Saturday, Feb 27 2021 | Time 15:22 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • खिलौना मेला आत्मनिर्भर भारत की दिशा में बड़ा कदम: मोदी
  • कानून का राज कायम करना सिर्फ सरकार का काम नहीं,न्यायपालिका की भी बहुत बड़ी भूमिका - नीतीश
  • इंग्लैंड के खिलाफ चौथा टेस्ट नहीं खेलेंगे बुमराह
  • इंग्लैंड के खिलाफ चौथा टेस्ट नहीं खेलेंगे बुमराह
  • पीएसएलवी-सी51 अमेजोनिया मिशन के प्रक्षेपण की उल्टी गिनती शुरू
  • अजमेर में कोरोना टीकाकरण के तीसरे चरण की तैयारी पूरी
  • मिश्र एवं गहलोत ने संत रविदास एवं शहीद चंद्रशेखर आजाद को किया नमन
  • आईपीएल के लिए पांच शहरों का चुनाव, मुंबई अभी शामिल नहीं
  • आईपीएल के लिए पांच शहरों का चुनाव, मुंबई अभी शामिल नहीं
  • कौशल के कद्रदानों का कुम्भ साबित हो रहा हुनर हाट : नकवी
  • मोदी , सीतारमण ने येदियुरप्पा को जन्मदिन की दी बधाई
  • प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि भी चुनावी स्टंट साबित हुआ : दानिश
  • पश्चिम बंगाल में परिवर्तन का बिगुल बज चुका है - शिवराज
  • जार्जिया में सिंगल-ईंजन विमान के दुर्घटनाग्रस्त होने से तीन लोगों की मौत
  • लाठर ने अजमेर में किया आपणों बाजार का उद्घाटन
राज्य » मध्य प्रदेश / छत्तीसगढ़


शिवराज ने अमित शाह से भेंट कर नक्सल समस्या पर उच्च स्तरीय बैठक बुलाने का किया अनुरोध

शिवराज ने अमित शाह से भेंट कर नक्सल समस्या पर उच्च स्तरीय बैठक बुलाने का किया अनुरोध

भोपाल, 18 जनवरी (वार्ता) मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने नई दिल्ली में केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह से उनके निवास स्थान पर मुलाकात कर प्रदेश में नक्सली गतिविधियों पर प्रभावी नियंत्रण के लिए राजनीतिक विषयों पर चर्चा के लिए केन्द्रीय गृह मंत्रालय की अध्यक्षता में उच्च स्तरीय बैठक का आयोजन किये जाने का अनुरोध किया।

आधिकारिक जानकारी के अनुसार श्री चौहान ने बताया कि मध्यप्रदेश में बालाघाट और मण्डला नक्सल प्रभावित जिले हैं, जहां पर समय-समय पर नक्सली गतिविधि की असूचनाएं प्राप्त होती रहती हैं। अब नक्सली बालाघाट से आगे बढ़कर अमरकंटक क्षेत्र में भी अपनी गतिविधियों के विस्तार की योजना बना रहे हैं। उन्होंने बताया कि राज्य सरकार ने नक्सली क्षेत्र में हाक फोर्स की एक बटालियन, दो आई आर बटालियन तथा एक केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल की बटालियन तैनात की गई हैं।

उन्होंने बताया कि असूचना एकत्रित करने के लिए एक विशेष शाखा भी बनाई गई है। मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ व महाराष्ट्र के ट्राई जंक्शन क्षेत्र में संयुक्त कैम्प के द्वारा नक्सली गतिविधियों पर प्रभावी नियंत्रण किया जा रहा है। इसके अलावा मुख्यमंत्री ने मध्यप्रदेश में बाढ़ के अतिरिक्त आये कीट व्याधि के संकट के कारण फसलों में हुए नुकसान को देखते हुए 1906 करोड़ रुपये की राष्ट्रीय आपदा राहत निधि (एन.डी.आर.एफ.) से सहायता का अनुरोध किया। उन्होंने बताया कि इस संबंध में केन्द्र सरकार को पूर्व में राज्य सरकार द्वारा ज्ञापन भी दिया जा चुका है।

प्रदेश के 40 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में फसलें पूरी तरह नष्ट हो गयीं थी और मकान आदि अचल सम्पत्ति को भी बड़ी मात्रा में नुकसान हुआ था। इसके लिए राज्य सरकार ने 3646.41 करोड़ रुपये की आवश्यकता का अनुरोध किया था। केन्द्र सरकार ने अभी तक राष्ट्रीय आपदा राहत निधि कोष के अंतर्गत 611 करोड़ रुपये की स्वीकृति प्रदान हुई है। मुख्यमंत्री ने इसका धन्यवाद देते हुए शेष 1906 करोड़ रुपये की सहायता राशि शीघ्र जारी करने का अनुरोध किया।

बघेल

वार्ता

image