Wednesday, Nov 20 2019 | Time 20:04 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • गन्ने का समर्थन मूल्य बढ़ाने की माँग
  • मोदी महालेखाकारों के सम्‍मेलन का उद्धाटन करेंगे
  • पचासवें अंतरराष्ट्रीय फ़िल्म समारोह का रंगारंग एवं संगीतमय शुभारंभ
  • राजस्थान न्यायिक परीक्षा में 21वें रैंक पर रही नितिशा का गांव में भव्य स्वागत
  • उ़ नि जीराज सिंह की अभियोजन स्वीकृति के विरूद्ध दायर याचिका खारिज:अवस्थी
  • दुष्कर्म एवं परिवार के तीन सदस्यों की हत्या के मामले में चार लोगों को उम्रकैद
  • फोटो कैप्शन: दूसरा सेट
  • मध्यप्रदेश में 25 नवंबर के बाद पड़ेगी तेज सर्दी
  • खाद्य तेलों में टिकाव, चुनिंदा दालों में नरमी, गेहूँ गरम, चीनी स्थिर
  • प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना में शेष लाभार्थियों को किया जाएगा शामिल
  • हिमस्खलन में शहीद जवान मनीष की राजकीय सम्मान के साथ अंत्येष्टि
  • भाजपा के बागी विधायक फूलचंद को झामुमो ने सिंदरी से बनाया उम्मीदवार
  • चांदीपुर परीक्षण केन्द्र को सिंगापुर के लिए खोल सकता है भारत
राज्य » राजस्थान


मॉब लिचिंग की जांच के लिये संभागीय आयुक्त अलवर पहुंचे

अलवर, 27 सितम्बर (वार्ता) राजस्थान में अलवर जिले के चौपांकी पुलिस थाना क्षेत्र के फलसा गांव में 16 जुलाई को हरीश जाटव के साथ मारपीट के बाद हुई मौत के मामले की जांच के लिये जयपुर के संभागीय आयुक्त के सी वर्मा आज घटनास्थल पर पहुंचे और जानकारी जुटाई।
श्री वर्मा को राज्य सरकार ने 15 दिन में जांच करके रिपोर्ट देने के निर्देश दिए हैं। मामले के अनुसार 16 जुलाई 2019 को चोपानकी पुलिस थाना के झिवाणा गांव निवासी हरीश जाटव मोटरसाइकिल से जा रहा था कि फलसा गांव में मोटरसाइकिल एक महिला से टकरा गई। तब वहां एक समुदाय के लोगों ने उसके साथ जबरदस्त मारपीट की जिससे उसकी मौत हो गई। इससे स्थानीय ग्रामीणों में आक्रोश व्याप्त हो गया। इस मामले में आरोपियों के खिलाफ किसी तरह की कार्रवाई नहीं होने से क्षुब्ध हरीश के पिता ने कुछ दिन बाद विषाक्त पदार्थ का सेवन करके आत्महत्या कर ली। उसके पिता का आरोप था कि आरोपी पक्ष मामला वापस लेने के लिए उस पर दबाव बना रहे थे और जान से मारने की धमकी दे रहे थे। इसकी पुलिस को इत्तिला दिये जाने के बावजूद कोई कार्रवाई नहीं की गई।
उधर श्री वर्मा ने बताया कि झिवाणा गांव निवासी हरीश जाटव की मौत के मामले में राज्य सरकार के आदेश अनुसार प्रशासनिक जांच के लिए वह आए हैं। इस मामले में पुलिसकर्मी, ग्रामीणों, इस घटना के प्रत्यक्षदर्शियों और परिजनों के बयान लिए जाएंगे। इस मामले में कहां और किस स्तर पर गलती हुई है, कहां कमी रही है, इसकी रिपोर्ट तैयार की जाएगी। उन्होंने बताया कि 15 दिन में पारदर्शिता से जांच करके रिपोर्ट सरकार को सौंपी जाएगी।
जैन सुनील
वार्ता
image