Saturday, Dec 14 2019 | Time 21:56 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • भाजपा अपने वादे करती है पूरी : राजनाथ
  • सरकार ने असम, मेघालय में कल होने वाली यूजीसी नेट परीक्षा स्थगित की
  • भागलपुर में विक्रमशिला के समानांतर बनेगा पीपा पुल : चौधरी
  • फोटो कैप्शन दूसरा सेट
  • असम में स्थिति में सुधार, इंटरनेट सेवा पर रोक जारी
  • आदिवासियों की एक इंच भी जमीन नहीं छीनने दी जाएगी : हेमंत
  • मसानजोर डैम की समस्यायों के निदान के लिए भाजपा प्रतिबद्ध : लुईस
  • विराट और रोहित तोड़ सकते हैं मेरा रिकॉर्ड: लारा
  • विराट और रोहित तोड़ सकते हैं मेरा रिकॉर्ड: लारा
  • प्रशांत ने नीतीश से की मुलाकात, कहा अपने स्टैंड पर अभी भी कायम हूं
  • जामिया के छात्रों ने आंदोलन फिलहाल वापस लिया
  • हिन्द प्रशांत क्षेत्र को एक मुक्त, खुला एवं समावेशी मंच बनाने की वकालत
  • यशपाल आर्य से संबंधित दस्तावेज हाईकोर्ट में तलब
  • फिलीपींस में बस-वैन की भिड़ंत, पांच मरे, 33 घायल
मनोरंजन » कला एवं रंगमंच


गुलाम हैदर ने पहचाना था लता की प्रतिभा को

गुलाम हैदर ने पहचाना था लता की प्रतिभा को

..पुण्यतिथि 09 नवंबर  ..
मुंबई 08 नवंबर (वार्ता) लता मंगेशकर के सिने कैरियर के शुरूआती दौर में कई निर्माता-निर्देशक और संगीतकारों ने पतली आवाज के कारण उन्हें गाने का अवसर नहीं दिया लेकिन उस समय एक संगीतकार ऐसे भी थे जिन्हें लता मंगेशकर की प्रतिभा पर पूरा भरोसा था और उन्होंने उसी समय भविष्यवाणी कर दी थी ..यह लड़की आगे चलकर इतना अधिक नाम करेगी कि बड़े से बड़े निर्माता-निर्देशक और संगीतकार उसे अपनी फिल्म में गाने का मौका देंगे।
यह संगीतकार और कोई नहीं.. गुलाम हैदर थे ।

वर्ष 1908 में जन्मे गुलाम हैदर ने स्कूल की पढ़ाई पूरी करने के बाद दंत चिकित्सा की पढ़ाई शुरू की थी।
इस दौरान अचानक उनका रूझान संगीत की ओर हुआ और उन्होंने बाबू गणेश लाल से संगीत की शिक्षा लेनी शुरू कर दी।
दंत चिकित्सा की पढ़ाई पूरी करने के बाद वह दंत चिकित्सक के रूप में काम करने लगे।
पांच वर्ष तक दंत चिकित्सक के रूप में काम करने के बाद गुलाम हैदर का मन इस काम से उचट गया।
उन्हें ऐसा महसूस हुआ कि संगीत के क्षेत्र में उनका भविष्य अधिक सुरक्षित होगा।
इसके बाद वह कलकत्ता की एलेक्जेंडर थियेटर कंपनी में हारमोनियम वादक के रूप में काम करने लगे।

वर्ष 1932 में गुलाम हैदर की मुलाकात निर्माता-निर्देशक ए आर कारदार से हुयी जो उनकी संगीत प्रतिभा से काफी प्रभावित हुये।
कारदार उन दिनों अपनी नयी फिल्म ‘स्वर्ग की सीढी’ के लिये संगीतकार की तलाश कर रहे थे।
उन्होंने हैदर से अपनी फिल्म में संगीत देने की पेशकश की लेकिन अच्छा संगीत देने के बावजूद फिल्म बॉक्स आफिस पर असफल रही।
इस बीच हैदर को डी एम पंचोली की वर्ष 1939 में प्रदर्शित पंजाबी फिल्म ‘गुल.ए.बकावली’ में संगीत देने का मौका मिला।
फिल्म में नूरजहां की आवाज में गुलाम हैदर का संगीतबद्ध गीत ..पिंजरे दे विच कैद जवानी.. उन दिनों सबकी जुबान पर था।

वर्ष 1941 में हैदर के सिने कैरियर का अहम वर्ष साबित हुआ।
फिल्म ‘खजांची’ में उनके संगीतबद्ध गीतों ने भारतीय फिल्म संगीत की दुनिया में एक नये युग की शुरआत कर दी।
वर्ष 1930 से 1940 के बीच संगीत निर्देशक शास्त्रीय राग-रागिनियों पर आधारित संगीत दिया करते थे लेकिन हैदर इस विचारधारा के पक्ष में नहीं थे।
हैदर ने शास्त्रीय संगीत में पंजाबी धुनों कामिश्रण करके एक अलग तरह का संगीत देने का प्रयास दिया और उनका यह प्रयास काफी सफल भी रहा।

वर्ष 1946 में प्रदर्शित फिल्म ‘शमां’ में अपने संगीतबद्ध गीत..गोरी चली पिया के देश.. हम गरीबों को भी पूरा कभी आराम कर दे. और ..एक तेरा सहारा ..में उन्होंने ..तबले..का हैदर ने बेहतर इस्तेमाल किया जो श्रोताओ को काफी पसंद आया।
इस बीच. उन्होंने बांबे टॉकीज के बैनर तले बनी फिल्म ‘मजबूर’ के लिये भी संगीत दिया।
हैदर ने लता मंगेशकर को अपनी फिल्म ‘मजबूर’ में गाने का मौका दिया और उनकी आवाज में संगीतबद्ध गीत ..दिल मेरा तोडा.कहीं का न छोड़ा तेरे प्यार ने ..श्रोताओं के बीच काफी लोकप्रिय हुआ।
इसके बाद ही अन्य संगीतकार भी उनकी प्रतिभा को पहचानकर उनकी तरफ आकर्षित हुये और अपनी फिल्मों में लता मंगेशकर को गाने का मौका दिया तथा उन्हें फिल्म इंडस्ट्री में अपनी पहचान बनाने में कामयाबी मिली।

लता के अलावा सुधा मल्होत्रा और सुरेन्द्र कौर जैसी छुपी हुयी प्रतिभाओं को निखारने में गुलाम हैदर के संगीतबद्ध गीतों का अहम योगदान रहा है।
देश आजाद होने के बाद 1948 में देश के वीरों को श्रद्धाजंलि देने के लिये उन्होंने फिल्म शहीद के लिये ..वतन की राह में वतन के नौजवान शहीद हो.. गीत को संगीतबद्ध किया।
देशभक्ति की भावना से परिपूर्ण यह गीत आज भी लोकप्रिय देशभक्ति गीत के रूप में सुना जाता है और श्रोताओं की आंख को नम कर देता है।

पचास के दशक में मुंबई बंदरगाह पर हुये बम विस्फोटों से मुंबई दहल उठी जिसे देखकर गुलाम हैदर की टीम में शामिल वादकों और संगीतज्ञों ने मुंबई छोड़ कर लाहौर जाने का फैसला कर लिया।
गुलाम हैदर ने उन्हें रोकने की हर संभव कोशिश की।
यहां तक कि उन्होंने उन्हें दो महीने का अग्रिम वेतन देने की भी पेशकश की लेकिन वे काफी भयभीत थे और लाहौर जाने का मन बना चुके थे।
इसके कुछ दिन के बाद गुलाम हैदर भी लाहौर चले गये।
वहां उन्होंने शाहिदा (1949), बेकरार (1955), अकेली (1951) और भीगी पलकें (1952) जैसी फिल्मों के गीतों को संगीतबद्ध किया लेकिन इनमें से कोई भी फिल्म सफल नहीं हुयी।

इसके बाद गुलाम हैदर ने निर्देशक नाजिर अजमीरी और अभिनेता एस गुल के साथ मिलकर ‘फिल्मसाज’ बैनर की स्थापना की।
फिल्म ‘गुलनार’ इस बैनर तले बनी गुलाम हैदर की पहली और आखिरी फिल्म साबित हुयी और इसके प्रदर्शन के महज तीन दिन बाद ही वह 09 नवंबर 1953 को इस दुनिया को अलविदा कह गये।

 

लाल

लाल सिंह चड्ढा के संगीत से खुश हैं आमिर

मुंबई 14 दिसंबर (वार्ता) बॉलीवुड के मिस्टर परफेक्शनिस्ट आमिर खान अपनी आने वाली फिल्म लाल सिंह चड्ढा के संगीत से बेहद खुश हैं।

दी‍पिका

दी‍पिका ने छपाक के लिये लगवाया प्रोस्थेटिक्स

मुंबई 12 दिसंबर (वार्ता) बॉलीवुड की डिंपल गर्ल दीपिका पादुकोण ने अपनी आने वाली फिल्म छपाक के लिये जब प्रोस्थेटिक्स मेकअप लगवाया तब वह खुद को देखकर दंग रह गयी।

युवा

युवा पीढ़ी के कलाकारों से तुलना गलत : करीना

मुंबई 14 दिसंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री करीना कपूर खान का कहना है कि युवा पीढ़ी के कलाकारों से उनकी तुलना करना गलत है।

स्मिता

स्मिता पाटिल ने समानांतर फिल्मों को नया आयाम दिया

.. पुण्यतिथि 13 दिसंबर  ..
मुंबई 12 दिसंबर (वार्ता) भारतीय सिनेमा के नभमंडल में स्मिता पाटिल ऐसे ध्रुवतारे की तरह है जिन्होंने अपने सशक्त अभिनय से समानांतर सिनेमा के साथ-साथ व्यावसायिक सिनेमा में भी दर्शकों के बीच अपनी खास पहचान बनायी ।

आदित्य

आदित्य ने पहली बार कर दिया था रिजेक्ट : अर्जुन

मुंबई 14 दिसंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता अर्जुन कपूर का कहना है कि फिल्मकार आदित्य चोपड़ा ने उनकी तस्वीर देखकर उन्हें रिजेक्ट कर दिया था।

किच्चा

किच्चा सुदीप के साथ बेंगलुरु में दबंग 3 का प्रमोशन करेंगे सलमान खान

मुंबई 10 दिसंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता सलमान खान अपनी आने वाली फिल्म ‘दबंग 3’ का प्रमोशन किच्चा सुदीप के साथ बेंगलुरु में करेंगे।

करीना

करीना कपूर पर हमेशा से क्रश रहा है: कियारा

मुंबई 14 दिसंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री कियारा आडवाणी का कहना है कि उनका करीना कपूर पर हमेशा से ही गर्ल क्रश रहा है।

मेहनत

मेहनत और नसीब में विश्वास रखती है कियारा आडवाणी

मुंबई 10 दिसंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता कियारा आडवाणी का कहना है कि वह ज्योतिष में नही बल्कि मेहनत और नसीब में विश्वास रखती है।

समानांतर

समानांतर सिनेमा को पहचान दिलायी श्याम बेनेगल ने

..जन्मदिवस 14 दिसंबर के अवसर पर..
मुंबई 14 दिसंबर (वार्ता) भारतीय सिनेमा जगत में श्याम बेनेगल का नाम एक ऐसे फिल्मकार के रूप में शुमार किया जाता है जिन्होंने न सिर्फ सामानांतर सिनेमा को पहचान दिलायी बल्कि स्मिता पाटिल, शबाना आजमी और नसीरउद्दीन साह समेत कई सितारों को स्थापित किया।

बालाकोट

बालाकोट एयर स्ट्राइक पर फिल्म बनायेंगे भंसाली

मुंबई, 13 दिसंबर (वार्ता) बॉलीवुड फिल्मकार संजय लीला भंसाली बालाकोट एयर स्ट्राइक पर फिल्म बनाने जा रहे हैं।

राम के किरदार के लिये रिजेक्ट कर दिये गये थे अरुण गोविल

राम के किरदार के लिये रिजेक्ट कर दिये गये थे अरुण गोविल

पटना 27 नवंबर (वार्ता) दूरदर्शन के लोकप्रिय सीरियल रामायण में अपने निभाये किरदार ‘राम’ के जरिये दर्शकों के दिलों पर अमिट छाप छोड़ने वाले अरुण गोविल का कहना है कि पहले उन्हें राम के किरदार के लिये रिजेक्ट कर दिया गया था।

दिल्ली में भी होगा फिल्म उद्योग, डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह आरंभ

दिल्ली में भी होगा फिल्म उद्योग, डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह आरंभ

नयी दिल्ली 15 जनवरी (वार्ता) दिल्ली में भी फिल्म उद्योग स्थापित करने के मकसद से पहले डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह एवं विपणन 2019 की कल रात यहां देश-विदेश के फिल्मी जगत के लोगों की मौजूदगी में शुरूआत हुयी।

स्मिता पाटिल ने समानांतर फिल्मों को नया आयाम दिया

स्मिता पाटिल ने समानांतर फिल्मों को नया आयाम दिया

.. पुण्यतिथि 13 दिसंबर  ..
मुंबई 12 दिसंबर (वार्ता) भारतीय सिनेमा के नभमंडल में स्मिता पाटिल ऐसे ध्रुवतारे की तरह है जिन्होंने अपने सशक्त अभिनय से समानांतर सिनेमा के साथ-साथ व्यावसायिक सिनेमा में भी दर्शकों के बीच अपनी खास पहचान बनायी ।

समानांतर सिनेमा को पहचान दिलायी श्याम बेनेगल ने

समानांतर सिनेमा को पहचान दिलायी श्याम बेनेगल ने

..जन्मदिवस 14 दिसंबर के अवसर पर..
मुंबई 14 दिसंबर (वार्ता) भारतीय सिनेमा जगत में श्याम बेनेगल का नाम एक ऐसे फिल्मकार के रूप में शुमार किया जाता है जिन्होंने न सिर्फ सामानांतर सिनेमा को पहचान दिलायी बल्कि स्मिता पाटिल, शबाना आजमी और नसीरउद्दीन साह समेत कई सितारों को स्थापित किया।

image