Sunday, Jul 12 2020 | Time 18:15 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • त्रिपुरा में भाजपा और आईपीएफटी के बीच नहीं बनी सहमति
  • कर्नाटक के पर्यटन मंत्री कोरोना संक्रमित
  • जापान में कोरोना मामले 22000 के करीब, संक्रमण के दूसरे दौर की आशंका
  • कोरोना के 19,000 से ज्यादा मरीज ठीक, रिकवरी दर 62 93 प्रतिशत
  • 14 फुटबॉलरों के कोरोना संक्रमित होने से मैच रद्द
  • बलिया में छह और कोरोना पॉजिटिव,संक्रमितों की संख्या 374 पहुंची
  • बक्सर में बैंक लूटकांड में शामिल चार अपराधी गिरफ्तार
  • देवरिया पुलिस ने चार टाॅप टेन सहित आठ बदमाशों पर की गैंगस्टर के तहत कार्रवाई
  • 200 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए लड़खड़ाया विंडीज
  • कोरोना-पंजाब-जिला प्रशासन
  • उप्र के कई जिलों में फसलों को नुकसान पहुंचाने के बाद लखनऊ शहर पहुंचा टिड्डी दल
  • त्रिपुरा स्टेट राइफल में अब महिलाओं को भी किया जाएगा शामिल
  • बंगलादेश में कोरोना मामले 1 84 लाख के करीब, रिकवरी दर 51 फीसदी
  • बारामूला में सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ , दो आतंकवादी ढेर
  • रूस की सेचेनोव यूनिवर्सिटी में कोरोना वैक्सीन का परीक्षण
राज्य » राजस्थान


मॉब लिचिंग की जांच के लिये संभागीय आयुक्त अलवर पहुंचे

अलवर, 27 सितम्बर (वार्ता) राजस्थान में अलवर जिले के चौपांकी पुलिस थाना क्षेत्र के फलसा गांव में 16 जुलाई को हरीश जाटव के साथ मारपीट के बाद हुई मौत के मामले की जांच के लिये जयपुर के संभागीय आयुक्त के सी वर्मा आज घटनास्थल पर पहुंचे और जानकारी जुटाई।
श्री वर्मा को राज्य सरकार ने 15 दिन में जांच करके रिपोर्ट देने के निर्देश दिए हैं। मामले के अनुसार 16 जुलाई 2019 को चोपानकी पुलिस थाना के झिवाणा गांव निवासी हरीश जाटव मोटरसाइकिल से जा रहा था कि फलसा गांव में मोटरसाइकिल एक महिला से टकरा गई। तब वहां एक समुदाय के लोगों ने उसके साथ जबरदस्त मारपीट की जिससे उसकी मौत हो गई। इससे स्थानीय ग्रामीणों में आक्रोश व्याप्त हो गया। इस मामले में आरोपियों के खिलाफ किसी तरह की कार्रवाई नहीं होने से क्षुब्ध हरीश के पिता ने कुछ दिन बाद विषाक्त पदार्थ का सेवन करके आत्महत्या कर ली। उसके पिता का आरोप था कि आरोपी पक्ष मामला वापस लेने के लिए उस पर दबाव बना रहे थे और जान से मारने की धमकी दे रहे थे। इसकी पुलिस को इत्तिला दिये जाने के बावजूद कोई कार्रवाई नहीं की गई।
उधर श्री वर्मा ने बताया कि झिवाणा गांव निवासी हरीश जाटव की मौत के मामले में राज्य सरकार के आदेश अनुसार प्रशासनिक जांच के लिए वह आए हैं। इस मामले में पुलिसकर्मी, ग्रामीणों, इस घटना के प्रत्यक्षदर्शियों और परिजनों के बयान लिए जाएंगे। इस मामले में कहां और किस स्तर पर गलती हुई है, कहां कमी रही है, इसकी रिपोर्ट तैयार की जाएगी। उन्होंने बताया कि 15 दिन में पारदर्शिता से जांच करके रिपोर्ट सरकार को सौंपी जाएगी।
जैन सुनील
वार्ता
image