Friday, Nov 15 2019 | Time 01:39 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • अमेरिका के कैलिफोर्निया में स्कूल में गोलीबारी, पांच घायल
  • आतंकवाद ने विकासशील देशों के आर्थिक विकास की रफ्तार को धीमा किया: मोदी
  • इंडोनेशिया में भूकंप के जोरदार झटके
  • पूर्व मंत्री हरिनारायण की चुनाव लड़ने की अनुमति दिए जाने की याचिका खारिज
  • फोटो कैप्शन तीसरा सेट
मनोरंजन » जानीमानी हस्तियों का जन्म दिन


एक दिन बिक जायेगा के लिये राजकपूर ने दिये थे 1000 रूपये

एक दिन बिक जायेगा के लिये राजकपूर ने दिये थे 1000 रूपये

.. जन्मदिवस 01 अक्टूबर के अवसर पर ..
मुंबई 30 सितंबर (वार्ता) महान शायर और गीतकार मजरूह सुल्तानपुरी को अपने रचित गीत ‘एक दिन बिक जायेगा माटी के मोल’ के लिये शोमैन राजकपूर ने 1000 रूपये दिये थे।

मजरूह सुल्तान पुरी का जन्म उत्तप्रदेश के सुल्तानपुर शहर मे एक अक्तूबर 1919 को हुआ था।
उनके पिता एक सब इस्पैक्टर थे और वह मजरूह सुल्तान पुरी को ऊंची से ऊंची तालीम देना चाहते थे।
मजरूह सुल्तानपुरी ने लखनऊ के तकमील उल तीब कॉलेज से यूनानी पद्धति की मेडिकल की परीक्षा उर्तीण की और बाद मे वह हकीम के रूप में काम करने लगे।

बचपन के दिनों से ही मजरूह सुल्तान पुरी को शेरो-शायरी करने का काफी शौक था और वह अक्सर सुल्तानपुर मे हो रहे मुशायरों में हिस्सा लिया करते थे जिनसे उन्हें काफी नाम और शोहरत मिली।
उन्होंने अपनी मेडिकल की प्रैक्टिस बीच में ही छोड़ दी और अपना ध्यान शेरो-शायरी की ओर लगाना शुरू कर दिया।
इसी दौरान उनकी मुलाकात मशहूर शायर जिगर मुरादाबादी से हुयी।

वर्ष 1945 मे सब्बो सिद्धकी इंस्टीच्यूट द्वारा संचालित एक मुशायरे में हिस्सा लेने मजरूह सुल्तान पुरी बम्बई आये।
मुशायरे के कार्यक्रम में उनकी शायरी सुन मशहूर निर्माता ए. आर. कारदार काफी प्रभावित हुये और उन्होंने मजरूह सुल्तानपुरी से अपनी फिल्म के लिये गीत लिखने की पेशकश की।
मजरूह सुल्तानपुरी ने कारदार साहब की इस पेशकश को ठुकरा दिया क्योंकि फिल्मों के लिये गीत लिखना वह अच्छी बात नहीं समझते थे।

    जिगर मुरादाबादी ने मजरूह सुल्तानपुरी को तब सलाह दी कि फिल्मों के लिये गीत लिखना कोई बुरी बात नहीं है।
गीत लिखने से मिलने वाली धन राशि में से कुछ पैसे वह अपने परिवार के खर्च के लिये भेज सकते है।
जिगर मुरादाबादी की सलाह पर मजरूह सुल्तानपुरी फिल्म में गीत लिखने के लिये राजी हो गये।
संगीतकार नौशाद ने मजरूह सुल्तानपुरी को एक धुन सुनायी और उनसे उस धुन पर एक गीत लिखने को कहा।

मजरूह सुल्तान पुरी ने उस धुन पर .. जब उनके गेसू बिखराये बादल आये झूम के .. गीत की रचना की।
मजरूह के गीत लिखने के अंदाज से नौशाद काफी प्रभावित हुये और उन्होंने अपनी नयी फिल्म..शाहजहां .. के लिये गीत लिखने की पेशकश की।
फिल्म शाहजहां के बाद महबूब खान की ..अंदाज.. और एस फाजिल की ..मेहन्दी.. जैसे फिल्म मे अपने रचित गीतों की सफलता के बाद मजरूह सुल्तानपुरी बतौर गीतकार फिल्म जगत मे अपनी पहचान बनाने मे सफल हो गये।

अपनी वामपंथी विचार धारा के कारण मजरूह सुल्तानपुरी को कई कठिनाइयों का सामना करना पड़ा।
कम्युनिस्ट विचारों के कारण उन्हें जेल भी जाना पड़ा।
मजरूह सुल्तानपुरी को सरकार ने सलाह दी कि यदि वह माफी मांग लेते है तो उन्हें जेल से आजाद कर दिया जायेगा लेकिन मजरूह सुल्तानपुरी इस बात के लिये राजी नहीं हुये और उन्हें दो वर्ष के लिये जेल भेज दिया गया।

    जेल मे रहने के कारण मजरूह सुल्तानपुरी के परिवार की माली हालत काफी खराब हो गयी।
राजकपूर ने उनकी सहायता करनी चाही लेकिन मजरूह सुल्तानपुरी ने उनकी सहायता लेने से मना कर दिया।
इसके बाद राजकपूर ने उनसे एक गीत लिखने की पेशकश की।
मजरूह सुल्तान पुरी ने ..एक दिन बिक जायेगा माटी के मोल.. गीत की रचना की जिसके एवज मे राजकपूर ने उन्हें एक हजार रूपये दिये।
वर्ष 1975 में राजकपूर ने अपनी फिल्म ‘धरम करम’ के लिये इस गीत का इस्तेमाल किया।

लगभग दो वर्ष तक जेल मे रहने के बाद मजरूह सुल्तानपुरी ने एक बार फिर से नये जोशो खरोश के साथ काम करना शुरू कर दिया।
वर्ष 1953 में प्रदर्शित फिल्म फुटपाथ और आर पार में अपने रचित गीतों की कामयाबी के बाद मजरूह सुल्तानपुरी फिल्म इंडस्ट्री मे पुन: अपनी खोई हुयी पहचान बनाने मे सफल हो गये।

मजरूह सुल्तान पुरी के महत्वपूर्ण योगदान को देखते हुये वर्ष 1993 में उन्हें फिल्म जगत के सर्वोच्च सम्मान दादा साहब फाल्के पुरस्कार से नवाजा गया।
इसके अलावा वर्ष 1964 मे प्रदर्शित फिल्म ..दोस्ती .. में अपने रचित गीत ..चाहूंगा मैं तुझे सांझ सवेरे.. के लिये वह सर्वश्रेष्ठ गीतकार के फिल्म फेयर पुरस्कार से सम्मानित किये गये।

मजरूह सुल्तान पुरी ने चार दशक से भी ज्यादा लंबे सिने कैरियर मे लगभग 300 फिल्मों के लिये लगभग 4000 गीतों की रचना की।
अपने रचित गीतों से श्रोताओं को भावविभोर करने वाले महान शायर और गीतकार 24 मई 2000 को इस दुनिया को अलविदा कह गये।

इंटरनेशनल

इंटरनेशनल फ़िल्म फेस्टिवल में दिखेंगी धर्मेंद्र-राजेश खन्ना की क्लासिक फ़िल्में

मुंबई 14 नवंबर (वार्ता) गोआ में होने वाले इंटरनेशनल फ़िल्म फेस्टिवल (इफ्फी )में धर्मेंद्र और राजेश खन्ना की क्लासिक फ़िल्में दिखायी जायेंगी।

कई

कई बार रिजेक्शन का सामना किया :डेजी शाह

मुंबई 14 नवंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री डेजी शाह का कहना है कि उन्हें कई बार रिजेक्शन का सामना करना पड़ा था।

शमशेरा

शमशेरा के लिए बॉडी बना रहे हैं रणबीर कपूर

मुंबई 14 नवंबर (वार्ता) बॉलीवुड के रॉकस्टार रणबीर कपूर अपनी आने वाली फिल्म शमशेरा के लिये बॉडी बना रहे हैं।

प्रियंका

प्रियंका चोपड़ा ने 144 करोड़ में खरीदा घर

मुंबई 14 नवंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री प्रियंका चोपड़ा और उनके पति निक जोनास ने अमेरिका के लॉस एंजिलिस में 144 करोड़ रुपए का घर ख़रीदा हैं।

16

16 साल बाद कमबैक करेंगी राखी

मुंबई 13 नवंबर (वार्ता) बॉलीवुड की जानी मानी अभिनेत्री राखी 16 साल बाद सिल्वर स्क्रीन पर वापसी करने जा रही है।

अमिताभ

अमिताभ बच्चन लेने जा रहे लंबा ब्रेक !

मुंबई 13 नवंबर (वार्ता) बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन शूटिंग से लंबा ब्रेक लेने जा रहे हैं।

फिल्मों

फिल्मों में बाल कलाकारों का जलवा भी कम नहीं

..बाल दिवस 14 नवंबर ..
मुंबई 13 नवंबर (वार्ता) बॉलीवुड सिनेमा यूं तो युवा प्रधान है और समूचा सिने उद्योग युवा सोच की मांग को ध्यान में रखकर फिल्मों का निर्माण करता है लेकिन बाल कलाकारों ने इस व्यवस्था को अपने दमदार अभिनय से लगातार चुनौती दी है।

बाजीगर

बाजीगर के 26 साल पूरे होने पर काजोल ने शेयर किया वीडियो

मुंबई 13 नवंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री काजोल ने अपनी सुपरहिट फिल्म बाजीगर के प्रदर्शन के 26 साल पूरे होने पर सोशल मीडिया पर एक वीडियो शेयर किया है।

बेहद

बेहद केयरिंग है कार्तिक : अनन्या

मुंबई 13 नवंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री अनन्या पांडे का कहना है कि कार्तिक आर्यन काफी केयरिंग इंसान हैं और सबका बेहद ख्याल रखते हैं।

अक्षय

अक्षय ने अजय को 100 वीं फिल्म के लिये दी शुभकामना

मुंबई 13 नवंबर (वार्ता) बॉलीवुड के खिलाड़ी कुमार अक्षय कुमार ने अजय देवगन को 100वीं फिल्म के लिये शुभकामना दी है।

दिल्ली में भी होगा फिल्म उद्योग, डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह आरंभ

दिल्ली में भी होगा फिल्म उद्योग, डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह आरंभ

नयी दिल्ली 15 जनवरी (वार्ता) दिल्ली में भी फिल्म उद्योग स्थापित करने के मकसद से पहले डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह एवं विपणन 2019 की कल रात यहां देश-विदेश के फिल्मी जगत के लोगों की मौजूदगी में शुरूआत हुयी।

पार्श्वगायिका बनना चाहती थीं पद्मिनी कोल्हापुरी

पार्श्वगायिका बनना चाहती थीं पद्मिनी कोल्हापुरी

..जन्मदिन 01 नवंबर के अवसर पर ..
मुंबई 31 अक्टूबर (वार्ता) बॉलीवुड में अपनी दिलकश अदाओं से अभिनेत्री पद्मिनी कोल्हापुरी ने दर्शकों को मंत्रमुग्ध किया लेकिन वह फिल्म अभिनेत्री न बनकर पार्श्वगायिका बनना चाहती थीं ।

image