Wednesday, Jun 3 2020 | Time 07:04 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • जॉर्ज की मौत के विरोध में ह्यूस्टन में शांतिपूर्ण प्रदर्शन
  • चिली में कोरोना संक्रमण के रिकाॅर्ड 3,527 नये मामले
  • इजरायल में एक माह बाद कोरोना के सर्वाधिक नये मामले
  • मिस्र में कोविड-19 से एक दिन में रिकाॅर्ड 47 लोगों की मौत
  • फ्रांस में कोविड-19 से करीब 29 हजार लोगों की मौत
  • जेसिका लाल हत्याकांड का दोषी मनु शर्मा रिहा
  • इजरायल ने नयी बैलिस्टिक मिसाइल का परीक्षण किया
  • ओमान में कोरोना के 576 नये मामले, कुल 12,799 संक्रमित
  • विश्व में कोरोना संक्रमितों की संख्या 63 25 लाख हुई, 3 77 लाख की मौत
मनोरंजन » जानीमानी हस्तियों का जन्म दिन


एक दिन बिक जायेगा के लिये राजकपूर ने दिये थे 1000 रूपये

एक दिन बिक जायेगा के लिये राजकपूर ने दिये थे 1000 रूपये

.. जन्मदिवस 01 अक्टूबर के अवसर पर ..
मुंबई 30 सितंबर (वार्ता) महान शायर और गीतकार मजरूह सुल्तानपुरी को अपने रचित गीत ‘एक दिन बिक जायेगा माटी के मोल’ के लिये शोमैन राजकपूर ने 1000 रूपये दिये थे।

मजरूह सुल्तान पुरी का जन्म उत्तप्रदेश के सुल्तानपुर शहर मे एक अक्तूबर 1919 को हुआ था।
उनके पिता एक सब इस्पैक्टर थे और वह मजरूह सुल्तान पुरी को ऊंची से ऊंची तालीम देना चाहते थे।
मजरूह सुल्तानपुरी ने लखनऊ के तकमील उल तीब कॉलेज से यूनानी पद्धति की मेडिकल की परीक्षा उर्तीण की और बाद मे वह हकीम के रूप में काम करने लगे।

बचपन के दिनों से ही मजरूह सुल्तान पुरी को शेरो-शायरी करने का काफी शौक था और वह अक्सर सुल्तानपुर मे हो रहे मुशायरों में हिस्सा लिया करते थे जिनसे उन्हें काफी नाम और शोहरत मिली।
उन्होंने अपनी मेडिकल की प्रैक्टिस बीच में ही छोड़ दी और अपना ध्यान शेरो-शायरी की ओर लगाना शुरू कर दिया।
इसी दौरान उनकी मुलाकात मशहूर शायर जिगर मुरादाबादी से हुयी।

वर्ष 1945 मे सब्बो सिद्धकी इंस्टीच्यूट द्वारा संचालित एक मुशायरे में हिस्सा लेने मजरूह सुल्तान पुरी बम्बई आये।
मुशायरे के कार्यक्रम में उनकी शायरी सुन मशहूर निर्माता ए. आर. कारदार काफी प्रभावित हुये और उन्होंने मजरूह सुल्तानपुरी से अपनी फिल्म के लिये गीत लिखने की पेशकश की।
मजरूह सुल्तानपुरी ने कारदार साहब की इस पेशकश को ठुकरा दिया क्योंकि फिल्मों के लिये गीत लिखना वह अच्छी बात नहीं समझते थे।

    जिगर मुरादाबादी ने मजरूह सुल्तानपुरी को तब सलाह दी कि फिल्मों के लिये गीत लिखना कोई बुरी बात नहीं है।
गीत लिखने से मिलने वाली धन राशि में से कुछ पैसे वह अपने परिवार के खर्च के लिये भेज सकते है।
जिगर मुरादाबादी की सलाह पर मजरूह सुल्तानपुरी फिल्म में गीत लिखने के लिये राजी हो गये।
संगीतकार नौशाद ने मजरूह सुल्तानपुरी को एक धुन सुनायी और उनसे उस धुन पर एक गीत लिखने को कहा।

मजरूह सुल्तान पुरी ने उस धुन पर .. जब उनके गेसू बिखराये बादल आये झूम के .. गीत की रचना की।
मजरूह के गीत लिखने के अंदाज से नौशाद काफी प्रभावित हुये और उन्होंने अपनी नयी फिल्म..शाहजहां .. के लिये गीत लिखने की पेशकश की।
फिल्म शाहजहां के बाद महबूब खान की ..अंदाज.. और एस फाजिल की ..मेहन्दी.. जैसे फिल्म मे अपने रचित गीतों की सफलता के बाद मजरूह सुल्तानपुरी बतौर गीतकार फिल्म जगत मे अपनी पहचान बनाने मे सफल हो गये।

अपनी वामपंथी विचार धारा के कारण मजरूह सुल्तानपुरी को कई कठिनाइयों का सामना करना पड़ा।
कम्युनिस्ट विचारों के कारण उन्हें जेल भी जाना पड़ा।
मजरूह सुल्तानपुरी को सरकार ने सलाह दी कि यदि वह माफी मांग लेते है तो उन्हें जेल से आजाद कर दिया जायेगा लेकिन मजरूह सुल्तानपुरी इस बात के लिये राजी नहीं हुये और उन्हें दो वर्ष के लिये जेल भेज दिया गया।

    जेल मे रहने के कारण मजरूह सुल्तानपुरी के परिवार की माली हालत काफी खराब हो गयी।
राजकपूर ने उनकी सहायता करनी चाही लेकिन मजरूह सुल्तानपुरी ने उनकी सहायता लेने से मना कर दिया।
इसके बाद राजकपूर ने उनसे एक गीत लिखने की पेशकश की।
मजरूह सुल्तान पुरी ने ..एक दिन बिक जायेगा माटी के मोल.. गीत की रचना की जिसके एवज मे राजकपूर ने उन्हें एक हजार रूपये दिये।
वर्ष 1975 में राजकपूर ने अपनी फिल्म ‘धरम करम’ के लिये इस गीत का इस्तेमाल किया।

लगभग दो वर्ष तक जेल मे रहने के बाद मजरूह सुल्तानपुरी ने एक बार फिर से नये जोशो खरोश के साथ काम करना शुरू कर दिया।
वर्ष 1953 में प्रदर्शित फिल्म फुटपाथ और आर पार में अपने रचित गीतों की कामयाबी के बाद मजरूह सुल्तानपुरी फिल्म इंडस्ट्री मे पुन: अपनी खोई हुयी पहचान बनाने मे सफल हो गये।

मजरूह सुल्तान पुरी के महत्वपूर्ण योगदान को देखते हुये वर्ष 1993 में उन्हें फिल्म जगत के सर्वोच्च सम्मान दादा साहब फाल्के पुरस्कार से नवाजा गया।
इसके अलावा वर्ष 1964 मे प्रदर्शित फिल्म ..दोस्ती .. में अपने रचित गीत ..चाहूंगा मैं तुझे सांझ सवेरे.. के लिये वह सर्वश्रेष्ठ गीतकार के फिल्म फेयर पुरस्कार से सम्मानित किये गये।

मजरूह सुल्तान पुरी ने चार दशक से भी ज्यादा लंबे सिने कैरियर मे लगभग 300 फिल्मों के लिये लगभग 4000 गीतों की रचना की।
अपने रचित गीतों से श्रोताओं को भावविभोर करने वाले महान शायर और गीतकार 24 मई 2000 को इस दुनिया को अलविदा कह गये।

स्टार्टअप

स्टार्टअप कंपनी शुरू करने वालों की मदद करेंगे विद्युत जामवाल

मुंबई 31 मई (वार्ता) बॉलीवुड के माचो मैन विद्युत जामवाल स्टार्टअप बिजनेस शुरू करने वाले लोगों की मदद करने के लिये आगे आये हैं।

‘वॉर’

‘वॉर’ के सीक्वल में काम करना चाहते हैं टाइगर श्रॉफ

मुंबई 02 जून (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता टाइगर श्राॅफ अपनी सुपरहिट फिल्म वॉर के सीक्वल में काम करना चाहते हैं।

33

33 वर्ष की हुयी सोनाक्षी सिन्हा

मुंबई 02 जून(वार्ता) बॉलीवुड की दबंग गर्ल सोनाक्षी सिन्हा आज 33 वर्ष की हो गयी।

मलयालम

मलयालम फिल्म का रीमेक बनायेंगे जॉन अब्राहम

मुंबई, 02 जून (वार्ता) बॉलीवुड के माचो मैन जॉन अब्राहम मलायलम फिल्म का रीमेक बनाने जा रहे हैं।

बिहारी

बिहारी लोगों से मेरा पुराना याराना :सोनू सूद

मुंबई, 02 जून (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता सोनू सूद का कहना है कि बिहारी लोगों से उनका पुराना याराना रहा है।

थियेटर

थियेटर कलाकारों के लिए खाने का इंतजाम कर रहे हैं सलमान

मुंबई, 02 जून (वार्ता) बॉलीवुड के दबंग स्टार सलमान खान थियेटर कलाकारों के लिए खाने का इंतजाम कर रहे हैं।

एक्शन

एक्शन आइकन बनना चाहती है जैकलीन

मुंबई, 31 मई (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री और पूर्व मिस श्रीलंका जैकलीन फर्नांडीस एक्शन आइकन बनना चाहती है।

प्रवासी

प्रवासी मजदूर पर बन रही फिल्म में नजर आयेंगे राहुल राय

मुंबई, 31 मई (वार्ता) बॉलीवुड के आशिकी बॉय राहुल राय प्रवासी मजदूरों पर बन रही फिल्म 'द वॉक' में नजर आयेंगे।

लॉकडाउन

लॉकडाउन में गर्ल गैंग को मिस कर रही हैं करीना कपूर

मुंबई, 31 मई (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री करीना कपूर लॉकडाउन में अपने गर्ल गैंग को बेहद मिस कर रही है।

बैकग्राउंड

बैकग्राउंड डांसर की मदद के लिए आगे आए सिद्धार्थ मल्‍होत्रा

मुंबई 31 मई (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता सिद्धार्थ मल्होत्रा ने कोरोना संकट के समय 200 बैकग्राउंड डांसर की मदद के लिए आगे आते हुये उनके अकाउंट में पैसे ट्रांसफर किये हैं।

लालटेन में राबड़ी देवी का किरदार निभायेगी स्मृति सिन्हा

लालटेन में राबड़ी देवी का किरदार निभायेगी स्मृति सिन्हा

मुंबई 30 मई (वार्ता) भोजपुरी सिनेमा की जानी मानी अभिनेत्री स्मृति सिन्हा आने वाली फिल्म ‘लालटेन’ में राष्ट्रीय जनता दल (राजद) सुप्रीमो लालू प्रसाद की पत्नी और पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी का किरदार निभाती नजर आयेंगी।

image