Thursday, Nov 15 2018 | Time 05:05 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • टीआरएस ने 10 उम्मीदवारों की तीसरी सूची जारी की
  • कोविंद, मोदी ने जीसैट-29 उपग्रह के प्रक्षेपण पर बधाई दी
  • पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी हमलों का स्राेत : मोदी
  • सीटें नहीं मिली तो निर्दलीय के रूप में चुनाव लडेंगे: खान
मनोरंजन » कला एवं रंगमंच Share

खलनायकी के बेताज बादशाह थे अमजद खान

खलनायकी के बेताज बादशाह थे अमजद खान

..पुण्यतिथि 27 जुलाई के अवसर पर .
मुंबई, 26 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड की ब्लॉक बस्टर फिल्म ..शोले.. के किरदार गब्बर सिंह ने अमजद खान को फिल्म इंडस्ट्री में सशक्त पहचान दिलायी लेकिन फिल्म के निर्माण के समय गब्बर सिंह की भूमिका के लिये पहले डैनी का नाम प्रस्तावित था।

फिल्म ..शोले ..के निर्माण के समय गब्बर सिंह वाली भूमिका डैनी को दी गयी थी लेकिन धर्मात्मा में काम करने की वजह से उन्होंने शोले में काम करने से इंकार कर दिया था।
शोले के कहानीकार सलीम खान की सिफारिश पर रमेश सिप्पी ने अमजद खान को गब्बर सिंह का किरदार निभाने का अवसर दिया।
जब सलीम खान ने अमजद खान से फिल्म ..शोले ..में गब्बर सिंह का किरदार निभाने को कहा तो पहले तो अमजद खान घबरा गये लेकिन बाद में उन्होंने इसे चुनौती के रूप में लिया और चंबल के डाकुओं पर बनी किताब .अभिशप्त चंबल.. का बारीकी से अध्य्यन करना शुरू किया।
बाद में जब फिल्म ..शोले ..प्रदर्शित हुयी तो अमजद खान का निभाया किरदार ..गब्बर सिंह ..दर्शको में इस कदर लोकप्रिय हुआ कि लोग गाहे बगाहे उनकी आवाज और चाल ढ़ाल की नकल करने लगे ।

12 नवंबर 1940 जन्मे अमजद खान को अभिनय की कला विरासत में मिली।
उनके पिता जयंत फिल्म इंडस्ट्री में खलनायक रह चुके थे।
अमजद खान ने बतौर कलाकार अपने अभिनय जीवन की शुरुआत वर्ष 1957 में प्रदर्शित फिल्म ..अब दिल्ली दूर नहीं ..से की।
इस फिल्म में अमजद खान ने बाल कलाकार की भूमिका निभायी।
वर्ष 1965 में अपनी होम प्रोडक्शन में बनने वाली फिल्म ..पत्थर के सनम ..के जरिये अमजद खान बतौर अभिनेता अपने करियर की शुरुआत करने वाले थे लेकिन किसी कारण से फिल्म का निर्माण नहीं हो सका।

सत्तर के दशक में अमजद खान ने मुंबई से अपनी कॉलेज की पढाई पूरी करने के बाद बतौर अभिनेता काम करने के लिये फिल्म इंडस्ट्री का रूख किया।
वर्ष 1973 में बतौर अभिनेता उन्होंने फिल्म ..हिंदुस्तान की कसम ..से अपने करियर की शुरुआत की लेकिन इस फिल्म से दर्शकों के बीच वह अपनी पहचान नहीं बना सके।
इसी दौरान अमजद खान को थियेटर में अभिनय करते देखकर पटकथा लेखक सलीम खान ने अमजद खान से शोले में गब्बर सिंह के किरदार को निभाने की पेशकश की जिसे अमजद खान ने स्वीकार कर लिया।

      फिल्म ..शोले की सफलता से अमजद खान के सिने करियर में जबरदस्त बदलाव आया और वह खलनायकी की दुनिया के बेताज बादशाह बन गये।
इसके बाद उन्होंने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा और अपने दमदार अभिनय से दर्शकों की वाहवाही लूटने लगे।
वर्ष 1977 मे प्रदर्शित फिल्म ..शतरंज के खिलाडी ..में उन्हें महान निर्देशक सत्यजीत रे के साथ काम करने का मौका मिला।
इस फिल्म के जरिये भी उन्होंने दर्शकों का मन मोहे रखा।
अपने अभिनय मे आई एकरूपता को बदलने और स्वंय को चरित्र अभिनेता के रूप मे भी स्थापित करने के लिये अमजद खान ने अपनी भूमिकाओं में परिवर्तन भी किया।
इसी क्रम में वर्ष 1980 में प्रदर्शित फिरोज खान की सुपरहिट फिल्म.कुर्बानी .में अमजद खान ने हास्य अभिनय कर दर्शकों का भरपूर मनोरंजन किया ।

वर्ष 1981 में अमजद खान के अभिनय का नया रूप दर्शकों के सामने आया।
प्रकाश मेहरा की सुपरहिट फिल्म.लावारिस .में वह अमिताभ बच्चन के पिता की भूमिका निभाने से भी नहीं हिचके।
अमजद खान ने हालांकि फिल्म लावारिस से पहले अमिताभ बच्चन के साथ कई फिल्मों में खलनायक की भूमिका निभायी थी पर इस फिल्म के जरिये भी अमजद खान दर्शकों की वाहवाही लूटने में सफल रहे।
वर्ष 1981 में प्रदर्शित फिल्म ..याराना .. में उन्होंने सुपर स्टार अमिताभ बच्चन के दोस्त की भूमिका निभायी।
इस फिल्म में उन पर फिल्माया यह गाना ..बिशन चाचा कुछ गाओ ..बच्चों के बीच काफी लोकप्रिय हुआ।
इसी फिल्म में अपने दमदार अभिनय के लिये अमजद खान अपने सिने करियर में दूसरी बार सर्वश्रेष्ठ सह कलाकार के फिल्म पेयर पुरस्कार से भी सम्मानित किये गये।

इसके पहले वर्ष 1979 में भी उन्हें फिल्म दादा के लिये सर्वश्रेष्ठ सह कलाकार के फिल्म फेयर पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।
इसके अलावा वर्ष 1985 में फिल्म ..मां कसम .. के लिये अमजद खान सर्वश्रेष्ठ हास्य अभिनेता के फिल्म फेयर पुरस्कार से भी सम्मानित किये गये।
वर्ष 1983 में अमजद खान ने फिल्म ..चोर पुलिस.. के जरिये निर्देशन के क्षेत्र में भी कदम रखा लेकिन यह फिल्म बॉक्स ऑफिस पर बुरी तरह से नकार दी गयी।
इसके बाद वर्ष 1985 में भी अमजद खान ने फिल्म ..अमीर आदमी गरीब आदमी .. का निर्देशन किया लेकिन यहां पर भी उन्हें शिकस्त का सामना करना पड़ा।

वर्ष 1986 में एक दुर्घटना के दौरान अमजद खान लगभग मौत के मुंह से बाहर निकले थे और इलाज के दौरान दवाइयों के लगातार सेवन करने से उनके स्वास्थ्य में लगातार गिरावट आती रही।
उनका शरीर लगातार भारी होता गया।
नब्बे के दशक में स्वास्थ्य खराब रहने के कारण अमजद खान ने फिल्मों में काम करना कुछ कम कर दिया ।
अपने फिल्मी जीवन के आखिरी दौर में वह .अपने मित्र अमिताभ बच्चन को लेकर फिल्म ..लंबाई चैड़ाई .. नाम से फिल्म बनाना चाहते थे लेकिन उनका यह ख्वाब अधूरा ही रह गया ।
अपनी अदाकारी से लगभग तीन दशक तक दर्शकों का भरपूर मनोरंजन करने वाले अजीम अभिनेता अमजद खान 27 जुलाई 1992 को इस दुनिया से रूखसत हो गये ।

वार्ता

आमिर

आमिर खान के साथ काम कर सकती हैं अदिती राव हैदरी

मुंबई 14 नवंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री अदिती राव हैदरी मिस्टर परफेक्शनिस्ट आमिर खान के साथ काम
करती नजर आ सकती हैं।

हर

हर अभिनेता के रंग में रंग जाती थीं माला सिन्हा

... जन्मदिन 11 नवंबर के अवसर पर
मुम्बई 10 नवम्बर(वार्ता) बॉलीवुड में माला सिन्हा उन गिनी चुनी चंद अभिनेत्रियों में शुमार की जाती हैं जिनमें खूबसूरती के साथ बेहतरीन अभिनय का भी संगम देखने को मिलता है।

ठग्स

ठग्स ऑफ हिंदोस्तान के रिलीज को लेकर नर्वस हैं आमिर खान

मुंबई 07 नवंबर (वार्ता) बॉलीवुड के मिस्टर परफेक्शनिस्ट आमिर खान अपनी आने वाली फिल्म ठग्स ऑफ हिंदोस्तान के रिलीज को लेकर नर्वस हैं।

भंसाली

भंसाली की फिल्म में काम नहीं कर रहे हैं शाहरुख

मुंबई 14 नवंबर (वार्ता) बॉलीवुड के किंग खान शाहरुख खान का कहना है कि वह अभी संजय लीला भंसाली की फिल्म में काम नहीं कर रहे हैं।

फिल्म

फिल्म इंडस्ट्री में बाल कालाकारों का जलवा भी कम नहीं

..बाल दिवस 14 नवंबर के अवसर पर ..
मुंबई 13 नवंबर (वार्ता) यूं तो हिन्दी सिनेमा युवा प्रधान है और समूचा सिने उद्योग युवा, उसकी सोच और मांग को ध्यान में रखकर फिल्मों का निर्माण करता है,लेकिन बाल कलाकारों ने इस व्यवस्था को अपने दमदार अभिनय से लगातार चुनौती दी है।

गुलाम

गुलाम हैदर ने पहचाना था लता की प्रतिभा को

(पुण्यतिथि नौ नवंबर के अवसर पर)
मुंबई 08 नवंबर (वार्ता) लता मंगेशकर के सिने करियर के शुरूआती दौर में कई निर्माता-निर्देशक और संगीतकारों ने पतली आवाज के कारण उन्हें गाने का अवसर नहीं दिया लेकिन उस समय एक संगीतकार ऐसे भी थे जिन्हें लता मंगेशकर की प्रतिभा पर पूरा भरोसा था और उन्होंने उसी समय भविष्यवाणी कर दी थी ..यह लड़की आगे चलकर इतना अधिक नाम करेगी कि बड़े से बड़े निर्माता, निर्देशक और संगीतकार उसे अपनी फिल्म में गाने का मौका देंगे।

किंग

किंग खान के रूप में पहचान बनायी शाहरूख ने

(जन्मदिन 02 नवंबर के अवसर पर)
मुंबई, 01 नवंबर (वार्ता) छोटे पर्दे से अपने करियर की शुरूआत करके बॉलीवुड में किंग खान के रूप में पहचान बनाने वाले अभिनेता शाहरुख खान आज भी सिने प्रेमियों के दिलों पर राज करते है।

चीन

चीन में रिलीज होगी आमिर खान की ठग्स ऑफ हिंदोस्तान

मुंबई 14 नवंबर (वार्ता) बॉलीवुड के मिस्टर परफेक्शनिस्ट आमिर खान की फिल्म ‘ठग्स ऑफ हिंदुस्तान’ जल्द ही चीन में रिलीज की जायेगी।

अभिनय

अभिनय की दुनिया के विधाता थे संजीव कुमार

(पुण्यतिथि 06 नवंबर के अवसर पर)
मुंबई, 05 नवंबर (वार्ता) अपने दमदार अभिनय से हिंदी सिनेमा जगत में अपनी विशिष्ट पहचान बनाने वाले संजीव कुमार को अपने करियर के शुरूआती दिनों में वह दिन भी देखना पड़ा जब उन्हें फिल्मों में नायक के रूप में काम करने का अवसर नहीं मिलता था।

मंगलयान

मंगलयान में अक्षय के साथ चार अभिनेत्री करेंगी काम

मुंबई 28 अक्टूबर (वार्ता) बॉलीवुड के खिलाड़ी कुमार अक्षय कुमार अपनी आने वाली फिल्म मंगलयान में चार अभिनेत्रियों के साथ काम करते नजर आ सकते हैं।

पॉप गायिकी को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलायी माइकल जैक्सन ने

पॉप गायिकी को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलायी माइकल जैक्सन ने

..जन्मदिवस 29 अगस्त के अवसर पर ..
मुंबई 28 अगस्त(वार्ता)किंग ऑफ पॉप माइकल जैक्सन को ऐसी शख्सियत के तौर पर याद किया जाता है जिन्होंने पॉप संगीत की दुनिया को पूरी तरह बदलकर अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अपनी पहचान बनायी है।

माय वर्जिन डायरी डिजिटल प्लेटफार्म पर मचा रही धूम

माय वर्जिन डायरी डिजिटल प्लेटफार्म पर मचा रही धूम

नयी दिल्ली 25 मार्च (वार्ता) दिल्ली विश्वविद्यालय के हिन्दू कॉलेज के छात्रों की जिंदगी पर आधारित फिल्म माय वर्जिन डायरी डिजिटल प्लेटफार्म जिओ सिनेमा, एयरटेल मूवीज, बिगफ्लिक्स, चिल्क्स, हंगामा मूवी, नेट्टीवुड आदि के जरिये वैश्विक स्तर पर धूम मचा रही है।

रियलिटी शो अवसर सिद्ध करने का मजबूत प्लेटफार्म : तान्या

रियलिटी शो अवसर सिद्ध करने का मजबूत प्लेटफार्म : तान्या

लखनऊ 26 अक्टूबर (वार्ता) नन्ही पार्श्व गायिका तान्या तिवारी का मानना है कि छोटे पर्दे पर रियलिटी शो की भरमार ने चुनौतियों के बावजूद अवसरों को यर्थाथ में बदलने का मजबूत प्लेटफार्म युवा गायकों को मुहैया कराया है।

अभिनेता बनना चाहते थे मुकेश

अभिनेता बनना चाहते थे मुकेश

..पुण्यतिथि 27 अगस्त के अवसर पर ..
मुंबई 26 अगस्त (वार्ता)भारतीय सिनेमा जगत में मुकेश ने भले ही अपने पार्श्व गायन से लगभग तीन दशक तक श्रोताओं को दीवाना बनाया लेकिन वह अपनी पहचान अभिनेता के तौर पर बनाना चाहते थे।

गुलाम हैदर ने पहचाना था लता की प्रतिभा को

गुलाम हैदर ने पहचाना था लता की प्रतिभा को

(पुण्यतिथि नौ नवंबर के अवसर पर)
मुंबई 08 नवंबर (वार्ता) लता मंगेशकर के सिने करियर के शुरूआती दौर में कई निर्माता-निर्देशक और संगीतकारों ने पतली आवाज के कारण उन्हें गाने का अवसर नहीं दिया लेकिन उस समय एक संगीतकार ऐसे भी थे जिन्हें लता मंगेशकर की प्रतिभा पर पूरा भरोसा था और उन्होंने उसी समय भविष्यवाणी कर दी थी ..यह लड़की आगे चलकर इतना अधिक नाम करेगी कि बड़े से बड़े निर्माता, निर्देशक और संगीतकार उसे अपनी फिल्म में गाने का मौका देंगे।

हर अभिनेता के रंग में रंग जाती थीं माला सिन्हा

हर अभिनेता के रंग में रंग जाती थीं माला सिन्हा

... जन्मदिन 11 नवंबर के अवसर पर
मुम्बई 10 नवम्बर(वार्ता) बॉलीवुड में माला सिन्हा उन गिनी चुनी चंद अभिनेत्रियों में शुमार की जाती हैं जिनमें खूबसूरती के साथ बेहतरीन अभिनय का भी संगम देखने को मिलता है।

image