Tuesday, Oct 27 2020 | Time 21:21 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • नया कृषि कानून किसानों की बजाय पूंजीपतियों को लाभ देने वाला- बृजमोहन
  • बिजनेस मीट में कई कम्पनियों ने खट्टर और चौटाला से मुलाकात में दिये बिजनेस प्रस्ताव
  • निशंक ने मोदी पर केंद्रित पुस्तक का किया विमोचन
  • साहा और वार्नर के विस्फोट से हैदराबाद के 219
  • गोण्डा में गैंगेस्टर की आठ करोड़ साढ़े 41 लाख की सम्पत्ति जब्त
  • कोरोना गुजरात मामले दो अंतिम गांधीनगर
  • खट्टर गुरूग्राम में दिखाई 20 नई एम्बूलेंस को हरी झंडी
  • 992 नए मामले,1238 हुए स्वस्थ, सक्रिय मामलों में और कमी
  • हरियाणा में कोरोना के 1248 नये मामले, कुल संख्या 160705 हुई, 1750 मौतें
  • कीमती धातुओं में घटबढ़
  • केरल में कोरोना के सक्रिय मामले घटकर 92000
  • बिग बैश लीग नहीं खेलेंगे डिविलियर्स
  • बिग बैश लीग नहीं खेलेंगे डिविलियर्स
  • दिल्ली में कोरोना के सक्रिय मामले 28, 000 के करीब
  • अबकी बार नरेंद्र मोदी चार सौ के पार: प्रहलाद मोदी
राज्य » पंजाब / हरियाणा / हिमाचल


दुष्यंत चौटाला भी दें इस्तीफा : योगेश सिहाग

हिसार, 18 सितंबर (वार्ता) कांग्रेस नेता एडवोकेट योगेश सिहाग ने आज कहा कि विवादास्पद कृषि अध्यादेशों के मुद्दे पर केंद्र की भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) नीत राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) सरकार में शामिल शिरोमणि अकाली दल (शिअद) की हरसिमरत कौर बादल के केंद्रीय मंत्री पद से इस्तीफे के बाद अब हरियाणा के उप मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला को भी इस्तीफा देना चाहिए।
श्री सिहाग ने यहां जारी बयान में हरियाणा की भाजपा नीत गठबंधन सरकार में शामिल जननायक जनता पार्टी (जजपा) से कृषि अध्यादेशों पर अपना रुख साफ करने को कहा। उन्होंने इसीके साथ गठबंधन सरकार का समर्थन कर रहे निर्दलीय विधायकों से भी कृषि अध्यादेशों पर अपना रुख साफ करने को कहा।
श्री सिहाग ने कहा कि लोकसभा में पारित कृषि अध्यादेश किसान विरोधी हैं, इस बात पर केंद्र सरकार में शामिल रहे शिअद की सांसद श्रीमती बादल ने केंद्रीय मंत्रिमंडल से इस्तीफा देकर मुहर लगा दी है।
उन्होंने कहा कि अपने आपको किसानों के सबसे बड़ा हितैषी होने का दावा करने वाले दुष्यंत चौटाला यदि सही मायने में किसानों के सच्चे हितैषी हैं तो उनको प्रदेश की भाजपा सरकार से समर्थन वापस लेना चाहिए। यदि वह अब भी सरकार में बने रहते हैं तो इसका सीधा यही मतलब निकलेगा कि उनको किसानों की नहीं अपितु सत्ता की मलाई की चिंता है।
श्री सिहाग ने कहा कि जजपा के साथ-साथ प्रदेश की भाजपा सरकार को समर्थन देने वाले निर्दलीय विधायकों को भी इसको लेकर अपना स्टैंड साफ करना चाहिए और यदि वह किसानों के साथ हैं तो उनको प्रदेश सरकार से अपना समर्थन वापस लेना चाहिए और किसानों के आंदोलन में आगे आकर भागीदारी करनी चाहिए।
उन्होंने आरोप लगाया कि कृषि अध्यादेश किसानों के हितों के खिलाफ हैं और यह केवल पूंजीपतियों को लाभ पहुंचाने के लिए लाए गए हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस कृषि अध्यादेशों के खिलाफ है और उसका हर स्तर पर विरोध कर रही है।
सं महेश विक्रम
वार्ता
image