करते थे ।
इसके साथ ही पृथ्वी थियेटर के नाटकों मे वह छोटे मोटे रोल भी किया करते थे ।

जयकिशन का पूरा नाम जयकिशन दयाभाई पांचाल था।
उनका जन्म चार नवम्बर 1929 को गुजरात के वंसाडा में हुआ था ।
जयकिशन हारमोनियम बजाने में निपुण थे और उन्होंने वाडीलालजी.प्रेम शंकर नायक और विनायक तांबे से शास्त्रीय संगीत की शिक्षा ली थी हलांकि वह अभिनेता बनना चाहते थे।
अभिनेता बनने का सपना लिये जयकिशन ने मुंबई का रूख किया जहां वह एक फैक्ट्री में टाइमकीपर..समयपाल.. की नौकरी करने लगे ।
उसी दौरान उनकी मुलाकात शंकर से हुयी।
शंकर की सिफारिश पर जयकिशन को पृथ्वी थियेटर में हारमोनियम बजाने के लिये नियुक्त कर लिया गया ।

वर्ष 1948 में राजकपूर की पहली फिल्म आग में शंकर-जयकिशन ने संगीतकार राम गांगुली के सहायक के तौर पर काम किया।
बाद में राजकपूर और राम गांगुली के बीच किसी बात को लेकर मतभेद हो गया।
उन दिनों राजकपूर अपनी नयी फिल्म बरसात की तैयारी कर रहे थे।
राजकपूर ने शंकर जयकिशन को मिलने का न्योता भेजा ।
राज कपूर शंकर जयकिशन के संगीत बनाने के अंदाज से काफी प्रभावित हुये और उन्होंने शंकर जयकिशन से अपनी फिल्म बरसात में संगीत देने की पेशकश की ।

फिल्म बरसात मे शंकर-जयकिशन की जोड़ी ने जिया बेकरार है और बरसात में हमसे मिले तुम सजन जैसे सुपरहिट संगीत दिया ।
फिल्म बरसात की कामयाबी के बाद शंकर जयकिशन बतौर संगीतकार अपनी पहचान बनाने मे सफल हो गये ।
इसे महज एक संयोग ही कहा जायेगा कि फिल्म बरसात से ही गीतकार शैलेन्द्र और हसरत जयपुरी ने भी अपने सिने कैरियर की शुरूआत की थी ।
फिल्म बरसात की कामयाबी के बाद राजकपूर हसरत जयपुरी और शंकर जयकिशन की जोड़ी ने कई फिल्मो मे एक साथ काम किया ।

शंकर जयकिशन की जोड़ी गीतकार हसरत जयपुरी और शैलेन्द्र के साथ काफी पसंद की गयी।
शंकर .जयकिशन सर्वाधिक नौ बार सर्वश्रेष्ठ संगीतकार के फिल्म फेयर पुरस्कार से सम्मानित किया गया है।
शंकर की जोड़ी जयकिशन के साथ वर्ष 1971 तक कायम रही।
12 सितंबर 1971 को जयकिशन इस दुनिया को अलविदा कह गये।
अपने मधुर
संगीत से श्रोताओं को भावविभोर करने वाले संगीतकार शंकर भी 26 अप्रैल 1987 को इस दुनिया को अलविदा कह
गये ।


वार्ता

बॉक्स

बॉक्स ऑफिस पर फिल्म की असफलता पर स्ट्रेस नही लेती सोनाक्षी

मुंबई 23 अप्रैल (वार्ता) बॉलीवुड की दबंग गर्ल सोनाक्षी सिन्हा का कहना है कि वह बॉक्स ऑफिस पर फिल्म की असफलता पर स्ट्रेस नही लेती है।

अभी

अभी डेब्यू नहीं कर रही है न्यासा :काजोल

मुंबई 23 अप्रैल (वार्ता) जानी मानी अभिनेत्री काजोल का कहना है कि उनकी बेटी न्यासा अभी बॉलीवुड में डेब्यू नही कर रही है।

तेरे

तेरे नाम का सीक्वल बनायेंगे सतीश कौशिक

मुंबई 23 अप्रैल (वार्ता) बॉलीवुड के जाने माने निर्देशक सतीश कौशिक अपनी सुपरहिट फिल्म तेरे नाम का सीक्वल बनाने जा रहे हैं।

शाहरूख

शाहरूख को पसंद आया भारत का ट्रेलर

मुंबई 23 अप्रैल (वार्ता) बॉलीवुड के किंग खान शाहरूख खान को सलमान खान की आने वाली फिल्म भारत का ट्रेलर पसंद आया है।

सत्यजीत

सत्यजीत रे ने बाइसाईकिल थीफस देख किया फिल्म निर्माण का इरादा

..पुण्यतिथि 23 अप्रैल ..
मुंबई 22 अप्रैल(वार्ता) भारतीय सिनेमा जगत में युगपुरूष सत्यजीत रे को एक ऐसे फिल्मकार के तौर पर याद किया जाता है जिन्होंने अपनी निर्मित फिल्मों के जरिये भारतीय सिनेमा जगत को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर विशिष्ट पहचान दिलाई।

सूर्यवंशी

सूर्यवंशी में अक्षय के अपोजिट काम करेंगी कैटरीना

मुंबई 22 अप्रैल (वार्ता) बॉलीवुड की बार्बी गर्ल कैटरीना कैफ फिल्म सूर्यवंशी में अक्षय कुमार के अपोजिट काम करती
नजर आयेंगी।

कुली

कुली नंबर वन के रीमेक में काम नहीं कर रहे हैं वरूण धवन

मुंबई 22 अप्रैल (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता वरूण धवन का कहना है कि वह ‘कुली नंबर वन’ के रीमेक में काम नहीं कर रहे हैं।

कंचना

कंचना के हिंदी रीमेक में काम करेंगे अक्षय कुमार

मुंबई 22 अप्रैल (वार्ता) बॉलीवुड के खिलाड़ी कुमार अक्षय कुमार दक्षिण भारतीय फिल्म कंचना के हिंदी रीमेक में काम करते नजर आ सकते हैं।

भोजपुरी

भोजपुरी सिनेमा की त्रिमूर्ति चुनाव में बनी भाजपा की त्रिमूर्ति

मुंबई 22 अप्रैल (वार्ता) भोजपुरी सिनेमा की त्रिमूर्ति मनोज तिवारी, रवि किशन और दिनेश लाल यादव निरहुआ
लोकसभा चुनाव के महासंग्राम में ताल ठोकते नजर आयेंगे।

ब्रह्मास्त्र

ब्रह्मास्त्र में डीजे का किरदार निभायेंगे रणबीर कपूर!

मुंबई 21 अप्रैल (वार्ता) बॉलीवुड के रॉकस्टार रणबीर कपूर आने वाली फिल्म ब्रह्मास्त्र में डीजे का किरदार निभाते
नजर आ सकते हैं।

पॉप गायिकी को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलायी माइकल जैक्सन ने

पॉप गायिकी को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलायी माइकल जैक्सन ने

..जन्मदिवस 29 अगस्त के अवसर पर ..
मुंबई 28 अगस्त(वार्ता)किंग ऑफ पॉप माइकल जैक्सन को ऐसी शख्सियत के तौर पर याद किया जाता है जिन्होंने पॉप संगीत की दुनिया को पूरी तरह बदलकर अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अपनी पहचान बनायी है।

दिल्ली में भी होगा फिल्म उद्योग, डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह आरंभ

दिल्ली में भी होगा फिल्म उद्योग, डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह आरंभ

नयी दिल्ली 15 जनवरी (वार्ता) दिल्ली में भी फिल्म उद्योग स्थापित करने के मकसद से पहले डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह एवं विपणन 2019 की कल रात यहां देश-विदेश के फिल्मी जगत के लोगों की मौजूदगी में शुरूआत हुयी।

सत्यजीत रे ने बाइसाईकिल थीफस देख किया फिल्म निर्माण का इरादा

सत्यजीत रे ने बाइसाईकिल थीफस देख किया फिल्म निर्माण का इरादा

..पुण्यतिथि 23 अप्रैल ..
मुंबई 22 अप्रैल(वार्ता) भारतीय सिनेमा जगत में युगपुरूष सत्यजीत रे को एक ऐसे फिल्मकार के तौर पर याद किया जाता है जिन्होंने अपनी निर्मित फिल्मों के जरिये भारतीय सिनेमा जगत को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर विशिष्ट पहचान दिलाई।

भारतीय सिनेमा जगत के युगपुरूष थे बी.आर. चोपड़ा

भारतीय सिनेमा जगत के युगपुरूष थे बी.आर. चोपड़ा

..जन्मदिवस 22 अप्रैल  ..
मुम्बई 21 अप्रैल (वार्ता) भारतीय सिनेमा जगत में बी.आर.चोपड़ा को एक ऐसे फिल्मकार के रूप में याद किया जायेगा जिन्होंने पारिवारिक, सामाजिक और साफ-सुथरी फिल्में बनाकर लगभग पांच दशक तक सिने प्रेमियों के दिलो-दिमाग में
अपनी खास जगह बनायी।

image