Thursday, Sep 19 2019 | Time 13:58 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • तेजस देश के रक्षा शोध संस्थानों की सबसे बडी उपलब्धि: राजनाथ सिंह
  • तेजस देश के रक्षा शोध संस्थानों की सबसे बडी उपलब्धि
  • अफगानिस्तान में हुवाई हमले में 30 की मौत, 45 घायल
  • बोको हराम को मुंहतोड़ जवाब देगा कैमरून
  • भारतीय टीम अपराजेय नहीं: बावुमा
  • भारतीय टीम अपराजेय नहीं: बावुमा
  • तेज रफ्तार बस की चपेट में आने से युवक की मौत
  • सुरेन्द्र नागर और संजय सेठ ने राज्यसभा की सदस्यता की शपथ ली
  • कोलकाता में व्यक्ति ने मेट्रो के सामने कूद कर दी जान
  • निम्रिता की पोस्टमार्टम रिपोर्ट पर विशेषग्यों ने उठाए सवाल
  • सडक हादसे में चालक सहित चार की मौत
  • अफगानिस्तान के खाेजिआनी जिले में हवाई हमले में 30 की मौत, 45 घायल
  • मरने के बाद भी ‘करवट’ बदलते हैं लोग:अनुसंधान
  • आइफा में रणवीर और आलिया का जलवा
  • आइफा में रणवीर और आलिया का जलवा
मनोरंजन » जानीमानी हस्तियों का जन्म दिन


भारतीय सिनेमा जगत के जनक थे दादा साहब फाल्के

भारतीय सिनेमा जगत के जनक थे दादा साहब फाल्के

(जन्मदिवस 30 अप्रैल के अवसर पर)
मुबई, 29 अप्रैल (वार्ता) मुंबई में वर्ष 1910 में प्रदर्शित फिल्म ‘द लाइफ ऑफ क्राइस्ट’ के प्रदर्शन के दौरान दर्शकों की भीड़ में एक ऐसा शख्स भी था जिसे फिल्म देखने के बाद अपने जीवन का लक्ष्य मिल गया।
लगभग दो महीने के अंदर उसने शहर में प्रदर्शित सारी फिल्में देख डाली और निश्चय कर लिया कि वह फिल्म निर्माण ही करेगा।
यह शख्स और कोई नहीं भारतीय सिनेमा के जनक दादा साहब फाल्के थे।

दादा साहब फाल्के का असली नाम धुंधिराज गोविन्द फाल्के था।
उनका जन्म महाराष्ट्र के नासिक के निकट त्रयम्बकेश्वर में 30 अप्रैल 1870 में हुआ था।
उनके पिता दाजी शास्त्री फाल्के संस्कृत के विद्धान थे।
कुछ समय
के बाद बेहतर जिंदगी की तलाश में उनका परिवार मुंबई आ गया।
बचपन से ही दादा साहब फाल्के का रूझान कला की ओर था और वह इसी क्षेत्र में अपना करियर बनाना चाहते थे।
उन्होंने वर्ष 1885 में उन्होंने जे.जे.कॉलेज ऑफ आर्ट में दाखिला ले लिया।
उन्होंने बड़ौदा के मशहूर कलाभवन में भी कला की शिक्षा हासिल की।
इसके बाद उन्होंने नाटक कंपनी में चित्रकार के रूप में काम किया।
वर्ष 1903 में वह पुरात्तव विभाग में फोटोग्राफर के तौर पर काम करने लगे।

कुछ समय बाद दादा साहब फाल्के का मन फोटोग्राफी में नहीं लगा और उन्होंने निश्चय किया कि वह बतौर फिल्मकार करियर बनाएंगे।
इसी सपने को साकार करने के लिये वह वर्ष 1912 में वह अपने दोस्त से रुपये लेकर लंदन चले गये।
लगभग दो सप्ताह तक लंदन में फिल्म निर्माण की बारीकियां सीखने के बाद वह फिल्म निर्माण से जुड़े उपकरण खरीदने के बाद मुंबई लौट आये।
मुंबई आने के बाद दादा साहब फाल्के ने ‘फाल्के फिल्म कंपनी ’की स्थापना की और उसके बैनर तले ‘राजा हरिश्चंद्र’ नाम की फिल्म बनाने का निश्चय किया।
इसके लिये फाइनेंसर की तलाश में जुट गये।
इस दौरान उनकी मुलाकात फोटोग्राफी उपकरण के डीलर यशवंत नाडकर्णी से हुयी जो दादा साहब फाल्के से काफी प्रभावित हुये और उन्होंने उनकी फिल्म का फाइनेंसर बनना स्वीकार कर लिया।

फिल्म निर्माण के क्रम में दादा साहब फाल्के को काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ा।
वह चाहते थे कि फिल्म में अभिनेत्री का किरदार कोई महिला ही निभाये लेकिन उन दिनों फिल्मों में महिलाओं का काम करना अच्छा नहीं माना जाता था।
उन्होंने रेड लाइट एरिया में भी खोजबीन की लेकिन कोई भी महिला फिल्म में काम करने को तैयार नहीं हुई।
बाद में उनकी खोज एक रेस्ट्रारेंट में बावर्ची के रूप में काम करने वाले व्यक्ति सालुंके से मिलकर पूरी हुयी ।

दादा साहब फाल्के भारतीय दर्शकों को अपनी फिल्म के जरिये कुछ नया देना चाहते थे।
वह फिल्म निर्माण में कोई कसर नहीं छोड़ना चाहते थे।
इसलिये उन्होंने फिल्म में निर्देशन के अलावा उसके लेखन, छायांकन, संपादन तथा चित्रांकन की सारी जिम्मेदारियां अपने ऊपर ले ली।
यहां तक कि फिल्म के वितरण का काम भी उन्होंने ही किया।
फिल्म के निर्माण के दौरान दादा साहब फाल्के की पत्नी ने उनकी काफी सहायता की।

इस दौरान वह फिल्म में काम करने वाले लगभग पांच सौ लोगो के लिये खुद खाना बनाती और उनके कपड़े धोती थी।
फिल्म के निर्माण में लगभग 15 हजार रुपये लगे जो उन दिनों काफी बड़ी रकम थी।
आखिरकार वह दिन आ ही गया जब फिल्म का प्रदर्शन होना था।
तीन मई 1913 में मुंबई के कोरनेशन सिनेमा में फिल्म पहली बार दिखाई गयी।
लगभग 40 मिनट की इस फिल्म को दर्शकों का अपार सर्मथन मिला।
फिल्म टिकट खिड़की पर सुपरहिट साबित हुयी।

फिल्म ‘राजा हरिश्चंद्र ’की अपार सफलता के बाद दादा साहब फाल्के नासिक आ गये और फिल्म ‘मोहिनी भस्मासुर’ का निर्माण करने लगे।
फिल्म के निर्माण में लगभग तीन महीने लगे।
मोहिनी भस्मासुर का फिल्म जगत के इतिहास में काफी महत्व है क्योंकि इसी फिल्म से दुर्गा गोखले और कमला गोखले जैसी अभिनेत्रियों को भारतीय फिल्म जगत की पहली महिला अभिनेत्री बनने का गौरव प्राप्त हुआ था।
इस फिल्म को जिस रील पर यह फिल्म बनी थी वह लगभग 3245 फीट लंबी थी जिसमें उन्होंने पहली बार ट्रिक फोटोग्राफी का प्रयोग किया था।
दादा साहब फाल्के की अगली फिल्म सत्यवान-सावित्री वर्ष 1914 में प्रदर्शित हुयी।

फिल्म सत्यवान -सावित्री की सफलता के बाद दादा साहब फाल्के की ख्याति पूरे देश में फैल गयी और दर्शक उनकी फिल्म देखने के लिये जुटने लगे।
वह अपनी फिल्म हिंदुस्तान के हर दर्शक को दिखाने चाहते थे।
इसलिए उन्होंने निश्चय किया कि वह अपनी फिल्म के लगभग 20 प्रिंट अवश्य तैयार करेंगे जिससे फिल्म ज्यादा दर्शकों को दिखायी जा सके।
वर्ष 1914 में उन्हें एक बार फिर लंदन जाने का मौका मिला।
वहां उन्हें कई प्रस्ताव मिले कि वह फिल्म निर्माण का काम लंदन में ही रहकर पूरा करें लेकिन उन्होंने उन सारे प्रस्तावों को यह कहकर ठुकरा दिया कि वह भारतीय हैं और भारत में रहकर ही फिल्म का निर्माण करेंगे ।

    दादा साहब फाल्के ने 1914 में ‘लंका दहन ’, 1918 में ‘श्री कृष्ण जन्म’ और 1919 में ‘कालिया मर्दन’ जैसी सफल धार्मिक फिल्मों का निर्देशन किया।
इन फिल्मों का सुरूर दर्शकों के सिर चढ़कर बोला।
इन फिल्मों को देखते समय लोग भक्ति भावना में सराबोर जाते थे।
फिल्म लंका दहन के प्रदर्शन के दौरान श्रीराम और कालिया मर्दन के प्रर्दशन के दौरान श्री कृष्ण जब पर्दे पर अवतरित होते थे तो सारे दर्शक उन्हें दंडवत प्रणाम करने लगते।

वर्ष 1917 में दादा साहब फाल्के कंपनी का विलय ‘हिंदुस्तान फिल्म्स कंपनी ’ में हो गया।
इसके बाद दादा साहब फाल्के नासिक आ गये और एक स्टूडियों की स्थापना की।
फिल्म स्टूडियो के अलावे उन्होंने वहां अपने टेक्निशयनों और कलाकारों के एक साथ रहने के लिये भवन की स्थापना की ताकि वे एक साथ संयुक्त परिवार की तरह रह सके ।

1920 के दशक में दर्शकों का रूझान धार्मिक फिल्मों से हटकर एक्शन फिल्मों की ओर हो गया जिससे दादा साहब फाल्के को गहरा सदमा पहुंचा।
फिल्मों में व्यावसायिकता को हावी होता देखकर अंततः उन्होंने वर्ष 1928 में फिल्म इंडस्ट्री से संन्यास ले लिया।
हालांकि वर्ष 1931 में प्रदर्शित फिल्म सेतुबंधम के जरिये उन्होंने फिल्म इंडस्ट्री में वापसी की कोशिश की लेकिन फिल्म टिकट खिड़की पर असफल साबित हुयी।
वर्ष 1970 में दादा साहब फाल्के की जन्म शताब्दी के अवसर पर भारत सरकार ने फिल्म के क्षेत्र के उनके उल्लेखनीय योगदान को देखते हुये उनके नाम पर दादा साहब फाल्के पुरस्कार की शुरूआत की।
फिल्म अभिनेत्री देविका रानी फिल्म जगत का यह सर्वोंच्च सम्मान पाने वाली पहली कलाकार थी।

दादा साहब फाल्के ने अपने तीन दशक लंबे सिने करियर में लगभग 100 फिल्मों का निर्देशन किया।
वर्ष 1937 में प्रदर्शित फिल्म ‘गंगावतारम’ दादा साहब फाल्के के सिने करियर की अंतिम फिल्म साबित हुयी।
फिल्म टिकट खिड़की पर असफल साबित हुयी जिससे दादा साहब फाल्के को गहरा सदमा लगा और उन्होंने सदा के लिये फिल्म निर्माण छोड़ दिया।
लगभग तीन दशक तक अपनी फिल्मों के जरिये दर्शकों को मंत्रमुग्ध करने वाले महान फिल्मकार दादा साहब फाल्के नासिक में 16 फरवरी 1944 को इस दुनिया से सदा के लिये विदा हो गये ।

अर्थपूर्ण

अर्थपूर्ण फिल्में बनाने में माहिर रहे हैं महेश भट्ट

..जन्मदिवस 20 सितंबर..
मुंबई 19 सितंबर (वार्ता) बॉलीवुड में महेश भट्ट को एक ऐसे फिल्मकार के रूप में शुमार किया जाता है जिन्होंने अर्थपूर्ण और सामाजिक फिल्में बनाकर दर्शको को अपना दीवाना बनाया है ।

पृथ्वीराज

पृथ्वीराज में अहम किरदार निभाएंगे संजय दत्त

मुंबई 19 सितंबर (वार्ता) बॉलीवुड के माचो मैन संजय दत्त फिल्म ‘पृथ्वीराज’ में अहम किरदार निभाते नजर आ सकते हैं।

प्रियंका

प्रियंका दीदी से तुलना नही कर सकती : मीरा चोपड़ा

मुंबई 19 सितंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री मीरा चोपड़ा का कहना है कि वह अपनी तुलना अपनी कजिन एवं अभिनेत्री प्रियंका चोपड़ा से कभी नही कर सकती है।

हॉरर

हॉरर फिल्मों के शंहशाह श्याम रामसे का निधन

मुंबई, 18 सितंबर (वार्ता) हॉरर फिल्मों के शंहशाह माने जाने वाले फिल्मकार श्याम रामसे का आज यहां निधन हो गया।

आइफा

आइफा में रणवीर और आलिया का जलवा

मुंबई 19 सितंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता रणवीर सिंह को फिल्म ‘पद्मावत’ और आलिया भट्ट को फिल्म राजी के लिये 20 वें अंतरराष्ट्रीय भारतीय फिल्म अकादमी (आइफा) समारोह में सर्वश्रेष्ठ अभिनेता और अभिनेत्री का पुरस्कार दिया गया है।

ऋतिक

ऋतिक और प्रभास को लेकर फिल्म बनायेंगे नितेश तिवारी

मुंबई 18 सितंबर (वार्ता) बॉलीवुड निर्देशक नितेश तिवारी माचो मैन ऋतिक रौशन और दक्षिण भारतीय फिल्मों के सुपरस्टार प्रभास को लेकर फिल्म बना सकते हैं।

भूल-भूलैया

भूल-भूलैया 2 में कार्तिक के साथ काम करेंगी कियारा

मुंबई 18 सितंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री कियारा आडवाणी ‘भूल-भूलैया’ के सीक्वल में कार्तिक आर्यन के साथ काम करती नजर आ सकती हैं।

‘साहो’

‘साहो’ की कामयाबी पर खुश है श्रद्धा कपूर

मुंबई 18 सिंतबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री श्रद्धा कपूर फिल्म ‘साहो’ को मिल रही कामयाबी पर बेहद खुश है।

सौ

सौ करोड़ के क्लब में शामिल हुयी ‘छिछोरे’

मुंबई 18 सितंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत और श्रद्धा कपूर की जोड़ी वाली फिल्म ‘छिछोरे’ 100 करोड़ के क्लब में शामिल हो गयी है।

आनंद

आनंद नाम को लकी मानती है सोनम कपूर

मुंबई, 18 सितंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री सोनम कपूर का कहना है कि वह ‘आनंद’ नाम को अपने लिये लकी मानती है।

दिल्ली में भी होगा फिल्म उद्योग, डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह आरंभ

दिल्ली में भी होगा फिल्म उद्योग, डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह आरंभ

नयी दिल्ली 15 जनवरी (वार्ता) दिल्ली में भी फिल्म उद्योग स्थापित करने के मकसद से पहले डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह एवं विपणन 2019 की कल रात यहां देश-विदेश के फिल्मी जगत के लोगों की मौजूदगी में शुरूआत हुयी।

शंकर और जयकिशन के बीच भी हुयी थी अनबन

शंकर और जयकिशन के बीच भी हुयी थी अनबन

. जयकिशन पुण्यतिथि 12 सितंबर के अवसर पर .
मुंबई 11 सितंबर (वार्ता) भारतीय सिनेमा जगत में सर्वाधिक कामयाब संगीतकार जोड़ी शंकर -जयकिशन ने अपने सुरो के जादू से श्रोताओं को कई दर्शकों तक मंत्रमुग्ध किया और उनकी जोड़ी एक मिसाल के रूप में ली जाती थी लेकिन एक वक्त ऐसा भी आया जब दोनो के बीच अनबन हो गयी थी।

image