Friday, Sep 21 2018 | Time 16:10 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • पश्चिम बंगाल के इस्लामपुर में हिंसा, दो की मौत
  • द्रोणाचार्य अवार्डी कुश्ती कोच यशवीर का निधन
  • कश्मीर में पुलिसकर्मियों के इस्तीफे की खबर दुष्प्रचार: गृह मंत्रालय
  • मणिपुर विवि से पांच प्रोफेसर और 100 से अधिक छात्र गिरफ्तार
  • पुलिसकर्मियों की हत्या आतंकवादियों की हताशा का नतीजा: मलिक
  • विश्व में सभी के लिए मानवाधिकारों को बढ़ावा देने की जरुरत: गुटेरेस
  • छोटे प्रक्षेपण यान बनाने के लिए सामने आये निजी क्षेत्र : एंट्रिक्स अधिकारी
  • गडकरी करेंगे पूर्वाेत्तर में राजमार्ग परियोजाओं की समीक्षा
  • सेंसेक्स ने लगाया 1128 अंकों का गोता;निफ्टी 368 अंक टूटा
  • सोमेंद्रनाथ मित्र बने पश्चिम बंगाल कांग्रेस अध्यक्ष
  • एनटीपीसी कर्मियों ने महाप्रबंधक को किया घेराव
  • सर्जिकल स्ट्राइक दिवस मनाना राजनीतिकरण करना नहीं: जावड़ेकर
  • रामकृष्णा इलेक्ट्रो ने पेश किया नाविक आधारित मॉड्यूल ‘यूट्रैक’
मनोरंजन » जानीमानी हस्तियों का जन्म दिन Share

संगीतबद्ध गीतों से देशभक्ति के जज्बे को बुलंद किया सलिल ने

संगीतबद्ध गीतों से देशभक्ति के जज्बे को बुलंद किया सलिल ने

..पुण्यतिथि 5 सितंबर के अवसर पर..
मुंबई 04 सितंबर(वार्ता) भारतीय सिने जगत में सलिल चौधरी का नाम एक ऐसे संगीतकार के रूप मे याद किया जाता है जिन्होंने अपने संगीतबद्ध गीतों से लोगो के बीच देशभक्ति के जज्बे को बुलंद किया।

सलिल का जन्म 19 नवंबर 1923 को हुआ था ।
उनके पिता ज्ञानेन्द्र चंद्र चौधरी असम में डाक्टर के रूप में काम करते थे ।
सलिल का ज्यादातर बचपन असम में हीं बीता ।
बचपन के दिनों से ही सलिल का रूझान संगीत की ओर था।
वह संगीतकार बनना चाहते थे।
उन्होंने किसी उस्ताद से संगीत की शिक्षा नही ली थी ।
सलिल के बड़े भाई एक आर्केस्ट्रा में काम करते थे और इसी वजह से वह हर तरह के वाध यंत्रों से भली भांति परिचत हो गये।
सलिल को बचपन के दिनों से हीं बांसुरी बजाने का बहुत शौक था।
इसके अलावा उन्होंने पियानो और वायलिन बजाना भी सीखा।

सलिल ने अपनी स्नातक की शिक्षा कलकत्ता (कोलकाता) के मशहूर बंगावासी कॉलेज से पूरी की।
इस बीच वह भारतीय जन नाटय् संघ से जुड़ गये।
वर्ष 1940 मे भारतीय स्वतंत्रता संग्राम अपने चरम पर था।
देश को स्वतंत्र कराने के लिये छिड़ी मुहिम में सलिल चौधरी भी शामिल हो गये और इसके लिये उन्होंने अपने संगीतबद्व गीतों का सहारा लिया।
सलिल ने अपने अपने संगीतबद्व गीतों के माध्यम से देशवासियों मे जागृति पैदा की।
अपने संगीतबद्व गीतों को गुलामी के खिलाफ आवाज बुलंद करने के हथियार के रूप मे इस्तेमाल किया और उनके गीतों ने अंग्रेजो के विरूद्व भारतीयों के संघर्ष को एक नयी दिशा दी ।

वर्ष 1943 मे सलिल के संगीतबद्व गीतों ..बिचारपति तोमार बिचार .. और ..धेउ उतचे तारा टूटचे .. ने आजादी के दीवानों में नया जोश भरने का काम किया।
अंग्रेज सरकार ने बाद में इस गीत पर प्रतिबंध लगा दिया।
पचास के दशक में सलिल ने पूरब और पश्चिम के संगीत का मिश्रण करके अपना अलग हीं अंदाज बनाया जो परंपरागत संगीत से काफी भिन्न था ।
इस समय तक सलिल पश्चिम बंगाल में बतौर संगीतकार और गीतकार के रूप में अपनी खास पहचान बना चुके थे।
वर्ष 1950 में अपने सपनों को नया रूप देने के लिये वह मुंबई आ गये।

         वर्ष 1950 में विमल राय अपनी फिल्म दो बीघा जमीन के लिये संगीतकार की तलाश कर रहे थे।
वह सलिल के संगीत बनाने के अंदाज से काफी प्रभावित हुये और उन्होंने सलिल से अपनी फिल्म दो बीघा जमीन में संगीत देने की पेशकश की।
सलिल ने संगीतकार के रूप में अपना पहला संगीत वर्ष 1952 में प्रदर्शित विमल राय की फिल्म ..दो बीघा जमीन ..के गीत .. आ री आ निंदिया ..के लिये दिया ।
फिल्म की कामयाबी के बाद सलिल बतौर संगीतकार फिल्मों में अपनी पहचान बनाने में सफल हो गये ।

फिल्म दो बीघा जमीन की सफलता के बाद इसका बंगला संस्करण ..रिक्शावाला .. बनाया गया ।
वर्ष 1955 में प्रदर्शित इस फिल्म की कहानी और संगीत निर्देशन सलिल ने ही किया था।
फिल्म दो बीघा जमीन की सफलता के बाद सलिल विमल राय के चहेते संगीतकार बन गये और इसके बाद विमल राय की फिल्मों के लिये सलिल ने बेमिसाल संगीत देकर उनकी फिल्मो को सफल बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभायी ।

वर्ष 1960 में प्रदर्शित फिल्म ..काबुलीवाला .. में पार्श्वगायक मन्ना डे की आवाज में सजा यह गीत .. ऐ मेरे प्यारे वतन ऐ मेरे बिछड़े चमन तुझपे दिल कुर्बान .. आज भी श्रोताओं की आंखो को नम कर देता है ।
सत्तर के दशक में सलिल को मुंबई की चकाचौंध कुछ अजीब सी लगने लगी और वह कोलकाता वापस आ गये।
उन्होंने इस बीच कई बंगला गानें लिखे।
इनमें सुरेर झरना और तेलेर शीशी श्रोताओं के बीच काफी लोकप्रिय हुये ।
सलिल के सिने कैरियर में उनकी जोड़ी गीतकार शैलेन्द्र और गुलजार के साथ खूब जमी।
सलिल के पसंदीदा पार्श्वगयिकों में लता मंगेश्कर का नाम सबसे पहले आता है।
वर्ष 1958 मे विमल राय की फिल्म ..मधुमति .. के लिये सलिल को सर्वश्रेष्ठ संगीतकार के फिल्म फेयर पुरस्कार से सम्मानित किया गया।
वर्ष 1998 में संगीत के क्षेत्र मे उनके बहूमूल्य योगदान को देखते हुये वह संगीत नाटय अकादमी पुरस्कार से भी सम्मानित किये गये ।

सलिल ने अपने चार दशक लंबे सिने कैरियर में लगभग 75 हिन्दी फिल्मों में संगीत दिया ।
हिन्दी फिल्मों के अलावा उन्होने मलयालम .तमिल .तेलगू .कन्नड़ .गुजराती .आसामी. उडि़या और मराठी फिल्मों के लिये भी संगीत दिया।
लगभग चार दशक तक अपने संगीत के जादू से श्रोताओं को भावविभोर करने वाले महान संगीतकार सलिल पांच सितंबर 1995 को इस दुनिया को अलविदा कह गये ।

वार्ता

महिलाओं

महिलाओं को फिल्मों में काम करने का मार्ग दिखाया दुर्गा खोटे ने

.. पुण्यतिथि 22 सितंबर के अवसर पर ..
मुम्बई 21 सितंबर (वार्ता) भारतीय सिनेमा जगत में दुर्गा खोटे को एक ऐसी अभिनेत्री के रूप में याद किया जाता है जिन्होंने महिलाओं और युवतियों को फिल्म इंडस्ट्री में काम करने का मार्ग प्रशस्त किया।

रेस-3

रेस-3 की स्क्रिप्ट में कमियां थीं : रेमो डिसूजा

मुंबई 21 सितंबर (वार्ता) बॉलीवुड निर्देशक रेमो डिसूजा ने फिल्म ‘रेस-3’ के बॉक्स ऑफिस पर अधिक सफल नहीं होने का कारण फिल्म की स्क्रिप्ट में कमी बताया है।

दर्शकों

दर्शकों के बीच खास पहचान बनायी करीना ने

( जन्मदिन 21 सितंबर के अवसर पर )
मुंबई 20 सितंबर (वार्ता) बॉलीवुड में करीना कपूर को एक ऐसी अभिनेत्री के तौर पर शुमार किया जाता है जिन्होंने अभिनेत्रियों को फिल्मों में परंपरागत रूप से पेश किये जाने के तरीके को बदलकर अपने बिंदास अभिनय से दर्शकों के बीच अपनी खास पहचान बनायी।

कृष

कृष 4 का निर्देशन करेंगे संजय गुप्ता

मुंबई 17 सितंबर (वार्ता) बॉलीवुड के जाने माने निर्देशक संजय गुप्ता कृष 4 का निर्देशन कर सकते हैं।

डीडीएलजे

डीडीएलजे का रीमेक नहीं बनाया जाना चाहिये : काजोल

मुंबई 21 सितंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री काजोल का कहना है कि उनकी सुपरहिट फिल्म दिलवाले दुल्हनियां ले जायेंगे (डीडीएलजे) का रीमेक नहीं बनाया जाना चाहिये।

कला

कला और व्यावसायिक सिनेमा को नयी ऊंचाई दी शबाना आजमी ने

..जन्मदिवस 18 सितंबर के अवसर पर..
मुम्बई 18 सितंबर (वार्ता) बॉलीवुड की सुप्रसिद्ध अभिनेत्री शबाना आजमी उन अभिनेत्रियों में शामिल हैं. जिन्होंने कला फिल्मों के साथ व्यावसायिक फिल्मों में भी अपनी विशेष पहचान बनाई है।

हॉलीवुड

हॉलीवुड फिल्म में काम करेगी राधिका आप्टे

नयी दिल्ली 17 सितंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री राधिका आप्टे हॉलीवुड फिल्म में काम करती नजर आ सकती है।

सिंगर

सिंगर बनेंगी ऋचा चड्ढा

मुंबई 21 सितंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री ऋचा चड्ढा सिंगर बनने जा रही हैं।

भारतीय

भारतीय सिनेमा जगत के युगपुरूष ताराचंद बड़जात्या

(पुण्यतिथि 21 सितंबर के अवसर पर)
मुंबई 20 सितंबर(वार्ता) भारतीय सिनेमा जगत के युगपुरूष तारा चंद बड़जात्या का नाम एक ऐसे फिल्मकार के रूप में याद किया जाता है जिन्होंने पारिवारिक और साफ सुथरी फिल्म बनाकर लगभग चार दशकों तक सिने दर्शकों केदिल में अपनी खास पहचान बनायी।

शाहरूख

शाहरूख के साथ जोड़ी जमायेगी भूमि पेडनेकर

मुंबई 16 सितंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री भूमि पेडनेकर किंग खान शाहरूख खान के साथ जोड़ी जमाती नजर आ सकती है।

पॉप गायिकी को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलायी माइकल जैक्सन ने

पॉप गायिकी को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलायी माइकल जैक्सन ने

..जन्मदिवस 29 अगस्त के अवसर पर ..
मुंबई 28 अगस्त(वार्ता)किंग ऑफ पॉप माइकल जैक्सन को ऐसी शख्सियत के तौर पर याद किया जाता है जिन्होंने पॉप संगीत की दुनिया को पूरी तरह बदलकर अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अपनी पहचान बनायी है।

माय वर्जिन डायरी डिजिटल प्लेटफार्म पर मचा रही धूम

माय वर्जिन डायरी डिजिटल प्लेटफार्म पर मचा रही धूम

नयी दिल्ली 25 मार्च (वार्ता) दिल्ली विश्वविद्यालय के हिन्दू कॉलेज के छात्रों की जिंदगी पर आधारित फिल्म माय वर्जिन डायरी डिजिटल प्लेटफार्म जिओ सिनेमा, एयरटेल मूवीज, बिगफ्लिक्स, चिल्क्स, हंगामा मूवी, नेट्टीवुड आदि के जरिये वैश्विक स्तर पर धूम मचा रही है।

अभिनेता बनना चाहते थे मुकेश

अभिनेता बनना चाहते थे मुकेश

..पुण्यतिथि 27 अगस्त के अवसर पर ..
मुंबई 26 अगस्त (वार्ता)भारतीय सिनेमा जगत में मुकेश ने भले ही अपने पार्श्व गायन से लगभग तीन दशक तक श्रोताओं को दीवाना बनाया लेकिन वह अपनी पहचान अभिनेता के तौर पर बनाना चाहते थे।

महिलाओं को फिल्मों में काम करने का मार्ग दिखाया दुर्गा खोटे ने

महिलाओं को फिल्मों में काम करने का मार्ग दिखाया दुर्गा खोटे ने

.. पुण्यतिथि 22 सितंबर के अवसर पर ..
मुम्बई 21 सितंबर (वार्ता) भारतीय सिनेमा जगत में दुर्गा खोटे को एक ऐसी अभिनेत्री के रूप में याद किया जाता है जिन्होंने महिलाओं और युवतियों को फिल्म इंडस्ट्री में काम करने का मार्ग प्रशस्त किया।

दर्शकों के बीच खास पहचान बनायी करीना ने

दर्शकों के बीच खास पहचान बनायी करीना ने

( जन्मदिन 21 सितंबर के अवसर पर )
मुंबई 20 सितंबर (वार्ता) बॉलीवुड में करीना कपूर को एक ऐसी अभिनेत्री के तौर पर शुमार किया जाता है जिन्होंने अभिनेत्रियों को फिल्मों में परंपरागत रूप से पेश किये जाने के तरीके को बदलकर अपने बिंदास अभिनय से दर्शकों के बीच अपनी खास पहचान बनायी।

image