Sunday, Jan 19 2020 | Time 19:18 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • चंबा में महसूस किये गये भूकंप के हल्के झटके
  • सैनिक की शहादत पर मुख्यमंत्री ने जताया शोक
  • भारत ने हॉलैंड को शूट आउट में हराया
  • भारत ने हॉलैंड को शूट आउट में हराया
  • हरदोई पुलिस ने असलहा बनाने की फैक्ट्री का किया पर्दाफाश,तीन गिरफ्तार
  • बागपत पुलिस ने बरामद की 60 लाख की शराब,एक गिरफ्तार
  • डूंगरपुर ट्राफी के लिये यूपी अंडर 14 टीम का एलान
  • यूपी के खिलाफ दिल्ली की पकड़ मजबूत
  • यूपी के खिलाफ दिल्ली की पकड़ मजबूत
  • सिरसा में महिला, बालक के शव मिले
  • बर्फबारी से अपनी ही शादी में नहीं पहुंच सका जवान
  • यशस्वी, प्रियम और ध्रुव के अर्धशतक
  • यशस्वी, प्रियम और ध्रुव के अर्धशतक
  • आरिफ खान ने केरल सरकार से सीएए को लेकर रिपोर्ट मांगी
राज्य » पंजाब / हरियाणा / हिमाचल


हिमाचल प्रदेश विधानसभा का शीतकालीन सत्र कल से

हिमाचल प्रदेश विधानसभा का शीतकालीन सत्र कल से

धर्मशाला, 08 दिसंबर (वार्ता) हिमाचल प्रदेश विधानसभा का सत्र कल दोपहर बाद से आरंभ होगा और 14 दिसंबर तक चलेगा।

यह जानकारी विधानसभा के अध्यक्ष डाॅ राजीव बिंदल ने रविवार को धर्मशाला स्थित तपोवन विधानसभा सचिवालय में पत्रकारों को दी। उन्होंने कहा कि इस सत्र की तैयारियां पूर्ण कर ली हैं। सत्र में छह बैठकें निर्धारित की गई हैं। सत्र में 12 दिसंबर का दिन गैर सरकारी सदस्य कार्य दिवस के लिये निर्धारित किया गया है।

डॉ. बिंदल ने कहा कि इस सत्र में कुल 434 तारांकित व अतरांकित प्रश्नों की सूचनायें प्राप्त हुई हैं। इसमें सदस्यों से 270 तारांकित प्रश्न प्राप्त हुये हैं जबकि 128 अतरांकित प्रश्नों की सूचनायें भी प्राप्त हुई हैं। इसके अतिरिक्त स्थगित कुल 36 प्रश्नों में 25 तारांकित तथा 11 अतरांकित प्रश्न हैं।

उन्होंने बताया कि उनका पक्ष तथा विपक्ष से आग्रह रहेगा कि सत्र के संचालन में अपना रचनात्मक सहयोग दें। सदन ही लोगों की समस्याओं को उठाने व उनके समाधान का सबसे सर्वोत्तम स्थान है और इसका इस्तेमाल सदस्यों द्वारा जनहित से जुडे मुद्दों को उठाने के लिये करना चाहिये। उन्होंने कहा कि सदस्य नियमानुसार चर्चा में भाग लें तथा सदन के समय का सार्थक चर्चाओं के लिए सदुपयोग करें।

उनके अनुसार इस सत्र में पहली बार शामिल हो रहे नवनिर्वाचित सदस्यों विशाल नैहरिया व रीना कश्यप को शुभाकामनायें देते हुये आशा व्यक्त की वे संसदीय परम्पराओं एवं मर्यादाओं का सम्मान करते हुये सदन की गरिमा बढ़ाने में अपना महत्वपूर्ण योगदान देंगे और अपने-अपने निर्वाचन क्षेत्रों की समस्याओं को सदन में प्रमुखता से रखेंगे।

सं शर्मा

वार्ता

image