Sunday, Oct 21 2018 | Time 16:00 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • राष्ट्रीय आंदोलन की विरासत हथियाना चाहती है भाजपा: कांग्रेस
  • चीन में कोयला खदान में विस्फोट, 22 मजदूर फंसे
  • विदेशी मुद्रा भंडार 5 14 अरब डॉलर घटा
  • एचसीआई को केंद्र द्वारा खारिज करने से छिड़ी बहस
  • विदेशी चश्मे की बजाय देशी चश्मे से देखे भारत को: मोदी
  • स्मृति दिवस पर शहीद सैन्य और पुलिसकर्मियों को श्रद्धांजलि दी
  • कार-मोटरसाइकिल की भिड़ंत में एक की मौत
  • राहुल किसान सम्मेलन से कल छत्तीसगढ़ में करेंगे प्रचार अभियान शुरू
  • दक्षिण गुजरात की दवा कंपनी में आग
  • हादसे के पीड़ितों के पुनर्वास के लिए सामाजिक-आर्थिक स्थिति का विवरण तैयार करने के निर्देश
  • दक्षिण कश्मीर में विस्फोट तीन मरे, कईं घायल
  • वायुसेना के लड़ाकू विमानों ने दिखाये हैरतअंगेज करतब
  • भाजपा का 'समृद्ध मध्यप्रदेश अभियान' प्रारंभ
  • भाजपा ने फिर सत्ता में वापसी के लिए की पिछड़ो को साधने की कोशिश
  • महाराष्ट्र में रिश्वत लेने के आरोप में अधिकारी का सहयोगी गिरफ्तार
मनोरंजन » संगीत Share

“ओ जाने वाले हो सके तो लौट के आना”

“ओ जाने वाले हो सके तो लौट के आना”

मुंबई, 30 अक्टूबर (वार्ता) हर दिल अजीज संगीतकार सचिन देव बर्मन का मधुर संगीत आज भी श्रोताओं को भाव विभोर करता है।
उनके जाने के बाद भी संगीत प्रेमियों के दिल से एक ही आवाज निकलती है ..ओ जाने वाले हो सके तो लौट के आना।
” सचिन देव बर्मन का जन्म 10 अक्टूबर 1906 में त्रिपुरा के शाही परिवार में हुआ।
उनके पिता जाने-माने सितार वादक और ध्रुपद गायक थे।
बचपन के दिनों से ही सचिन देव बर्मन का रूझान संगीत की ओर था और वह अपने पिता से शास्त्रीय संगीत की शिक्षा लिया करते थे।
इसके साथ ही उन्होने उस्ताद बादल खान और भीष्मदेव चट्टोपाध्याय से भी शास्त्रीय संगीत की तालीम ली।
अपने जीवन के शुरूआती दौर में सचिन बर्मन ने रेडियो से प्रसारित पूर्वोतर लोकसंगीत के कार्यक्रमों में काम किया।
वर्ष 1930 तक वह लोकगायक के रूप मे अपनी पहचान बना चुके थे।
बतौर गायक उन्हें वर्ष 1933 में प्रदर्शित फिल्म ‘यहूदी की लड़की’ में गाने का मौका मिला लेकिन बाद मे उस फिल्म से उनके गाये गीत को हटा दिया गया।
उन्होंने 1935 मे प्रदर्शित फिल्म “सांझेर पिदम” में भी अपना स्वर दिया लेकिन वह पार्श्वगायक के रूप में कुछ खास पहचान नहीं बना सके ।
वर्ष 1944 में संगीतकार बनने का सपना लिये सचिन देव बर्मन मुंबई आ गये जहां सबसे पहले उन्हें 1946 में फिल्मिस्तान फिल्म “एट डेज” में बतौर संगीतकार काम करने का मौका मिला लेकिन इस फिल्म के जरिये वह कुछ खास पहचान नहीं बना पाये।
इसके बाद 1947 में उनके संगीत से सजी फिल्म “दो भाई” के पार्श्वगायिका गीतादत्त के गाये गीत “मेरा सुंदर सपना बीत गया” की कामयाबी के बाद वह कुछ हद तक बतौर संगीतकार अपनी पहचान बनाने में सफल हो गये।
 

                    बर्मन दा की फिल्म जगत के किसी कलाकार या गायक के साथ शायद ही अनबन हुयी हो लेकिन 1957 में प्रदर्शित फिल्म “पेइंग गेस्ट” के गाने ‘‘चांद फिर निकला” के बाद लता मंगेशकर और उन्होंने एक साथ काम करना बंद कर दिया।
दोनों ने लगभग पांच वर्ष तक एक दूसरे के साथ काम नहीं किया।
बाद में बर्मन दा के पुत्र आर. डी. बर्मन के कहने पर लता मंगेशकर ने बर्मन दा के संगीत निर्देशन में फिल्म बंदिनी के लिये “मेरा गोरा अंग लइ ले” गाना गाया ।
संगीत निर्देशन के अलावा बर्मन दा ने कई फिल्मों के लिये गाने भी गाये।
इन फिल्मों में सुन मेरे बंधु रे सुन मेरे मितवा, मेरे साजन है उस पार बंदिनी और अल्लाह मेघ दे छाया दे जैसे गीत आज भी श्रोताओं को भाव विभोर करते है।
एस.डी.बर्मन को दो बार फिल्म फेयर के सर्वश्रेष्ठ संगीतकार से नवाजा गया है।
एस.डी.बर्मन को सबसे पहले 1954 में प्रदर्शित फिल्म टैक्सी ड्राइवर के लिये सर्वश्रेष्ठ संगीतकार का फिल्म फेयर पुरस्कार दिया गया।
इसके बाद वर्ष 1973 में प्रदर्शित फिल्म अभिमान के लिये भी वह सर्वश्रेष्ठ संगीतकार के फिल्मफेयर पुरस्कार से नवाजे गये।
फिल्म मिली के संगीत “बड़ी सूनी सूनी है” रिकार्डिंग के दौरान एस.डी.बर्मन अचेतन अवस्था मे चले गये।
हिन्दी सिने जगत को अपने बेमिसाल संगीत से सराबोर करने वाले सचिन दा 31 अक्टूबर 1975 को इस दुनिया को अलविदा कह गये।

                             इसके कुछ समय बाद सचिन देव बर्मन को मायानगरी मुंबई की चकाचौंध कुछ अजीब सी लगने लगी और वह सब कुछ छोड़कर वापस कलकत्ता चले आये।
हालांकि उनका मन वहां भी नहीं लगा और वह अपने आप को मुंबई आने से रोक नहीं पाये ।
सचिन देव बर्मन ने करीब तीन दशक के सिने करियर में लगभग नब्बे फिल्मों के लिये संगीत दिया।
उनके फिल्मी सफर पर नजर डालने पर पता लगता है कि उन्होने सबसे ज्यादा फिल्में गीतकार साहिर लुधियानवी के साथ ही की हैं।
सबसे पहले इस जोड़ी ने 1951 में फिल्म नौजवान के गीत “ठंडी हवाएं लहरा के आये” के जरिये लोगों का मन मोहा।
वर्ष 195।
में ही गुरुदत्त की पहली निर्देशित फिल्म “बाजी” के गीत “तदबीर से बिगड़ी हुयी तकदीर बना दे” में एस. डी. बर्मन और साहिर की जोड़ी ने संगीत प्रेमियों का दिल जीत लिया।
एस.डी.बर्मन और साहिर लुधियानवी की सुपरहिट जोड़ी फिल्म “प्यासा” के बाद अलग हो गयी।
एस. डी. बर्मन की जोड़ी गीतकार मजरूह सुल्तानपुरी के साथ भी बहुत जमी।
देवानंद की फिल्मों के लिये एस. डी. बर्मन ने सदाबहार संगीत दिया और उनकी फिल्मों को सफल बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभायी।
बर्मन दा के पसंदीदा निर्माता निर्देशकों में देवानंद के अलावा विमल राय, गुरूदत्त, ऋषिकेश मुखर्जी आदि प्रमुख रहे है।
 

 

रोहित

रोहित धवन की फिल्म में काम करेंगे ऋतिक रोशन

मुंबई 21 अक्टूबर (वार्ता) बॉलीवुड के माचोमैन ऋतिक रोशन , रोहित धवन की फिल्म में काम करते नजर आ सकते हैं।

बहुआयामी

बहुआयामी कलाकार के रूप में पहचान बनायी कादर खान ने

.जन्मदिवस 22 अक्तूबर  ..
मुंबई. 21 अक्तूबर (वार्ता) भारतीय सिनेमा जगत में कादर खान को एक ऐसे बहुआयामी कलाकार के तौर पर जाना जाता है जिन्होंने सहनायक, संवाद लेखक, खलनायक, हास्य अभिनेता और चरित्र अभिनेता के तौर पर दर्शकों के बीच अपनी पहचान बनायी है।

बालीवुड

बालीवुड में कड़ा संघर्ष करना पड़ा था अजित को

..पुण्यतिथि 22 अक्टूबर  ..
मुंबई. 21 अक्टूबर (वार्ता) दर्शकों में अपनी विशिष्ट अदाकारी और संवाद अदायगी के लिए मशहूर अभिनेता अजित को बालीवुड में एक अलग मुकाम हासिल करने के लिए प्रारंभिक दौर में कड़ा संघर्ष करना पड़ा था।

ईमानदारी

ईमानदारी के साथ काम करना चाहते हैं आयुष्मान

मुंबई 21 अक्टूबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता आयुष्मान खुराना का कहना है कि वह ईमानदारी के साथ काम करते रहना चाहते हैं और अपनी हर फिल्म को पहली फिल्म समझ कर काम करते हैं।

प्रकाश

प्रकाश झा के साथ फिर जोड़ी जमायेंगे अजय देवगन

मुंबई 21 अक्टूबर (वार्ता) बॉलीवुड के सिंघम स्टार अजय देवगन एक बार फिर फिल्मकार प्रकाश झा के साथ काम करते नजर आ सकते हैं।

बालीवुड

बालीवुड के रिबेल स्टार थे शम्मी कपूर

<p>..जन्मदिवस 21 अक्टूबर&nbsp; ..<br /> मुंबई. 20 अक्टूबर (वार्ता)बॉलीवुड में शम्मी कपूर ऐसे अभिनेता रहे हैं जिन्होंने उमंग और उत्साह के भाव को बड़े परदे पर बेहद रोमांटिक अंदाज में पेश किया।

दिशा

दिशा ने अक्षय की फिल्म में काम करने से किया इंकार

मुंबई 20 अक्टूबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री दिशा पटानी ने अक्षय कुमार के साथ एक फिल्म में काम करने से इंकार कर दिया है।

कंचना: मुनि 2

'कंचना: मुनि 2' के हिंदी रीमेक में काम करेंगे अक्षय कुमार

मुंबई 20 अक्टूबर (वार्ता) बॉलीवुड के खिलाड़ी कुमार अक्षय कुमार तमिल सुपरहिट फिल्म 'कंचना: मुनि 2' के हिंदी रीमेक में काम करते नजर आ सकते हैं।

रूमानी

रूमानी फिल्मों के जरिये खास पहचान बनायी यश चोपड़ा ने

..पुण्यतिथि 21 अक्टूबर  ..
मुंबई. 20 अक्टूबर (वार्ता) बॉलीवुड में किंग ऑफ रोमांस यश चोपड़ा को एक फिल्मकार के तौर पर याद किया जाता है जिन्होंने रूमानी फिल्मों के जरिये दर्शकों के बीच अपनी खास पहचान बनायी।

अनिल

अनिल कपूर को फिटनेस गुरू मानते हैं सैफ अली खान

मुंबई 19 अक्टूबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता सैफ अली खान मिस्टर इंडिया अनिल कपूर को फिटनेस गुरू मानते हैं।

पॉप गायिकी को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलायी माइकल जैक्सन ने

पॉप गायिकी को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलायी माइकल जैक्सन ने

..जन्मदिवस 29 अगस्त के अवसर पर ..
मुंबई 28 अगस्त(वार्ता)किंग ऑफ पॉप माइकल जैक्सन को ऐसी शख्सियत के तौर पर याद किया जाता है जिन्होंने पॉप संगीत की दुनिया को पूरी तरह बदलकर अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अपनी पहचान बनायी है।

माय वर्जिन डायरी डिजिटल प्लेटफार्म पर मचा रही धूम

माय वर्जिन डायरी डिजिटल प्लेटफार्म पर मचा रही धूम

नयी दिल्ली 25 मार्च (वार्ता) दिल्ली विश्वविद्यालय के हिन्दू कॉलेज के छात्रों की जिंदगी पर आधारित फिल्म माय वर्जिन डायरी डिजिटल प्लेटफार्म जिओ सिनेमा, एयरटेल मूवीज, बिगफ्लिक्स, चिल्क्स, हंगामा मूवी, नेट्टीवुड आदि के जरिये वैश्विक स्तर पर धूम मचा रही है।

अभिनेता बनना चाहते थे मुकेश

अभिनेता बनना चाहते थे मुकेश

..पुण्यतिथि 27 अगस्त के अवसर पर ..
मुंबई 26 अगस्त (वार्ता)भारतीय सिनेमा जगत में मुकेश ने भले ही अपने पार्श्व गायन से लगभग तीन दशक तक श्रोताओं को दीवाना बनाया लेकिन वह अपनी पहचान अभिनेता के तौर पर बनाना चाहते थे।

अमिताभ की आवाज को नकार दिया था आकाशवाणी ने

अमिताभ की आवाज को नकार दिया था आकाशवाणी ने

..जन्मदिवस 11 अक्तूबर के अवसर पर ..
मुंबई 10 अक्तूबर (वार्ता) बॉलीवुड में अपने दमदार अभिनय से दर्शकों को मंत्रमुग्ध करने वाले महानायक अमिताभ बच्चन को अपने करियर के शुरुआती दिनों में वह दिन भी देखना पड़ा था, जब उनकी आवाज को आकाशवाणी ने नकार दिया था।

image