Tuesday, Mar 2 2021 | Time 08:46 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • आज का इतिहास (प्रकाशनार्थ 03 मार्च )
  • मराठवाड़ा में कोरोना के 647 नये मामले, आठ लोगों की मौत
  • पेट्रोल डीजल की कीमतों में लगातार तीसरे दिन टिकाव
  • वेनेजुएला ने सिनोफार्म की कोरोना वैक्सीन को दी मंजूरी
  • चेक गणराज्य ने उद्यमों तथा कंपनियों में कोरोना की जांच को किया अनिवार्य
  • ब्रिटेन नहीं करेगा लॉकडाउन के नियमों में बदलाव
  • मोल्दोवा खरीदा कोरोका की वैक्सीन की 10 लाख खुराक
  • 'देशभर में सोमवार को 1 47 लाख से ज्यादा लोगों को दी गयी वैक्सीन की डोज'
राज्य » राजस्थान


राजस्थान में रात्रि कर्फ्यू समाप्त

जयपुर, 18 जनवरी (वार्ता) राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने पिछले कुछ समय से कोरोना संक्रमण के मामलों में लगातार कमी को देखते हुए राज्य के 13 जिला मुख्यालयों में लागू रात्रिकालीन कर्फ्यू हटाने के साथ ही शाम सात बजे के बाद बाजार बंद करने के प्रतिबंध को हटाने के निर्देश दिए हैं।
श्री गहलोत ने विभिन्न सामाजिक, धार्मिक एवं राजनीतिक आयोजनों के लिए जिला कलेक्टर की पूर्वानुमति की अनिवार्यता समाप्त करने के भी निर्देश दिये। अब सूचना देना ही पर्याप्त होगा। हालांकि इन आयोजनों में शामिल होने वाले लोगों की अधिकतम संख्या पूर्व की भांति रहेगी।
श्री गहलोत सोमवार को मुख्यमंत्री निवास पर वीडियो कॉन्फ्रेंस से कोविड-19 संक्रमण की स्थिति तथा टीकाकरण की समीक्षा करते हुए कहा कि कहा कि राज्य में कोरोना के मामलों में गिरावट के बावजूद मास्क पहनने, दो गज दूरी बनाए रखने, भीड़-भाड़ से दूर रहने के कोविड प्रोटोकॉल की पालना में कोई ढिलाई नहीं बरतनी है। तभी कोरोना संक्रमण के फैलाव को रोक पाएंगे। उन्होंने कहा कि ऎसी नौबत न आए कि फिर से प्रतिबंध लगाने पर मजबूर होना पड़े।
श्री गहलोत ने निजी अस्पतालों एवं लैब्स में आरटी-पीसीआर जांच की दर 800 रूपए से घटाकर 500 रूपए करने के भी निर्देश दिए। मुख्यमंत्री के इस निर्णय से प्रदेशवासियों को कम दरों पर जांच सुविधा उपलब्ध हो सकेगी।
श्री गहलोत ने कहा कि बेहतरीन प्रबंधन और प्रदेशवासियों के सहयोग से राजस्थान में कोरोना की स्थिति काफी नियंत्रण में है। राज्य में रिकवरी दर राष्ट्रीय औसत 96.58 के मुकाबले 97.53 प्रतिशत हो गई है। एक्टिव मामलों की संख्या भी लगातार घट रही है। कई जिलों में पॉजिटिव मामले शून्य तक आ गए हैं। ऐसे में रात्रिकालीन कर्फयू तथा बाजार खुलने के समय पर पाबंदी हटाई गई है। उन्होंने अन्य गंभीर बीमारियों के मरीजों के लिए निजी अस्पतालों में बेड्स की उपलब्धता सुनिश्चित हो इसके लिए 100 बेड से अधिक क्षमता वाले निजी अस्पतालों में कोविड के लिए आरक्षित बेड की संख्या 40 प्रतिशत से घटाकर न्यूनतम 10 बेड करने के निर्देश दिये।
श्री गहलोत ने प्रदेश में कोविड-19 के वैक्सीनेशन कार्यक्रम की समीक्षा के दौरान कहा कि राज्य में पहले ही दिन शनिवार को राष्ट्रीय औसत 63.66 प्रतिशत से करीब 10 प्रतिशत अधिक कुल 73.79 प्रतिशत वैक्सीन लगवाया जाना उत्साहजनक है और यह इस बात का संकेत है कि कोरोना प्रबंधन की तरह ही हम टीकाकरण में भी अव्वल रहेंगे। उन्होंने कहा कि वैक्सीन पूरी तरह सुरक्षित है और प्राथमिकता के क्रम में जिन लोगों को यह वैक्सीन लगनी है वह बिना किसी हिचक के टीका लगवाएं।
सुनील
वार्ता
image