Monday, Dec 10 2018 | Time 14:28 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • तेरह दिसंबर से अर्धसैनिकों का शुरू होगा अनिश्चितकालीन धरना
  • प्रत्यक्ष कर संग्रह 14 7 प्रतिशत बढ़ा
  • कैप्टन अमरिंदर सिंह काे मिला भाजपा का साथ
  • रक्षा पेंशन अदालत 17 दिसंबर को जालंधर में होगी
  • दिल्ली मेट्रो दुनिया की सातवीं सबसे व्यस्त मेट्रो
  • सोना 145 रुपये चमका; चाँदी 350 रुपये लुढ़की
  • अलीबाबा और 40 चोर, चौकीदार के डर से मचाए शोर -भाजपा
  • शीतकालीन सत्र में विपक्ष सहयोग करे: मोदी
  • पंत ने की विश्व रिकार्ड की बराबरी
  • पंत ने की विश्व रिकार्ड की बराबरी
  • कश्मीर में हड़ताल से जनजीवन प्रभावित
  • ‘मैं सांस नहीं ले पा रहा हूं’, दम तोड़ने से पहले कहा था खशोगी ने
  • इस्लामिक स्टेट पर मुकदमा चलाने की मांग
  • प्रमुख मुद्राओं की तुलना में रुपये की संदर्भ दर
  • भारत विपक्षियों से बेहतर था और जीत का हकदार: विराट
मनोरंजन » संगीत Share

“ओ जाने वाले हो सके तो लौट के आना”

“ओ जाने वाले हो सके तो लौट के आना”

मुंबई, 30 अक्टूबर (वार्ता) हर दिल अजीज संगीतकार सचिन देव बर्मन का मधुर संगीत आज भी श्रोताओं को भाव विभोर करता है।
उनके जाने के बाद भी संगीत प्रेमियों के दिल से एक ही आवाज निकलती है ..ओ जाने वाले हो सके तो लौट के आना।
” सचिन देव बर्मन का जन्म 10 अक्टूबर 1906 में त्रिपुरा के शाही परिवार में हुआ।
उनके पिता जाने-माने सितार वादक और ध्रुपद गायक थे।
बचपन के दिनों से ही सचिन देव बर्मन का रूझान संगीत की ओर था और वह अपने पिता से शास्त्रीय संगीत की शिक्षा लिया करते थे।
इसके साथ ही उन्होने उस्ताद बादल खान और भीष्मदेव चट्टोपाध्याय से भी शास्त्रीय संगीत की तालीम ली।
अपने जीवन के शुरूआती दौर में सचिन बर्मन ने रेडियो से प्रसारित पूर्वोतर लोकसंगीत के कार्यक्रमों में काम किया।
वर्ष 1930 तक वह लोकगायक के रूप मे अपनी पहचान बना चुके थे।
बतौर गायक उन्हें वर्ष 1933 में प्रदर्शित फिल्म ‘यहूदी की लड़की’ में गाने का मौका मिला लेकिन बाद मे उस फिल्म से उनके गाये गीत को हटा दिया गया।
उन्होंने 1935 मे प्रदर्शित फिल्म “सांझेर पिदम” में भी अपना स्वर दिया लेकिन वह पार्श्वगायक के रूप में कुछ खास पहचान नहीं बना सके ।
वर्ष 1944 में संगीतकार बनने का सपना लिये सचिन देव बर्मन मुंबई आ गये जहां सबसे पहले उन्हें 1946 में फिल्मिस्तान फिल्म “एट डेज” में बतौर संगीतकार काम करने का मौका मिला लेकिन इस फिल्म के जरिये वह कुछ खास पहचान नहीं बना पाये।
इसके बाद 1947 में उनके संगीत से सजी फिल्म “दो भाई” के पार्श्वगायिका गीतादत्त के गाये गीत “मेरा सुंदर सपना बीत गया” की कामयाबी के बाद वह कुछ हद तक बतौर संगीतकार अपनी पहचान बनाने में सफल हो गये।
 

                    बर्मन दा की फिल्म जगत के किसी कलाकार या गायक के साथ शायद ही अनबन हुयी हो लेकिन 1957 में प्रदर्शित फिल्म “पेइंग गेस्ट” के गाने ‘‘चांद फिर निकला” के बाद लता मंगेशकर और उन्होंने एक साथ काम करना बंद कर दिया।
दोनों ने लगभग पांच वर्ष तक एक दूसरे के साथ काम नहीं किया।
बाद में बर्मन दा के पुत्र आर. डी. बर्मन के कहने पर लता मंगेशकर ने बर्मन दा के संगीत निर्देशन में फिल्म बंदिनी के लिये “मेरा गोरा अंग लइ ले” गाना गाया ।
संगीत निर्देशन के अलावा बर्मन दा ने कई फिल्मों के लिये गाने भी गाये।
इन फिल्मों में सुन मेरे बंधु रे सुन मेरे मितवा, मेरे साजन है उस पार बंदिनी और अल्लाह मेघ दे छाया दे जैसे गीत आज भी श्रोताओं को भाव विभोर करते है।
एस.डी.बर्मन को दो बार फिल्म फेयर के सर्वश्रेष्ठ संगीतकार से नवाजा गया है।
एस.डी.बर्मन को सबसे पहले 1954 में प्रदर्शित फिल्म टैक्सी ड्राइवर के लिये सर्वश्रेष्ठ संगीतकार का फिल्म फेयर पुरस्कार दिया गया।
इसके बाद वर्ष 1973 में प्रदर्शित फिल्म अभिमान के लिये भी वह सर्वश्रेष्ठ संगीतकार के फिल्मफेयर पुरस्कार से नवाजे गये।
फिल्म मिली के संगीत “बड़ी सूनी सूनी है” रिकार्डिंग के दौरान एस.डी.बर्मन अचेतन अवस्था मे चले गये।
हिन्दी सिने जगत को अपने बेमिसाल संगीत से सराबोर करने वाले सचिन दा 31 अक्टूबर 1975 को इस दुनिया को अलविदा कह गये।

                             इसके कुछ समय बाद सचिन देव बर्मन को मायानगरी मुंबई की चकाचौंध कुछ अजीब सी लगने लगी और वह सब कुछ छोड़कर वापस कलकत्ता चले आये।
हालांकि उनका मन वहां भी नहीं लगा और वह अपने आप को मुंबई आने से रोक नहीं पाये ।
सचिन देव बर्मन ने करीब तीन दशक के सिने करियर में लगभग नब्बे फिल्मों के लिये संगीत दिया।
उनके फिल्मी सफर पर नजर डालने पर पता लगता है कि उन्होने सबसे ज्यादा फिल्में गीतकार साहिर लुधियानवी के साथ ही की हैं।
सबसे पहले इस जोड़ी ने 1951 में फिल्म नौजवान के गीत “ठंडी हवाएं लहरा के आये” के जरिये लोगों का मन मोहा।
वर्ष 195।
में ही गुरुदत्त की पहली निर्देशित फिल्म “बाजी” के गीत “तदबीर से बिगड़ी हुयी तकदीर बना दे” में एस. डी. बर्मन और साहिर की जोड़ी ने संगीत प्रेमियों का दिल जीत लिया।
एस.डी.बर्मन और साहिर लुधियानवी की सुपरहिट जोड़ी फिल्म “प्यासा” के बाद अलग हो गयी।
एस. डी. बर्मन की जोड़ी गीतकार मजरूह सुल्तानपुरी के साथ भी बहुत जमी।
देवानंद की फिल्मों के लिये एस. डी. बर्मन ने सदाबहार संगीत दिया और उनकी फिल्मों को सफल बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभायी।
बर्मन दा के पसंदीदा निर्माता निर्देशकों में देवानंद के अलावा विमल राय, गुरूदत्त, ऋषिकेश मुखर्जी आदि प्रमुख रहे है।
 

 

देश

देश भक्ति से ओतप्रोत गीत लिखने में माहिर थे प्रदीप

.. पुण्यतिथि 11 दिसंबर के अवसर पर ..
मुंबई 10 दिसंबर (वार्ता) यूं तो भारतीय सिनेमा जगत में वीरों को श्रद्धांजलि देने के लिये अब तक न जाने कितने गीतों की रचना हुयी है लेकिन ..ऐ मेरे वतन के लोगो जरा आंखो मे भर लो पानी जो शहीद हुये है उनकी जरा याद करो कुर्बानी .. जैसे देश प्रेम की अद्भुत भावना से ओत प्रोत रामचंद्र द्विवेदी उर्फ कवि प्रदीप के इस गीत की बात ही कुछ और है।

एक

एक महीने में दो फिल्में रिलीज होने पर रोमांचित है सारा

नयी दिल्ली, 09 दिसंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री सारा अली खान एक माह में दो फिल्में रिलीज होने को लेकर रोमांचित है।

संवाद

संवाद अदायगी के बेताज बादशाह हैं शत्रुध्न सिन्हा

..जन्मदिवस नौ दिसंबर  ..
मुंबई 08 दिसंबर (वार्ता) बतौर खलनायक अपने करियर का आगाज कर अपने आक्रमक अंदाज .विद्रोही तेवर और संवाद अदायगी के दम पर शत्रुध्न सिन्हा ने दर्शको को इस कदर दीवाना बनाया कि नायक की तुलना में उन्हें अधिक वाहवाही मिलती ।

संवाद

संवाद अदायगी से खास पहचान बनायी दिलीप कुमार ने

..जन्मदिवस 11 दिसंबर के अवसर पर ..
मुंबई 10 दिसंबर (वार्ता) बॉलीवुड में दिलीप कुमार एक ऐसे अभिनेता के रूप में शुमार किये जाते है जिन्होंने दमदार अभिनय और जबरदस्त संवाद अदायगी से सिने प्रेमियों के दिल पर अपनी अमिट छाप छोड़ी है।

पुलिस

पुलिस ऑफिसर का किरदार निभायेगी स्वरा भास्कर

नयी दिल्ली, 09 दिसंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री स्वरा भास्कर सिल्वर स्क्रीन पर पुलिस ऑफिसर का किरदार निभाती नजर आयेगी।

दिलकश

दिलकश अदाओं से दर्शकों को दीवाना बनाया दीया मिर्जा ने

..जन्मदिन नौ दिसंबर ...
मुबंई 08 दिसंबर(वार्ता)बॉलीवुड में दीया मिर्जा को एक ऐसी अभिनेत्री के तौर पर शुमार किया जाता है जिन्होंने अपनी दिलकश अदाओं से दर्शकों को दीवाना बनाया है।

राघवन

राघवन की फिल्म में फिर काम करेंगे वरूण

मुंबई 10 दिसंबर (वार्ता) बॉलीवुड के चॉकलेटी हीरो वरूण धवन एक बार फिर निर्देशक श्रीराम राघवन की फिल्म में काम करते नजर आ सकते हैं।

रेडियो

रेडियो जॉकी बनेगी करीना

मुंबई 08 दिसंबर(वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री करीना कपूर रेडियो जॉकी बनने जा रही है।

150

150 करोड़ के क्लब में शामिल हुयी 2.0

मुंबई 10 दिसंबर (वार्ता) दक्षिण भारतीय फिल्मों के महानायक रजनीकांत और खिलाड़ी कुमार अक्षय कुमार की जोड़ी वाली फिल्म 2.0. 150 करोड़ के क्लब में शामिल हो गयी है।

फिल्म

फिल्म इंडस्ट्री के पहले एंटी हीरो थे अशोक कुमार

.. पुण्यतिथि 10 दिसंबर के अवसर पर ..
मुंबई, 09 दिसंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता अशोक कुमार की छवि भले ही एक सदाबहार अभिनेता की रही है लेकिन बहुत कम लोगों को पता होगा कि वह फिल्म इंडस्ट्री के पहले ऐसे अभिनेता हुये जिन्होंने एंटी हीरो की भूमिका भी निभाई थी।

पॉप गायिकी को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलायी माइकल जैक्सन ने

पॉप गायिकी को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलायी माइकल जैक्सन ने

..जन्मदिवस 29 अगस्त के अवसर पर ..
मुंबई 28 अगस्त(वार्ता)किंग ऑफ पॉप माइकल जैक्सन को ऐसी शख्सियत के तौर पर याद किया जाता है जिन्होंने पॉप संगीत की दुनिया को पूरी तरह बदलकर अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अपनी पहचान बनायी है।

माय वर्जिन डायरी डिजिटल प्लेटफार्म पर मचा रही धूम

माय वर्जिन डायरी डिजिटल प्लेटफार्म पर मचा रही धूम

नयी दिल्ली 25 मार्च (वार्ता) दिल्ली विश्वविद्यालय के हिन्दू कॉलेज के छात्रों की जिंदगी पर आधारित फिल्म माय वर्जिन डायरी डिजिटल प्लेटफार्म जिओ सिनेमा, एयरटेल मूवीज, बिगफ्लिक्स, चिल्क्स, हंगामा मूवी, नेट्टीवुड आदि के जरिये वैश्विक स्तर पर धूम मचा रही है।

रियलिटी शो अवसर सिद्ध करने का मजबूत प्लेटफार्म : तान्या

रियलिटी शो अवसर सिद्ध करने का मजबूत प्लेटफार्म : तान्या

लखनऊ 26 अक्टूबर (वार्ता) नन्ही पार्श्व गायिका तान्या तिवारी का मानना है कि छोटे पर्दे पर रियलिटी शो की भरमार ने चुनौतियों के बावजूद अवसरों को यर्थाथ में बदलने का मजबूत प्लेटफार्म युवा गायकों को मुहैया कराया है।

देश भक्ति से ओतप्रोत गीत लिखने में माहिर थे प्रदीप

देश भक्ति से ओतप्रोत गीत लिखने में माहिर थे प्रदीप

.. पुण्यतिथि 11 दिसंबर के अवसर पर ..
मुंबई 10 दिसंबर (वार्ता) यूं तो भारतीय सिनेमा जगत में वीरों को श्रद्धांजलि देने के लिये अब तक न जाने कितने गीतों की रचना हुयी है लेकिन ..ऐ मेरे वतन के लोगो जरा आंखो मे भर लो पानी जो शहीद हुये है उनकी जरा याद करो कुर्बानी .. जैसे देश प्रेम की अद्भुत भावना से ओत प्रोत रामचंद्र द्विवेदी उर्फ कवि प्रदीप के इस गीत की बात ही कुछ और है।

संवाद अदायगी से खास पहचान बनायी दिलीप कुमार ने

संवाद अदायगी से खास पहचान बनायी दिलीप कुमार ने

..जन्मदिवस 11 दिसंबर के अवसर पर ..
मुंबई 10 दिसंबर (वार्ता) बॉलीवुड में दिलीप कुमार एक ऐसे अभिनेता के रूप में शुमार किये जाते है जिन्होंने दमदार अभिनय और जबरदस्त संवाद अदायगी से सिने प्रेमियों के दिल पर अपनी अमिट छाप छोड़ी है।

image